एडवांस्ड सर्च

आवरण कथा-2019 के नए चेहरे

आज चंद्राणी, जिनके पिता संजीव मुर्मू सरकारी कर्मचारी और मां उर्वशी सरकारी महकमे आइसीडीएस (एकीकृत बाल विकास सेवा) से रिटायर हो चुकी हैं, 17वीं लोकसभा की सबसे कम उम्र की सदस्य हैं.

Advertisement
कौ‌शिक डेकानई दिल्ली, 06 June 2019
आवरण कथा-2019 के नए चेहरे 2019 के नए चेहरे

ओडिशा के क्योंझर जिले के टिकरगुमुरा गांव की चंद्राणी मुर्मू अभी कुछेक महीने पहले तक एक आम लड़की जैसी ही थीं. एसओए (शिक्षा 'ओ' अनुसंधान) यूनिवर्सिटी से बी.टेक. करने के बाद वे नौकरी की तलाश में थीं और प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रही थीं. सियासत दिमाग में दूर-दूर तक नहीं थी. मगर उनके चाचा हरमोहन सोरेन को 25 बरस की इस आदिवासी लड़की में ज्यादा संभावनाएं नजर आईं. सामाजिक कार्यकर्ता होने के नाते उन्होंने उसे सियासी करियर पर संजीदगी से विचार करने का जोश दिलाया और बीजेडी (बीजू जनता दल) के बड़े नेताओं से मिलवाया. पार्टी 2019 के आम चुनाव में क्योंझर सीट से पढ़ी-लिखी महिला प्रत्याशी की तलाश में थी.

आज चंद्राणी, जिनके पिता संजीव मुर्मू सरकारी कर्मचारी और मां उर्वशी सरकारी महकमे आइसीडीएस (एकीकृत बाल विकास सेवा) से रिटायर हो चुकी हैं, 17वीं लोकसभा की सबसे कम उम्र की सदस्य हैं. वे उन सात महिला सांसदों में एक हैं जो ओडिशा से चुनकर आई हैं. इसी की बदौलत ओडिशा पहला राज्य बन गया है जहां से एक-तिहाई सांसद, यानी लोकसभा में राज्य की नुमाइंदगी करने वाले कुल 21 सांसदों में 33 फीसदी महिलाएं हैं. उन्हें हीरा या चंदू कहने वाले उनके दोस्तों और परिवार के लिए यह किसी परी कथा से कम नहीं है.

उधर ठेठ दक्षिण के केरल में एक दलित युवती ने उम्मीदों के उलट विजेता बनकर राजनैतिक प्रतिष्ठान को हैरान कर दिया. राम्या हरिदास के पिता केरल के कोझिकोड जिले के कुट्टिकट्टूरगांव में दिहाड़ी मजदूर और दर्जी हैं. वे अलातुर निर्वाचन क्षेत्र से जीतकर आई हैं, जहां कांग्रेस की अगुआई वाले यूनाइटेड डेमोक्रेडिक फ्रंट की ओर से चुनाव लड़कर उन्होंने पक्के विजेता माने जा रहे वाम लोकतांत्रिक मोर्चे (एलडीएफ) के पी.के. बीजू को 1,58,968 वोटों से हराया. राजनीति में नई राम्या 2011 में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर से आयोजित एक प्रतिभा खोज कार्यक्रम के विजेताओं में चुनी गई थीं. वे पार्टी और खुद राहुल का विशेष ध्यान और मार्गदर्शन हासिल कर चुकी हैं. वे अब राज्य से चुनी गई दूसरी दलित महिला सांसद और केरल की अकेली महिला सांसद हैं.

जो बात चंद्रमणि और राम्या की कहानी को और ज्यादा दिलकश बनाती है, वह यह कि उन्होंने अपने रास्ते में आई कई रुकावटों से पार पाकर जीत हासिल की है. दोनों ने सियासी तौर पर तजुर्बेकार और कहीं ज्यादा संसाधनों से लैस प्रतिद्वंद्वियों का मुकाबला किया और दोनों को ही लैंगिक लांछनों का सामना करना पड़ा. भाजपा ने चंद्राणी के पिता के नाम में भिन्नता को लेकर मुख्य चुनाव अधिकारी से शिकायत की.

चंद्राणी की एडिट की गई तस्वीरों के साथ एक अश्लील वीडियो सोशल मीडिया पर चलाया गया. राम्या ने माकपा के दिग्गज नेता और एलडीएफ के संयोजक ए. विजयराघवन के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई कि उन्होंने उनके बारे में सार्वजनिक रूप से बोलते हुए 1990 के दशक के आइसक्रीम पार्लर सेक्स स्कैंडल का गंदे ढंग से जिक्र किया था. इससे पैदा हुए आक्रोश का मुकाबला करने की गरज से माकपा ने इसे सियासी घुमाव देने की कोशिश की.

इन दोनों की प्रेरक कहानियों के बीच ओडिशा की ही एक और तस्वीर साबित करती है कि राजनीति में उम्र महज एक आंकड़ा है. यह तस्वीर है 64 वर्षीय प्रताप सारंगी की, जो पहली बार सांसद बने हैं और बालेश्वर से भाजपा के टिकट पर जीते हैं. उन्होंने अपने नजदीकी प्रतिद्वंद्वी उद्योगपति से राजनीतिक बने पूर्व सांसद बीजेडी के रवींद्र जेना को 12,000 से ज्यादा वोटों से हराया. जब से सारंगी की एक तस्वीर सामने आई है, जिसमें वे अपनी बांस और फूस से बनी झोंपड़ी में आलथी-पालथी मारकर बैठे हैं और दिल्ली आने के लिए झोला जमा रहे हैं, तभी से वे सोशल मीडिया पर छा गए हैं.

बालेश्वर जिले के नीलगिरि ब्लॉक में रहने वाले सारंगी अपनी सादगी के लिए जाने जाते हैं. बालेश्वर के फकीर मोहन कॉलेज से ग्रेजुएट होने के बाद वे रामकृष्ण मठ में महंत बनना चाहते थे, पर वहां से उन्हें अपने इलाके में सामाजिक काम करने के लिए प्रोत्साहन मिला. चुनावी राजनीति में यह उनका पहला कदम नहीं है. उन्होंने पहला चुनाव 2004 में भाजपा के टिकट पर नीलगिरि विधानसभा सीट से जीता था और फिर निर्दलीय चुनाव लड़कर 2009 में भी यही कामयाबी दोहराई थी.

2014 के लोकसभा चुनाव में वे हालांकि रवींद्र जेना से हार गए थे. अविवाहित सारंगी पिछले साल अपनी मां की मृत्यु तक उन्हीं के साथ रहते थे और बताया जाता है कि विधायक के तौर पर मिली पेंशन का एक हिस्सा वे क्षेत्र के कुछ बच्चों की पढ़ाई पर खर्च कर चुके हैं. धाराप्रवाह संस्कृत बोलने वाले सारंगी को मयूरभंज और बालेश्वर के आदिवासी इलाकों में स्कूल खोलने का श्रेय भी दिया जाता है. वे क्षेत्र में अक्सर साइकिल पर चलते देखे जाते थे, पर 2019 का प्रचार उन्होंने ऑटोरिक्शा में किया.

चंद्रमणि, राक्वया और सारंगी सरीखे सांसद उम्मीद जगाते हैं कि चुनावी राजनीति में कामयाब होने के लिए धनबल और बाहुबल की जरूरत नहीं है. मगर 2019 में लोकसभा में पहली बार चुनकर आने वालों में एक दूसरे किस्म की जंग में माहिर सियासतदां भी हैं—समाजवादी पार्टी के आजम खान, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और दिग्गज प्रतिद्वंद्वी को पछाडऩे का सेहरा बांधकर आईं स्मृति ईरानी सरीखे लोग—जिन्होंने पहली बार चुने गए 267 सांसदों में जगह बनाई—अलबत्ता पहली बार चुनकर आने वाले सांसदों की तादाद 2014 के 315 और 2009 के 302 से इस बार घट गई है. इनमें सेलेब्रिटी भी हैं—पंजाब से ऐक्टर सनी देओल, दिल्ली से क्रिकेटर गौतम गंभीर, गायक हंसराज हंस और पश्चिम बंगाल से अदाकारा मिमी चक्रवर्ती और नुसरत जहां.

पहली बार के सांसदों को एक ही कसौटी पर चुना गया है—उनकी जीतने की क्षमता. यही वजह है कि पहली बार वाले सांसदों में सियासी खानदान वालों की तादाद (25 फीसदी) लोकसभा के कुल सदस्यों में मौजूद सियासी खानदान वालों (30 फीसदी) से कम है. कुछ जाने-माने अपवादों को छोड़ दें—मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ के बेटे नकुल, तमिलनाडु में पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति और तमिलनाडु तथा आंध्र प्रदेश में क्रमश: एम.के. स्तालिन और जगन रेड्डी की सियासी उपलब्धियों को छोड़ दें तो सियासी परिवारों के पहली बार चुनाव लड़े ज्यादातर सदस्य नाकाम रहे.

समय-समय पर सांसदों की न्यूनतम शैक्षिक योग्यता तय करने की मांग उठती रही है, पर पहली बार आए 267 सांसदों की फेहरिस्त कुछ दिलचस्प आंकड़े सामने लाती है—191, यानी 72 फीसदी कम से कम ग्रेजुएट, 61 पोस्ट-ग्रेजुएट और 11 डॉक्टरेट उपाधि वाले हैं. किसान, कारोबारी या वकीलों का छद्म बाना धारण करके आने वाले पेशेवर सियासतदानों का इस लिस्ट में बोलबाला है, वहीं हैरानी की बात यह कि 17 डॉक्टर भी निचले सदन में चुनकर आए हैं.

पहली बार चुनकर आने वाले युवाओं की फेहरिस्त भी लंबी है—159 तो 41 से 60 के बीच की उम्र के हैं और 44 तो 40 से भी कम उम्र के हैं. चंद्राणी सबसे युवा हैं, वहीं दूसरे छोर पर 79 बरस के मोहम्मद सादिक हैं जो असम के फरीदकोट से चुनकर आए हैं. चंद्राणी और राम्या भले दलित और आदिवासी उभार को व्यक्त करती हों, हकीकत ये भी है कि पहली बार के सांसदों में 75 ऊंची जातियों के हैं—तमाम सामाजिक समूहों में सबसे ज्यादा.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay