एडवांस्ड सर्च

आवरण कथाः सेक्स सर्वे / सेक्स सुख-सेक्स रुझान कैसे-कैसे

सेक्स रुझान कैसे चारों ओर और आसपास की दुनिया भले तेजी से बदल रही हो मगर इंडिया टुडे के 17वें सेक्स सर्वेक्षण से पता चलता है कि सेक्स के मामले में भारतीय लोग हैं लकीर के फकीर

Advertisement
aajtak.in
प्राची भुचर 04 November 2019
आवरण कथाः सेक्स सर्वे / सेक्स सुख-सेक्स रुझान कैसे-कैसे सेक्स सर्वे

वह तेजी से अपनी उंगलियां स्मार्टफोन पर उन फिल्मों को स्क्रॉल करते हुए चला रही है जो सेक्स टाइप करने के बाद उभरकर उसके मोबाइल स्क्रीन पर सामने आई हैं. वे पुणे के पेइंग गेस्ट हाउस में अगल-बगल लेटे हुए हैं. अपने फोन पर चल रहे इंटरनेट के जरिए वह बिना किसी परेशानी के उस दुनिया में पहुंच जाती है जो उसे बहुत रोमांचक और मजेदार लगती है. रह-रहकर स्क्रीन पर उसके हाथ के पंजों से बड़े आकार वाली पुरुष लिंग की तस्वीरें उभरती हैं जिन्हें वह बड़े ध्यान से देखती है. यह बात युवक को कुछ नर्वस कर देती है और वह कुछ संकोच, कुछ शर्मिंदगी में उससे कहता है, ''पता है, ये सामान्य लोग नहीं हैं.'' उम्र के बीसेक साल की शुरुआत में यह युगल अपने फोन के स्क्रीन पर दिख रहे पोर्न वीडियो से प्रेरित होकर कुछ प्रयोग करने को उत्सुक है. जब वे सेक्स-सर्फिंग कर रहे हैं, उस दौरान चैट विंडो पर कोई उनकी जिज्ञासाओं को शांत कर रहा है.

इंटरनेट और मोबाइल फोन ने भारतीय यौन परिदृश्य को बिल्कुल बदल दिया है. ऐसी कोई यौन फंतासी नहीं है जिसकी कल्पना न की जा चुकी हो. आपके दिमाग में कोई फंतासी है, तो चेक करें, निश्चित रूप से वह इंटरनेट पर उपलब्ध होगी. और इंटरेनट की पैठ अब इतनी है कि यह बिना किसी परेशानी के सुलभ है. इसने भारतीय बेडरूम—शहरों ही नहीं, गांवों में भी—का रोमांच बढ़ा दिया है. अब आपको सेक्स से जुड़ी बातों के लिए किसी अश्लील पत्रिका के पन्ने पलटने या फिर छुप-छुपाकर कोई उपन्यास पढऩे या फिल्म देखने की जरूरत नहीं. अब यह सब मोबाइल स्क्रीन को स्वाइप करने की जहमत उठाने भर से मिल जाएगा, वह भी आपके बेडरूम में और बेहद पोशीदा तरीके से. गूगल यह ज्ञान देने वाला नया गुरु बन गया है.

इंडिया टुडे का सेक्स सर्वेक्षण पिछले 17 साल से  भारतीयों के यौन व्यवहारों को समझने की कोशिश कर रहा है. लगता है कि मौजूदा समय में हम अपनी नैतिक वर्जनाओं को पार करके अपनी सेक्स भावना को लेकर पहले से कहीं अधिक खुल गए हैं.

देश के कई भाग अब सेक्स को लेकर तेजी से आगे निकल गए हैं, क्योंकि पहली बार सेक्स का अनुभव लेने की औसत उम्र घट गई है. उदाहरण के लिए, गुवाहाटी में 61 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उन्हें सेक्स का पहला अनुभव किशोरावस्था में ही हो गया था. यह देश के उन सभी शहरों में सबसे आगे रहा, जहां सर्वेक्षण हुए. आज, 33 प्रतिशत लोगों का दावा है कि उन्हें पहला यौन अनुभव किशोरावस्था में हुआ था. यह बात 2003 से, जब हमारा पहला सेक्स सर्वेक्षण हुआ था, काफी आगे निकल चुकी है जब केवल 8 प्रतिशत लोगों ने कहा था कि उनका पहला सेक्स अनुभव 18 वर्ष की उम्र से पहले हुआ था. वेब से ज्यादा जुड़ाव, सेक्स के मामले में व्यापक स्वीकृति और मॉर्निंग आफ्टर पिल (गर्भ निरोधक गोली) की सुविधा ने शायद कम उम्र में सेक्स का रास्ता तैयार किया है.

इस साल, बदलते यौन व्यवहार और नजरिए का आकलन करने वाले नियमित सवालों के अलावा, हमने कई नए प्रश्न लोगों से पूछे. हमने उनसे सेक्स को लेकर उनकी फंतासी, वफादारी और विवाहेतर यौन संबंधों को लेकर सोच, पोर्नोग्राफी और सेक्स क्षमता बढ़ाने वाली वियाग्रा जैसी दवाओं के उपयोग वगैरह के बारे में पूछा कि वे इसे किस प्रकार देखते हैं.

सर्वेक्षण में तीन-चौथाई से अधिक लोगों ने कहा कि वे नियमित रूप से या कभी-कभार पोर्न देखते हैं—85 प्रतिशत पुरुषों ने इस बारे में हामी भरी. 48 फीसद पुरुषों ने यह भी स्वीकार किया कि वे पैसे चुकाकर यौन संबंध बना चुके हैं, जबकि 3 फीसद महिलाओं ने भी ऐसा करने की बात स्वीकार की. इसके बावजूद, सर्वेक्षण में अधिकांश लोग—89 प्रतिशत—यौन क्रिया के दौरान खुद को फिल्माने या तस्वीरें लेने के खिलाफ थे; 74.4 फीसद लोग तिकड़ी के विचार के खिलाफ थे.

 मतलब यह भी है कि ये लोग अपनी फंतासियों या तरह-तरह के प्रयोग को लेकर कुछ सशंकित थे या फिर अपनी सबसे गुप्त फंतासी को सर्वेक्षणकर्ताओं से साझा करने को तैयार नहीं थे. इसी प्रकार, 64.4 प्रतिशत लोग अपने पार्टनर के साथ किसी स्ट्रिप क्लब या स्विंगर क्लब में जाने की बात पर नहीं खुले, और 57 प्रतिशत लोग प्रयोग के नाम पर किसी भी प्रकार की एसऐंडएम ऐक्ट (यौन क्रिया के दौरान मर्दानगी या मार-पीट तथा गालीगलौज का सुख) के मामले में नहीं खुले. लेकिन 14-29 आयु वर्ग के लोगों से रोल प्ले, तिकड़ी, सेक्स के दौरान पिटाई या अपने पार्टनर को काटने, या डिल्डो, वाइब्रेटर वगैरह के इस्तेमाल की बात पूछी गई तो निश्चित रूप से वे अधिक उदार थे और प्रतिशत अंतर नगण्य था.

अगस्त 2018 में, सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया कि एलजीबीटी समुदाय को अपनी सेक्स भावना का खुलकर इजहार करने का अधिकार है. पहली वैश्विक विवाहेतर डेटिंग वेबसाइट ग्लीडेन, जिसकी भारत में करीब 2,00,000 महिला सदस्य हैं, की सोलेने पैलेट के अनुसार, ''वेबसाइट ने पिछले छह महीनों के दौरान समिलिंगी सेक्स में 45 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि देखी है, जिसका अर्थ है कि आइपीसी की धारा 377 के खत्म होने के बाद लोग अपनी पसंद के यौन संबंधों के लिए और अपने विवाह के बाहर समलैंगिक या उभयलिंगी संबंध बनाने के लिए ज्यादा स्वतंत्र महसूस करते हैं.''

हालांकि, इंडिया टुडे सेक्स सर्वेक्षण से पता चलता है कि अधिकांश भारतीय अभी भी अपनी सेक्स भावना के इजहार से संकोच करते हैं और उसी सुरक्षित संस्करण को पसंद करते हैं जो उन्हें असहज नहीं करता है. यौन रुझानों के बारे में पूछा गया, तो 10 में से 9 लोगों ने कहा कि वे केवल विपरीत लिंग के व्यक्तियों के साथ यौन संबंध रखते हैं. पटना एकमात्र शहर है (सर्वेक्षण में शामिल 19 लोग) जहां 58 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे स्ट्रेट सेक्स यानी समलैंगिक और विपरीत लिंग सेक्स करते थे.

समलैंगिकता पर अपने ऐतिहासिक फैसले के एक महीने बाद, सितंबर 2018 में, शीर्ष अदालत ने व्यभिचार से जुड़े एक और औपनिवेशिक युग के कानून को खारिज कर दिया और यह फैसला दिया कि विवाहेतर यौन संबंध अब भारत में आपराध नहीं माना जाएगा.

फिर भी, जैसा कि पैलेट का कहना है, ''विवाहेतर यौन संबंधों को अपराध की श्रेणी से हटाए जाने के बावजूद, भारत में अब भी किसी औरत की बेवफाई बहुत बड़ा सामाजिक कलंक है. यही वजह है कि बेवफाई के गोपनीय और आसानी से उपलब्ध विकल्प के बावजूद महिलाएं इससे हिचकती हैं और इसीलिए डेटिंग साइट्स पर पुरुषों की संख्या महिलाओं से बहुत अधिक है. ज्यादातर भारतीय महिलाएं मानती हैं कि बेवफाई एक बहुत खराब और दंडनीय कृत्य है.''

हालांकि पिछले दशक में, खासकर शहरी भारत में, भारतीय महिलाएं अपने पैरों पर खड़ी हुई हैं, वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त की है, पेशेवर रूप से प्रगति की है, पितृसत्ता और कुप्रथाओं से लड़ी हैं, नारीवाद की एक लहर चली है जो सेक्स को लेकर एक उदार विचार रखता है. यहां तक कि ज्यादातर महिलाएं अब बराबरी के स्तर पर सेक्स सुख उठाने से नहीं डरती हैं, लेकिन वे अब भी इस बात से डरती हैं कि लोग क्या कहेंगे.

पिछले साल #मीटू अभियान का भी काफी असर दिखा है. यह सुर्खियों में छाया रहा था और हमारे सेक्स सर्वेक्षण में भी इस पर फोकस रहा जिसमें कार्यस्थल पर शोषण और सेक्स की पड़ताल की गई.

पिछले दशक में महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़े हैं. सबसे हालिया राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार, 2016 में महिलाओं के खिलाफ अपराधों में 26 प्रतिशत की वृद्धि हुई. नतीजतन, हमने अंतत: पहली बार सरकार की ओर से जारी यौन अपराधियों का एक राष्ट्रीय रजिस्टर देखा, जो  महिलाओं के खिलाफ अपराधों को रोकने का एक प्रयास है.

सोशल मीडिया ऐप वेब को गंदी और अनचाही जगह भी बना रहे हैं जहां बाल यौन शोषणकर्ताओं की आसान पहुंच है, और साइबर-ब्लैकमेलिंग, सेक्स से जुड़ी उगाही और प्रतिशोधात्मक नग्नता बढ़ रही है. हालांकि भारत सरकार प्रमुख पोर्न साइटों को रोक रही है, लेकिन 'छाया साइटें' बिजली की गति से बनती जा रही हैं. इंटरनेट का स्याह, शातिर पक्ष एक अंधा कुआं बना हुआ है जो काफी हद तक बेलगाम है. साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ रितेश भाटिया के अनुसार, ''सोशल नेटवर्किंग साइट्स, डेटिंग पोर्टल्स और स्मार्टफोन ऐप बड़े पैमाने पर सेक्स्टॉर्शन और साइबर स्टॉकिंग जैसे अपराधों में योगदान करते हैं. स्मार्टफोन एप्लिकेशन और तकनीक-आधारित चीजों के खतरनाक प्रभावों के बारे में लोगों में जागरूकता की कमी उन सबसे प्रमुख कारणों में से एक है जिसके कारण लोग साइबर अपराधों का शिकार बनते हैं.''

पोर्न की लत से अपराध में वृद्धि तो होती ही है, इससे यौन असुरक्षा भी पैदा हो रही है और रिश्तों में कड़वाहट आ रही है. मुंबई स्थित इनर स्पेस काउंसलिंग की संस्थापक और मुख्य मनोवैज्ञानिक सादिया सलीद कहती हैं, ''आज पोर्न की लत यकीनन फैल चुकी है. पोर्न अधिक देखने से असलियत विकृत हो सकती है. लोगों को लगता है कि थकान भरे दिन के बाद वास्तव में यौन संबंध बनाने के झंझट के मुकाबले इसके माध्यम से आनंद प्राप्त करना ज्यादा आसान है. लोग तुरंत संतुष्टि चाहते हैं और पोर्न उन्हें वह देता है.''

इंटरनेट ने यौन व्यवहार को कैसे बदल दिया है, इस बारे में सलीद बताती हैं, ''इंटरनेट जागरूकता पैदा करता है और हम इसके जो सबसे बड़े परिवर्तन देख रहे हैं उनमें से एक यह है कि आज अपनी पहल से आने वाले ऐसे रोगियों की संख्या में वृद्धि हुई है जो अंतरंगता के मुद्दों पर चर्चा करने के लिए हमारे पास आते हैं. यह एक बड़ा संकेतक है कि 18-20 साल पहले के मुकाबले चीजें किस तेजी से बदली हैं. 22 और 45 वर्ष उम्र के बीच के युवा आज मदद मांगने से नहीं डरते.''

हालांकि, भारतीय यौन परिदृश्य में जितनी चीजें बदली हैं, उतनी ही जस की तस भी हैं. हमारे सर्वेक्षण के नतीजे बताते हैं कि विस्तृत यौन व्यवहार में, पुरुष अतीत में फंसे रहते हैं. 'क्या आपके लिए कौमार्य बेहद अहम है? ', जवाब में 53 प्रतिशत लोगों (पुरुषों और महिलाओं दोनों) ने 'हां' कहा. अहमदाबाद और जयपुर जैसे छोटे शहरों में यह संख्या ज्यादा बड़ी क्रमश: 82 प्रतिशत और 81 प्रतिशत थी. 2004 में इसी सवाल के जवाब में, 72 प्रतिशत पुरुषों ने कहा था कि वे अपने लिए कुंआरी दुल्हनें चाहेंगे. हम अब भी एक ऐसा देश हैं जो पुरान ख्यालों के पक्ष में ज्यादा झुका दिखता है. इस वर्ष के सर्वेक्षण में 42 प्रतिशत महिलाओं और 38 प्रतिशत पुरुषों ने इसे ही अपनी पसंदीदा सेक्स रुझान बताया है. यह 2003 से अब तक केवल 9 प्रतिशत अंक नीचे आया है.

लेकिन भारत के छोटे शहरों और कस्बों में चीजें अधिक रोमांचक हैं. इस वर्ष एकत्र किए गए आंकड़ों से अंदाजा लगता है कि यहां के लोग अपने यौन व्यवहार को लेकर अधिक खुले हुए हैं, प्रयोगों के खिलाफ नहीं हैं और सेक्स को लेकर स्वस्थ दृष्टिकोण रखते हैं. इंदौर, भुवनेश्वर, गुवाहाटी और चंडीगढ़ के लोग उदार यौन दृष्टिकोण के मामले में आगे हैं. विशेषज्ञों का मानना है कि ऐसा इसलिए है क्योंकि इन स्थानों पर वैल्यू जजमेंट कम होता है और यहां जीवन भी कम पेचीदा है.

बहरहाल, सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि लोग अपने यौन जीवन से संतुष्ट हैं या नहीं? इस साल सर्वेक्षण में शामिल 62 फीसद पुरुषों और 58 फीसद महिलाओं ने कहा कि हां, वे संतुष्ट हैं. यह अलग बात है कि हमारा समाज छलावे भरी जिंदगी जीता है और लोग इस पैमाने पर खुद को तौले जाने से डरते हैं कि सेक्स कम करते हैं या अधिक. इसलिए सच क्या है और कितना है, यकीनन कहा नहीं जा सकता लेकिन हम तो अपनी कहानी उन्हीं आंकड़ों के आधार पर बुन सकते हैं जो हमें प्राप्त हुए हैं.

इंटरनेट की उपलब्धता से भारतीय यौन परिदृश्य बिल्कुल बदल गया है

उन लोगों का प्रतिशत जिन्होंने दावा किया कि वे नियमित या कभी-कभार पोर्न देखते हैं

उन लोगों का प्रतिशत, जो किसी सेक्स वेबसाइट को देखना अपने पार्टनर के प्रति वफादारी का उल्लंघन मानते हैं

सोशल मीडिया ऐप मौका तो मुहैया कराते हैं मगर उनके साथ सेक्स शोषण और ब्लैकमेलिंग का खतरा भी मौजूद रहता है

पोर्न की लत बेपनाह होती जा रही है, जिससे सेक्स संबंधी असुरक्षा और रिश्तों में तनाव दोनों बढ़ रहा है

सर्वेक्षण का तरीका

इस साल 2019 का इंडिया टुडे सेक्स सर्वेक्षण नई दिल्ली स्थित मार्केटिंग और डेवलपमेंट रिसर्च एसोसिएट्स (एमडीआरए) ने 19 शहरों में किया. इसके तहत 23 जनवरी और 20 फरवरी, 2019 के बीच 4,028 लोगों से बातचीत की गई. समान संख्या में पुरुषों और महिलाओं से बातचीत की गई और इसमें तीन आयु वर्ग 14-29 वर्ष, 30-49 वर्ष, 50-69 वर्ष के लोगों से संपर्क किया गया. 18 वर्ष से कम आयु वालों से बातचीत के लिए उनकी विशेष सहमति ली गई. सर्वेक्षण में शामिल विवाहित या अविवाहित हो सकते थे और जीवनसाथी के साथ या उससे इतर यौन संबंध रखने वाले हो सकते थे. यह जरूर ध्यान रखा गया कि उन्होंने कम से कम हाइस्कूल तक पढ़ाई की हो.

2018 की तरह ही इस बार भी यह सालाना सर्वेक्षण दो हिस्सों में किया गया था. पहले हिस्से में ऐसे सवाल पूछे गए कि प्रेम करने के तरीके क्या हैं और वे इस मामले में प्रयोग करने के प्रति कितने खुले हैं. दूसरे हिस्से में देश के प्रमुख शहरों में रहने वाले लोगों से उनके यौन व्यवहार, नजरिए और वरीयताओं से जुड़े नियमित प्रश्न थे.

किसी भी तरह के पूर्वाग्रह की संभावना को खत्म करने के लिए लोगों के चयन की बेतरतीब प्रणाली अपनाई गई. एजेंसी ने नमूनों के चयन और कई स्तरीय नमूना चयन के लिए अपनी विशेष 3 एस चयन-पद्धति—साइज (आकार), स्प्रेड (विस्तार) और सेलेक्शन (चयन) का उपयोग किया. पहले चरण में, कोई भी प्रमुख कारक जो नमूना त्रुटियों का कारण बन सकता है, उसे उपयुक्त चयन प्रक्रिया (पुरुष, महिला, भौगोलिक विस्तार आदि) के माध्यम से नियंत्रित किया गया. दूसरे चरण में, लोगों से संपर्क के स्थानों के अनुपात मिश्रण विधि अपनाई गई.

पुरुषों से पुरुष सर्वेक्षणकर्ताओं और महिलाओं से महिला सर्वेक्षणकर्ताओं ने संपर्क किया. एमडीआरए के अनुभवी और प्रशिक्षित सर्वेक्षणकर्ताओं ने तैयार प्रश्नावली के साथ लोगों से संपर्क किया. लोगों से उन्हें दी गई प्रश्नावली को पूरी तरह से भरने के बाद एक सील किए गए ड्रॉप बॉक्स में डालने को कहा गया, ताकि उनके जवाबों की गोपनीयता बनी रहे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay