एडवांस्ड सर्च

क्या कांग्रेस खुद को फिर से उबार सकती है?

2019 के लोकसभा चुनावों में दुर्गति और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के इस्तीफे ने भारत की सबसे पुरानी पार्टी के लिए अस्तित्व का संकट खड़ा कर दिया है. इस हालत से उबरने के लिए कांग्रेस को  ठोस इरादा दिखाना होगा

Advertisement
aajtak.in
कौशिक डेका/ संध्या द्विवेदी/ मंजीत ठाकुर नई दिल्ली, 23 July 2019
क्या कांग्रेस खुद को फिर से उबार सकती है? इलस्ट्रेशनः नीलांजन दास

जुलाई की 3 तारीख को ट्विटर पर पोस्ट किए चार पन्नों के अपने पत्र में, राहुल गांधी ने घोषणा की कि उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है. दस दिन बाद अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआइसीसी) के महासचिव (संगठन) के.सी. वेणुगोपाल ने एक बयान जारी करके घोषणा की कि 'माननीय कांग्रेस अध्यक्ष' ने महाराष्ट्र कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और कार्यकारी अध्यक्षों की नियुक्ति के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. इससे पहले जो भी नियुक्ति पत्र जारी होते थे उनमें स्पष्ट रूप से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी लिखा जाता था, लेकिन इस नोट में 'माननीय कांग्रेस अध्यक्ष' के नाम का जिक्र नहीं था.

तो फिर, कांग्रेस का अध्यक्ष आखिर है कौन?

इन नियुक्तियों को किसने मंजूरी दी? इस सवाल पर कांग्रेस के कम्युनिकेशन प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने इंडिया टुडे को बताया, ''राहुल गांधी पार्टी के अध्यक्ष बने हुए हैं क्योंकि पार्टी ने उनका इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है. इन नियुक्तियों को राहुल गांधी ने अनुमोदित किया था.'' यानी कामकाज पहले की ही तरह चल रहा है, अब भी राहुल ही सब देख रहे हैं, अंतर यही है कि पार्टी में कुछ अतिरिक्त भ्रम की स्थिति पैदा हो गई है.

ऐसे ही भ्रम की स्थिति में रहने की परंपरा ने ही पार्टी को भारतीय चुनावी राजनीति के उस गर्त तक पहुंचा दिया है जहां आज वह है. 543 सदस्यीय लोकसभा में इसके बस 52 प्रतिनिधि हैं और देश के 29 में से केवल छह राज्यों—पंजाब, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, कर्नाटक और पुदुच्चेरी में उसकी सरकार है. देशभर के कुल 4,120 विधायकों में से कांग्रेस के खाते में 838 विधायक हैं और आंध्र प्रदेश, नगालैंड, सिक्किम, त्रिपुरा और दिल्ली जैसे पांच राज्यों की विधानसभाओं में पार्टी का एक भी विधायक नहीं है. 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी 13 राज्यों में अपना खाता तक नहीं खोल पाई. पार्टी की अखिल भारतीय उपस्थिति में किस कदर गिरावट आई है, इसे इस बात से समझा जा सकता है कि हालिया आम चुनावों में उसे मिली 52 में से 31 सीटें सिर्फ तीन राज्यों—केरल, तमिलनाडु और पंजाब से आई हैं.

अब, राहुल गांधी के इस्तीफे पर भ्रम के साथ, पार्टी के अधिकांश नेता—विशेष रूप से जमीनी कार्यकर्ताओं को—पार्टी का भविष्य अधर में नजर आ रहा है. वे हतोत्साहित और दिशाहीन महसूस कर रहे हैं. महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड में इस साल के अंत तक विधानसभा चुनाव होने हैं. आम चुनाव में तीनों राज्यों में करारी हार देखने के बावजूद पार्टी आंतरिक खींचतान में उलझी है और उसके पास विधानसभा चुनावों की लड़ाई में मजबूती से उतरने की कोई फौरी रणनीति नहीं है.

बालासाहेब थोराट के रूप में महाराष्ट्र कांग्रेस को पिछले सप्ताह नया अध्यक्ष तो बेशक मिल गया, लेकिन मजबूत केंद्रीय नेतृत्व के समर्थन के बिना, जबरदस्त गुटबाजी में फंसी महाराष्ट्र कांग्रेस को एकजुट करना उनके लिए चुनौतीपूर्ण कार्य होगा. पार्टी के लिए करेला नीम पर ऐसे चढ़ा कि पहले कर्नाटक और फिर गोवा में अनेक विधायक पार्टी छोड़ गए हैं और अब उस प्रवृत्ति के अन्य राज्यों तक पहुंचने की आशंका पैदा हो गई है, विशेष रूप से मध्य प्रदेश में, जहां कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार मामूली बहुमत पर टिकी हुई है. कर्नाटक और गोवा में पार्टी को संकट पहले से ही दिख रहा था, लेकिन वह समय रहते पर्याप्त उपाय करने में विफल रही. राष्ट्रीय स्तर पर और लगभग हर राज्य में समय रहते हरकत में आने की पार्टी की अनिच्छा, जिसने पार्टी का बेड़ा गर्क किया है, समझ से परे है.

इस्तीफा या बगावत?

2014 में जब लोकसभा में पार्टी के सांसदों की संख्या घटकर मात्र 44 रह गई थी, तब कांग्रेस के उपाध्यक्ष रहे राहुल ने देशभर के 400 से अधिक पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ परामर्श के बाद, उग्र सुधारवादी दृष्टिकोण के साथ पार्टी के कायाकल्प का एक खाका तैयार किया था. और उन्होंने वह खाका अपनी मां और तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को सौंप दिया. हालांकि, राहुल की इन उग्र सुधारवादी योजनाओं से सोनिया और पार्टी के दिग्गज, दोनों के कान खड़े हो गए और सुझाव ठंडे बस्ते में डाल दिया गया.

आहत राहुल, लगभग दो महीने के लिए विपश्यना को चले गए. बाद में शांतचित्त होकर लौटे और धीरे-धीरे स्थितियों को स्वीकारते हुए कांग्रेस के पारंपरिक ताने-बाने में ही काम करने को तैयार होते गए. जब दिसंबर 2017 में वे पार्टी अध्यक्ष बने तो कांग्रेसी दिग्गजों के पास पहुंचे और पार्टी के निर्णय लेने वाली सर्वोच्च संस्था कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) का गठन किया, जिसकी औसत आयु 67 वर्ष थी. अब प्राथमिकताएं भी बदल गई थीं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भारतीय जनता पार्टी को हराना ज्यादा जरूरी लग रहा था बजाए पार्टी में आमूल-चूल सुधार की दिशा में आगे बढऩे के, जो कि दीर्घकालिक परियोजना थी. राहुल ने दिग्गजों की मांगों पर अमल किया—अमरिंदर सिंह को पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष और अंतत: मुख्यमंत्री बनाया गया; अशोक गहलोत और कमलनाथ को भी मुख्यमंत्री बनाया गया.

लेकिन जब इन दिग्गजों से बदले में राहुल ने कुछ उम्मीदें लगाईं तो उन्हें निराशा हाथ लगी. राहुल और मोदी के बीच लगभग प्रेसिडेंशियल स्टाइल सरीखे हो चुके चुनाव में, गांधी परिवार के उत्तराधिकारी ने प्रधानमंत्री के खिलाफ कई हथियारों का इस्तेमाल किया—राफेल सौदे में भ्रष्टाचार के आरोप, न्याय या गरीबों को न्यूनतम आय की गारंटी का वादा, यहां तक कि भाजपा की 'विभाजनकारी राजनीति' के खिलाफ प्रेम और करुणा के अपने संदेश को दूर तक पहुंचाने के लिए संसद में मोदी को गले लगाने का नाटकीय हथकंडा भी. उन्होंने सॉफ्ट हिंदुत्व का रास्ता भी पकड़ा और मंदिरों की खाक छानी. लेकिन, जैसा कि उनके करीबी सहयोगी अक्सर शिकायत करते हैं, देशभर में किसी भी वरिष्ठ नेता ने किसी भी संदेश को मतदाताओं तक पहुंचाने का प्रयास नहीं किया.

राहुल के एक करीबी सहयोगी कहते हैं, ''उन्होंने देशभर की यात्रा की और पूरी ताकत से मोदी और आरएसएस के खिलाफ आवाज बुलंद की. लेकिन बड़े-बड़े नेटवर्क और बड़े जनसमर्थनों का दावा करने वाले तथाकथित पार्टी दिग्गजों ने कार्यकर्ताओं को भी प्रेरित नहीं किया कि वे राहुल के संदेश को मतदाताओं तक लेकर जाएं. नोटबंदी और बेरोजगारी जैसे आर्थिक मुद्दों पर मोदी सरकार के खिलाफ जनता में जैसा आक्रोश था, उसे देखते हुए न्याय गेम-चेंजर योजना हो सकती थी. लेकिन मतदाताओं का इसकी जानकारी ही नहीं हुई, यहां तक कि मध्य प्रदेश और राजस्थान में भी नहीं, जहां हमारी सरकार है.'' कार्यकर्ताओं के मन में यही बात चल रही है. जोधपुर के कांग्रेस कार्यकर्ता, 54 वर्षीय जगदीश भाटी कहते हैं, ''क्या पूरा भार ढोने का जिम्मा केवल गांधी परिवार का ही है?''

राहुल के ट्विटर पोस्ट में भी सहयोगियों के खिलाफ उनका यह गुस्सा झलका है. उन्होंने लिखा, ''मैंने प्रधानमंत्री, आरएसएस और उन संस्थाओं से जिन पर उन्होंने कब्जा किया है, व्यक्तिगत स्तर पर लड़ाई लड़ी है...कई बार, मैं खुद को पूरी तरह अकेला पाता था और मुझे इस पर बहुत गर्व है.'' 25 मई को सीडब्ल्यूसी की बैठक में उनके इस्तीफे का उद्देश्य दिग्गजों को जवाबदेही स्वीकार करने और उन सुधारों के लिए रास्ता बनाना था, जिन्हें उन्होंने लागू करने का इरादा बनाया था. उनके पोस्ट में एक सीधा संदेश था: 'भारत में यह एक आदत है कि शक्तिशाली लोग सत्ता से चिपके रहना चाहते हैं; कोई त्याग का साहस नहीं दिखाता. लेकिन हम सत्ता की इच्छा का त्याग किए बिना और गहरी वैचारिक लड़ाई लड़े बगैर, अपने विरोधियों को नहीं हरा पाएंगे.'

फिलहाल, राहुल की योजना उलटी पड़ती दिख रही है, क्योंकि दिग्गज उनकी अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए त्याग को तैयार नहीं हैं. गहलोत इसके अच्छे उदाहरण हैं जो कांग्रेस में किसी भी बदलाव को लागू करने में कठिनाई महसूस करते हैं. राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट की अगुआई में कांग्रेस ने पिछले साल विधानसभा चुनाव जीता जबकि मुख्यमंत्री गहलोत को बना दिया गया क्योंकि उन्होंने लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के लिए शानदार प्रदर्शन का वादा किया था. लोकसभा चुनाव में पार्टी का स्कोर राज्य में शून्य रहा, तो पायलट खेमे ने गहलोत को हटाने के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया. राहुल ने गहलोत, कमलनाथ और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम पर पार्टी हितों से अधिक अपने बेटों के हितों का ख्याल करने के आरोप खुले तौर पर लगाए. इससे बेपरवाह गहलोत ने कहा कि पार्टी ने विधानसभा चुनाव जीता क्योंकि मतदाता उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते थे; जबकि लोकसभा चुनावों में राजस्थान में भी वही हुआ जो पूरे देश में हुआ. कमलनाथ ने भी कुछ इसी तरह की प्रतिक्रिया दी.

कौन होगा अगला नेता?

राहुल के संदेश को जनता तक पहुंचाने से दिग्गजों ने मना कर दिया और मनमर्जी करते रहे. एक लोकसभा सांसद का मानना है कि राहुल समझते हैं कि बदलाव की मांग पार्टी के भीतर से उठेगी, खासकर युवाओं से और पार्टी अपने तौर-तरीकों में सुधार करेगी. हालांकि आश्चर्यजनक रूप से दो दिग्गजों—पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और पूर्व केंद्रीय मंत्री कर्ण सिंह की तरफ से बदलाव की मांग पहले ही उठ चुकी है. दोनों ने कहा है कि पार्टी को युवा नेता को अध्यक्ष के रूप में चुनना चाहिए. अमरिंदर ने कहा, ''राहुल ने युवा नेतृत्व को पार्टी की बागडोर संभालने और इसे और ऊंचाइयों तक पहुंचाने का रास्ता दिखाया है.

केवल कोई युवा नेता ही इस महान पुरानी पार्टी को पुनर्जीवित कर सकता है.'' कांग्रेस के अंदरूनी सूत्रों का मानना है कि पंजाब के मुख्यमंत्री परोक्ष रूप से सचिन पायलट को पार्टी की कमान सौंपने का इशारा कर रहे थे, जो कैप्टन के करीबी हैं. पायलट भी उन कुछ कांग्रेस नेताओं में से एक हैं, जिन्होंने पिछले पांच वर्षों में बड़ा जनाधार तैयार करने पर ध्यान केंद्रित किया है और लोकसभा में हार के बाद भी राजस्थान भर में यात्राएं कर रहे हैं. हार के एक सप्ताह बाद पायलट सिरोही, जालोर और पाली जिलों के दो दिवसीय क्षेत्र दौरे के तहत कसैला गांव में किसान जयकिशन के खेतों में खुले आसमान के नीचे सोए. पायलट ने इंडिया टुडे से बातचीत में कहा, ''आम नागरिकों की भलाई के लिए संकल्प जताते हुए लगातार प्रयासों से पार्टी को पुनर्जीवित किया जा सकता है. कांग्रेस को अब तत्काल अध्यक्ष के रूप में किसी ऐसे व्यक्ति की जरूरत है जो पार्टी के जमीनी कार्यकर्ताओं से लेकर पदाधिकारियों में एक नया विश्वास पैदा कर सके. हमें एक मजबूत संदेश देना होगा कि हमारा सरोकार बस जनसेवा से है.''

एक वरिष्ठ कांग्रेसी नेता कहते हैं, ''पायलट नेतृत्व का ऐसा मॉडल विकसित करने की कोशिश कर रहे हैं, जो जनसमर्थन के दम पर नेतृत्व करे न कि 24 अकबर रोड स्थित कांग्रेस मुख्यालय के पदाधिकारियों की छोटी सी चौकड़ी की कृपा से, जिनका जनता से नाममात्र का जुड़ाव है.'' अध्यक्ष पर अविलंब फैसले की मांग उठा रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया भी इस पद के एक और युवा दावेदार हैं. पायलट और सिंधिया को मिलिंद देवड़ा जैसे अन्य युवा नेताओं का समर्थन मिलने के आसार हैं, जो कहते हैं कि वे कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में किसी भी युवा, ऊर्जावान और कुशल नेता का समर्थन करने के लिए तैयार हैं. देवड़ा ने कहा, ''मैं पंजाब के मुख्यमंत्री का शुक्रगुजार हूं, जिन्होंने वरिष्ठ नेता होने के बावजूद, पार्टी की कमान युवा नेतृत्व के हाथों में दिए जाने की खुले तौर पर वकालत की है. मैं कोई भी नाम नहीं लेना चाहूंगा लेकिन पार्टी में तीन या चार ऐसे युवा नेता हैं जो इस जिम्मेदारी के सर्वथा योग्य हैं.''

पूर्व केंद्रीय मंत्री देवड़ा ने मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद हालांकि ट्वीट किया था कि वे राष्ट्रीय स्तर पर किसी भी जिम्मेदारी को निभाने के लिए तैयार हैं लेकिन वे खुद को अध्यक्ष पद की रेस से बाहर मानते हैं. उन्होंने इंडिया टुडे से बातचीत में कहा, ''मैं नए अध्यक्ष की हरसंभव सहायता के लिए तैयार हूं, लेकिन मैं खुद के लिए यह पद नहीं चाहता.''

वैसे, पार्टी के बुजुर्ग कैप्टन के इस तर्क से हैरान हैं कि ''पार्टी नेतृत्व में होने वाले बदलाव में उस भारत की सामाजिक वास्तविकता प्रतिबिंबित होनी चाहिए, जिसकी 65 प्रतिशत आबादी 35 साल से कम आयुवर्ग की है.'' सीडब्ल्यूसी के एक शीर्ष सदस्य का दावा है कि यहां तक कि सोनिया गांधी भी युवा नेता नहीं चाहतीं, क्योंकि उसके आगे राहुल गांधी की चमक फीकी पड़ सकती है और इस तरह उनके बेटे का करियर शुरू होने से पहले ही खत्म हो जाएगा. दिग्गज अब वरिष्ठों और युवाओं के बीच एक समझौतावादी उम्मीदवार के रूप में पूर्व केंद्रीय मंत्री मुकुल वासनिक का जोरदार समर्थन कर रहे हैं, जो सितंबर में 60 साल के हो जाएंगे. जो अन्य नाम तैर रहे हैं उनमें मल्लिकार्जुन खडग़े, 76 वर्ष, और सुशीलकुमार शिंदे, 77 वर्ष, शामिल हैं.

दोनों के पक्ष में जो बात जाती है वह है इनकी गांधी परिवार के प्रति निष्ठा और पार्टी के पुराने नेताओं के साथ अच्छा तालमेल. इसके अलावा दोनों का दलित वर्ग से होना पार्टी के लिए उपयोगिता वाला सिद्ध हो सकता है. राजनैतिक पर्यवेक्षकों का कहना है कि अगर पार्टी नया और ऊर्जावान अध्यक्ष देने का यह अवसर गंवा देती है, तो यह कांग्रेस के ताबूत में अंतिम कील साबित होगा. राजनयिक और लेखक गोपाल कृष्ण गांधी अपने एक कॉलम में कहते हैं, ''अगर पार्टी एक नेता की जगह एक कठपुतली खोजने में जुटेगी तो पार्टी को नेता नहीं मिलने वाला. कठपुतली अध्यक्ष कांग्रेस को दिखावटी पार्टी ही बनाएगा.''

सीडब्ल्यूसी के अधिकांश वरिष्ठ सदस्य जिन्होंने पार्टी में पद गांधी परिवार के प्रति अपनी वफादारी के कारण हासिल किया है, गांधी परिवार से बाहर का अध्यक्ष बनना उनके राजनैतिक करियर के अंत का संकेत हो सकता है. एक युवा और मुखर अध्यक्ष संभवत: राहुल गांधी से संवाद का अपना चैनल स्थापित करेगा. राहुल पुराने नेताओं को पसंद नहीं करते और इस तरह दिग्गजों को ठिकाने लगाया जा सकता है. राहुल ने स्पष्ट रूप से घोषणा कर दी है कि वे नए अध्यक्ष के चयन की प्रक्रिया का हिस्सा नहीं होंगे, इस कारण चयन प्रक्रिया में देरी हो रही है क्योंकि सीडब्ल्यूसी के नेताओं को लगता है कि ऐसे व्यक्ति को कमान सौंपने से, जिसे गांधी परिवार का वरदहस्त प्राप्त न हो, पार्टी में बगावत या टूट-फूट भी हो सकती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay