एडवांस्ड सर्च

भूतकथा लेखक

सुजय घोष, निर्देशक, उनकी नई नेटफ्लिक्स सीरीज में समाई है एक समय के विवादास्पद लेखक की आत्मा

Advertisement
aajtak.in
सुहानी सिंह मुंबई, 24 July 2019
भूतकथा लेखक सुजय घोष, निर्देशक

फिल्म की स्क्रिप्ट की बजाए इस लंबे फॉर्मेट वाले शो के लिए लिखने का अनुभव कितना अलग था?

इसमें मुझे थोड़ा गहराई में जाने का वक्त मिलता है, जो सिनेमा में मुमकिन नहीं. यह थोड़ा डरावना भी है. पहली बार ये कर रहा हूं, सो नहीं मालूम कि सही क्या है, गलत क्या. यह पूर्वाभास का मामला है. जिसमें विश्वास करता हूं, वही लिखता हूं.

साल के शुरू में आई अपनी फिल्म बदला को इतनी कामयाबी मिलने की आपको उम्मीद थी?

दर्शकों ने इसे इतना कामयाब बनाया. मेरा इसमें कोई रोल नहीं. दर्शकों ने ही इसकी कहानी के रहस्य को बनाए रखा, दूसरों को इसे देखने भेजा और फिल्म का जिम्मा खुद संभाला. कहानी और झंकार बीट्स के साथ भी ऐसा ही हुआ था. यही क्यूं, पिछले साल आई बधाई हो, स्त्री या फिर अंधाधुन जैसी दूसरे निर्देशकों की फिल्मों के साथ भी ऐसा ही अनुभव रहा.

बच्चों के साथ काम करने का कैसे संयोग बना, कैसा अनुभव...

मैं नौ साल की उम्र के ऐसे बच्चों के साथ काम कर रहा था, जिनकी एकाग्रता गोल्डफिश से भी थोड़ा कम होती है. यह वाकई बहुत मुश्किल था पर बच्चे इतने घुलमिल गए थे और इतने जिज्ञासु थे कि सब होता गया. वे नितांत मासूम और जिंदादिली से भरे थे. उन्हें मेरे साथ मजा आ रहा था.

टाइपराइटर को क्या आप फेमस फाइव और सीक्रेट सेवेन जैसी बच्चों के रहस्य और कल्पना-लोक वाली किताबों के प्रति अपनी श्रृद्धांजलि मानते हैं?

बिल्कुल. इस वक्त मैं एक ऐसे कमरे में हूं जो इसी तरह की किताबों से भरा हुआ है. बचपन में इन्हीं को पढ़ते हुए बड़ा हुआ. इन्हें पढ़ते हुए दिलचस्प बात यह होती थी कि मुझे लगता, सारे रहस्यों को जैसे मैं ही सुलझा रहा हूं. मैं हमेशा से ऐसा कुछ बनाना चाहता था, जिसके नायक बच्चे हों. इसमें बच्चे वह सब कर रहे हैं, जो मैंने करना चाहा था. मसलन क्लास बंक कर भूतों की तलाश में निकलना.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay