एडवांस्ड सर्च

सोनाक्षी सिन्हा के 'हैप्पी' होने का राज आखिर है क्या?

पॉलिटिक्स के लिए खुद को फिट नहीं मानतीं मशहूर अभिनेता से नेता बने शत्रुघ्न सिन्हा की बेटी सोनाक्षी सिन्हा.

Advertisement
नवीन कुमारमुंबई, 09 August 2018
सोनाक्षी सिन्हा के 'हैप्पी' होने का राज आखिर है क्या? मंदार देवधर

अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा से नवीन कुमार की बातचीत पेश हैं खास अंश-

हैप्पी फिर भाग जाएगी में आपके लिए हैप्पी क्या है?

इसमें मैं बहुत हैप्पी हूं. मैंने पहले वाली हैप्पी नहीं देखी थी. इस फिल्म का नैरेशन सुना, अच्छा लगा, हां कर दी, तब उसे देखा. एक ऐसी कॉमेडी जिसमें क्लीन फन से फैमिली को एंटरटेन करने का मौका मिलता है, मैं उसे झपट लेती हूं.

दबंग की इमेज से बाहर निकलने में हैप्पी कितनी मदद करेगी?

इमेज बदलनी चाहिए अगर वह हेल्प न कर रही हो, नुक्सानदेह हो. दबंग की इमेज ने मुझे बहुत हेल्प किया. इसके बाद मैंने कई ब्लॉकबस्टर कीं. मेरा

कॉन्फिडेंस बढ़ा. एक हिंदी फिल्म की हीरोइन की जो इमेज है वो ठीक ही है.

आपकी विरासत तो पॉलिटिक्स भी है. क्या खयाल है?

हर चीज का एक सहज रुझान होना चाहिए. मुझे नहीं लगता कि मैं पॉलिटिक्स के लिए फिट हूं. मैं उधर नहीं जाना चाहूंगी. जागरूक हूं, देश में क्या हो रहा है, जानती हूं. बस उतने तक ठीक है.

अब तक किए गए कैरेक्टर्स में कौन आपके दिल के करीब हैं?

तीन कैरेक्टर हैं. एक तो रज्जो क्योंकि वह मेरी पहली फिल्म का पहला अनुभव था. दूसरा लुटेरा का पाखी और तीसरा नूर, जो बेहद मॉडर्न इंडियन गर्ल का कैरेक्टर था. रियल कैरेक्टर करने में बहुत मजा आता है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay