एडवांस्ड सर्च

जुमले गढ़ने की चुनौती

प्रसून जोशी, केंद्रीय फिल्म सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष और मैक्केन इंडिया के सीईओ की शक्ल में कई भूमिकाएं अदा करते हैं. 2019 के आम चुनाव एक काबिल ऐड मैन के रूप में फिर उनकी परीक्षा लेंगे

Advertisement
सुहानी सिंहमुबंई,दिल्ली, 10 April 2019
जुमले गढ़ने की चुनौती बंदीप सिंह

भारतीय जनता पार्टी का 2019 के आम चुनाव का नारा है नामुमकिन अब मुमकिन है. यह क्या आपने ही गढ़ा है?

मैं बता नहीं सकता. प्रचार सलाहकार के तौर पर हमने विभिन्न स्तरों पर बहुत-से सुझाव दिए. इस पर एक साथ बहुत-से लोग काम करते हैं. पूरी बीजेपी में मुझे लगता है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दिमाग सबसे उर्वर है. उनके पास ढेरों आइडियाज होते हैं.

2019 के आम चुनाव में प्रचार के लिए क्या योजना है?

इस पर अब भी काम चल रहा है. इस बार हमें सधे कदमों के साथ सोचना है. चीजें रोज बदल रही हैं और आपको प्रासंगिक बने रहना है. ब्रांड के लिए दूरगामी सोच और फौरी लक्ष्य, दोनों में उम्दा तारतम्य जरूरी है. आपकी विचारधारा क्या है और आज मौजूं क्या है, ये दोनों चीजें मायने रखती हैं.

एक राजनैतिक पार्टी का प्रचार क्या एक ब्रांड के प्रचार से अलग तरह का होता है?

मेरे लिए एक पार्टी का संवाद ब्रांड के संवाद जैसा ही है. दोनों में अप्रोच एक-सा रहता है. लोग भी ब्रांड ही हैं. वैचारिक पूर्वाग्रह की वजह से लोगों को ब्रांड कहने में कुछेक को दिक्कत जाती है, लेकिन आज इसे स्वीकारने में कोई हर्ज नहीं.

आप एक विज्ञापन एजेंसी के मुखिया हैं. आप गाने, कविता और स्क्रिप्ट लिखते हैं. फिल्मों को सर्टिफिकेट देते हैं. अगला कदम राजनीति है?

इससे इनकार नहीं कि राजनीति हम सबकी जिंदगी से जुड़ी है, खासकर अगर आप लेखक हैं. पर मैं अपने बल-बूते खड़ा हुआ हूं. राजनीति में मेरा कोई दखल नहीं. जड़ें तो मेरी विज्ञापन और फिल्मों में भी नहीं थीं. इतने सब कुछ के बावजूद खालिस राजनीति में जाने का मेरा कोई इरादा नहीं है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay