एडवांस्ड सर्च

सवाल-जवाबः जीवन का जश्न

 हिंदुस्तानी शास्त्रीय गायक हाल ही में पं. जसराज के जन्मदिवस के मौके पर बातचीत,पेश हैं अंश-

Advertisement
aajtak.in
संध्या द्विवेदी/ मंजीत ठाकुर नई दिल्ली, 28 March 2019
सवाल-जवाबः जीवन का जश्न बंदीप सिंह

आपके कई शिष्यों ने तो बड़ी ऊंचाइयां प्राप्त कीं. आप किसे अच्छा शिष्य कहते हैं?

हम जो भी जानते हैं, ऊपर वाले के करम से. कोई अगर संगीतकार है तो उसकी कृपा से. मैं यह कहकर बिलावजह श्रेय नहीं लेना चाहता कि उनको मैंने गाना सिखाया. ऐसा कहूं तो मैं झूठ बोल रहा होऊंगा.

लोग कहते हैं कि शास्त्रीय संगीत बदल रहा है. आपकी क्या राय है?

किसी भी चीज के जिंदा रहने के लिए उसमें बदलाव जरूरी है. परिवर्तन तो प्रकृति का नियम है.

आपके दीर्घ, सुखी-समृद्ध जीवन का राज क्या है?

कोई राज नहीं. जीवन में अगर आप ईमानदार हैं, अपना काम सच्चे मन से करते हैं तो आप जीवन में प्रसन्न रहेंगे.

जन्मदिनों के आपके लिए क्या मायने हैं?

जन्मदिन तो किसी भी उम्र में विशेष ही होते हैं. आप 89 के हो गए हैं, इसका मतलब यह थोड़े ही है कि उनकी प्रासंगिकता या अहमियत नहीं रही. यह एक विशेष अनुभूति कराने वाला दिन होता है. और आपका जन्मदिन अगर दूसरे लोग मना रहे हों तो इसका मतलब है कि आपने कुछ किया है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay