एडवांस्ड सर्च

मैं जासूस

भीखू म्हात्रे और सरदार खान सरीखी लीक से हटकर भूमिकाएं अदा करने के बाद मनोज वाजपेयी अब अमेजन प्राइम के नए वेब शो द फैमिली मैन में आम जासूस का किरदार अदा करते दिखाई देंगे

Advertisement
aajtak.in
सुहानी सिंह मुंबई, 26 September 2019
मैं जासूस शिवम सक्सेना/गेट्टी इमेजेज

अभिनेता मनोज वाजपेयी से बातचीत. पेश हैं अंश-

ओटीटी शो करने में खासा समय लिया.

मैं बहुत सारे ओटीटी शो देखता हूं, और कंटेंट के घालमेल में मुझे एहसास हुआ कि दर्शक जुटाने के लिए इनमें गैरजरूरी हिंसा और सेक्स है. निर्माता कहानी के एक ही सांचे के हिसाब से चल रहे हैं. मैं परदे पर अंतरंगता या हिंसा दिखाने के खिलाफ नहीं हूं, मगर मुझे फिल्मकार की मंशा से सहमत होना चाहिए. कहानी में कुछ सचाई तो हो. फिर राज और डीके (फिल्मकार) संयोग से मुझे मिल गए.

आप ऐसे आदमी का किरदार निभा रहे हैं जो काम पर तो दूसरों के नियंत्रण में है, पर घर पर अधिकार जताता है...

यह हरेक की कहानी है. आप चाहे जितने सफल हों या लोग चाहे जितनी आपकी इज्जत करते हों, जब आप अपने घर जाते हैं, तो घर की मुर्गी दाल बराबर हो जाती है. मेरी कोशिश यह दिखाने की है कि कोई जासूस भी उतना ही सामान्य या मिडिल क्लास से होता है जितना हममें से कोई भी. यहां जेम्स बॉन्ड सरीखी कोई अकड़ नहीं है.

हम आपको हर रोज कॉमेडी करते भी नहीं देखते...

जब तक आप यहां पूरी तरह धमाकेदार हंसी-मजाक की फिल्म न करें, वे इसे कॉमेडी नहीं मानते. भीखू क्वहात्रे (सत्या) और सरदार खान (गैंग्स ऑफ वासेपुर) कॉमेडी की पारंपरिक परिभाषा में नहीं अटते, पर फिर भी वे आपको हंसाते हैं. मैं आपको हंसाने की कोशिश किए बगैर भी हंसा सकता हूं.

ऑनलाइन कंटेंट के लिए प्रमाणपत्र देना शुरू करने की बात चल रही है.

बहुत अच्छी बात है बशर्ते सेंसरशिप न हो. ऑनलाइन कंटेंट फिल्म के अनुभव के समानांतर हो गया है. मगर डायरेक्टर और प्रोड्यूसर को बहुत ज्यादा जिम्मेदार होना चाहिए. कभी-कभी हम अपनी आजादी की इज्जत नहीं करते और ठीक यहीं हम गच्चा खाते हैं.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay