एडवांस्ड सर्च

एक-एक लम्हे की कीमत

जल संकट बेहद गंभीर मसला है. पानी फाउंडेशन (पति आमिर खान के साथ बनाया राव का संगठन) के जरिए हम पिछले चार साल से महाराष्ट्र में सूखे से निबटने को जनांदोलन खड़ा करने की कोशिश कर रहे हैं.

Advertisement
aajtak.in
सुहानी सिंह मुंबई, 16 July 2019
एक-एक लम्हे की कीमत बंदीप सिंह

अभिनेत्री किरण राव से सुहानी सिंह ने की बातचीत, पेश हैं अंश-

ज्यादातर फिल्मकार अपना किस्सा कहने में थोड़ा वक्त लेते हैं. आप नौ साल के बाद 10-10 मिनट की दो फेसबुक थंबस्टॉपर फिल्मों से वापसी कर रही हैं.

इसे एक अच्छा संयोग कहिए. मकसद था सामाजिक असर पैदा करना और यह बताना कि कोई भी बदलाव दिखाने के लिए समयसीमा उतनी अहम नहीं. हम ऐसे दौर में हैं, जहां दर्शकों का एक-एक पल ध्यान खींचने को जद्दोजहद करनी पड़ रही है. लोग अपनी कहानियां बुन रहे हैं, ऐसे में यह समझना जरूरी है कि उससे किस्सागोई को क्या मिल रहा है और हम विजुअल्स को कैसे देखते हैं.

कुछ निर्देशक तो हर साल एक फिल्म बना लेते हैं, आपको हैरानी होती होगी.

जल्दी-जल्दी फिल्में बनाने वाले निर्देशकों के पास लेखकों की अपनी एक टीम होती है. उनका ज्यादातर काम कोई और कर देता है वरना उनकी फिल्में घटिया होतीं. निरंतर उम्दा फिल्में तो बिरले ही बना पाते हैं, इसीलिए मैं हंसल मेहता सरीखे ऐसा काम कर पाने वाले निर्देशकों का बहुत सम्मान करती हूं.

चेन्नै गंभीर जल संकट से गुजर रहा है. भारत के कई शहरों में भूजल काफी नीचे जा चुका है. पानी फाउंडेशन का अगला कदम क्या होगा?

जल संकट बेहद गंभीर मसला है. पानी फाउंडेशन (पति आमिर खान के साथ बनाया राव का संगठन) के जरिए हम पिछले चार साल से महाराष्ट्र में सूखे से निबटने को जनांदोलन खड़ा करने की कोशिश कर रहे हैं.

इसके लिए विकेंद्रित जलक्षेत्र प्रबंधन, नेतृत्व और सामुदायिक निर्माण का प्रशिक्षण दिया जा रहा है. 2016 में शुरू सत्यमेव जयते वाटर कप स्पर्धा से हमने जो सीखा, उसके जरिए हम जल प्रबंधन और पारिस्थितिकीय सार-संभाल पर काम करने की योजना बना रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay