एडवांस्ड सर्च

फिल्म निर्माण में 'लाइन प्रोड्यूशर' निभाते हैं खास किरदार!

खासे उथल-पुथल वाले दौर में कहीं भी शूटिंग कर पाना अब आसान नहीं रहा. लाइन प्रोड्यूसर ऐसे में बने फिल्म निर्माताओं के संकटमोचन

Advertisement
aajtak.in
मंजीत ठाकुर/ संध्या द्विवेदी नई दिल्ली, 24 January 2018
फिल्म निर्माण में 'लाइन प्रोड्यूशर' निभाते हैं खास किरदार! रश्मि सक्सेना

असल जिंदगी में हमारे सैनिकों को कोई दूसरा मौका या रीटेक नहीं मिलता. लेकिन शूटिंग के दौरान उन्होंने इन सारी चीजों का अनुभव किया. मौका था जेपी दत्ता की नई फिल्म पलटन की शूटिंग का. दत्ता ने अपनी इस फिल्म की दो महीने की शूटिंग का शेड्यूल लद्दाख स्काउट्स के सैनिकों के साथ 15 नवंबर को लद्दाख में पूरा किया.

आउटडोर में इस तरह की शूटिंग किसी भी निर्माता के लिए आसान नहीं होती क्योंकि उन्हें इसकी तैयारी कमोबेश वैसी ही करनी पड़ती है जैसी सेना को बॉर्डर पर जाने के लिए. कलाकारों और यूनिट की टीम के साथ शूटिंग में इस्तेमाल होने वाले भारी-भरकम और अत्याधुनिक उपकरणों को मुंबई से ढोकर लोकेशन पर ले जाया जाता है और इस काम को लाइन प्रोड्यूसर्स बखूबी निभाते हैं.

दत्ता की फिल्म पलटन की शूटिंग लद्दाख में आसानी से हो, इसके लिए फिल्म के लाइन प्रोड्यूसर ओडपाल डेजोर जॉर्ज ने पूरी जिम्मेदारी मुस्तैदी से उठा रखी थी. जॉर्ज कहते हैं, ''1962 के भारत-चीन युद्ध पर आधारित फिल्म पलटन के निर्माण में रक्षा मंत्रालय सहयोग कर रहा है. इस वजह से शूटिंग के दौरान उसका पूरा कंट्रोल था. फिल्म में लद्दाख स्काउट्स के ही सैनिक और उनकी यूनिफार्म इस्तेमाल की गई है."

लाइन प्रोड्यूसर किसी भी फिल्म की यूनिट का वह पहला शख्स होता है जो आउटडोर शूटिंग की हर मुसीबत से प्रोड्यूसर को निजात दिलाता है और जिससे प्रोडक्शन हाउस का सिरदर्द आधा हो जाता है. जॉर्ज दत्ता की एलओसी करगिल फिल्म के निर्माण के दौरान पहली दफा उनसे जुड़े थे.

अब दत्ता को जब भी लद्दाख में अपनी फिल्म की शूटिंग करनी होती है तो वे जॉर्ज को याद करते हैं. जॉर्ज का मानना है कि युद्ध वाली फिल्मों को लेकर रक्षा मंत्रालय का रुख खासा सकारात्मक रहता है.

जॉर्ज ने अब तक 20 से ज्यादा फिल्मों की शूटिंग के दौरान लाइन प्रोड्यूसर का जिम्मा संभाला है. इनमें दत्ता की फिल्मों के अलावा राजकुमार हीरानी की थ्री इडियट्स, ओमप्रकाश मेहरा की मिज्र्या और भाग मिल्खा भाग और विपुल शाह की वक्त जैसी फिल्में शामिल हैं.

लाइन प्रोड्यूसर के रूप में उनका काम आउटडोर शूटिंग के लिए कानूनी अनुमति, लोकेशन खोजना, जरूरी उपकरणों का इंतजाम, फिल्म में स्थानीय लोगों की जरूरत पूरी करना, यूनिट के ठहरने और खाने की व्यवस्था वगैरह करना होता है. यह सब करते हुए बजट पर नजर गड़ाए रखनी पड़ती है.

जाहिर-सी बात है कि लाइन प्रोड्यूसर किसी एक प्रोडक्शन हाउस के लिए काम नहीं कर सकता. उनका काम फ्रीलांसर की तरह होता है. सफल लाइन प्रोड्यूसर वही कहलाता है जिसे बेहतरीन प्रबंधन के अलावा कानूनी अनुमति की तकनीकी और लोकेशंस की अच्छी जानकारी हो. इसका कोई ऐसा औपचारिक कोर्स भी नहीं होता कि जिससे इस काम की बारीकियां पता चल जाएं. दुकान बस अनुभव से ही चलती है.

जॉर्ज के शब्दों में, ''अगर एक निर्माता मेरे काम से खुश हुआ तो वह दूसरे निर्माताओं को मेरे बारे में बताता है. इसी से मेरा काम चलता रहता है." जॉर्ज के पास शूटिंग के लिए आधुनिक उपकरण नहीं हैं. इस वजह से उन्हें मुंबई और दिल्ली से मंगाना पड़ता है. वे कहते हैं, ''जब किसी फिल्म की शूटिंग 11,500 फुट की ऊंचाई पर होती है और तापमान शून्य डिग्री या उससे भी नीचे हो तो परेशानी बढ़ जाती है.

कैटरिंग की खास व्यवस्था करनी पड़ती है. ऐसे मौके पर स्टार्स भी कहते हैं कि एक कड़क चाय मिल जाए तो लाइफ बन जाए." इस तरह के आउटडोर शूटिंग उपक्रमों से पर्यटन को तो बढ़ावा मिलता ही है, स्थानीय लोगों को भी रोजगार मिलता है. जॉर्ज खराब मौसम की वजह से अक्सर पेश आने वाली परेशानियों का भी हवाला देते हैं.

मेहरा की मिर्ज्या की शूटिंग नूब्रा घाटी में थी. लेकिन मौसम ने साथ नहीं दिया तो लोकेशन बदलनी पड़ी और फिर पैंगांग में शूटिंग हुई. इससे प्रोडक्शन हाउस को थोड़ा नुक्सान उठाना पड़ा था.

श्रीनगर भी फिल्मवालों के लिए हॉट स्पॉट है. यहां समय-समय पर आतंकी हमलों से माहौल बिगड़ता भी रहता है. इसके बावजूद निर्माता जोखिम उठाकर शूटिंग करते रहते हैं. ऐसे में यहां के लाइन प्रोड्यूसर के लिए जोखिम कहीं ज्यादा रहता है.

वैली फ्रेश प्रोडक्शन के जहूर कादिर ऐसे ही एक लाइन प्रोड्यूसर हैं, जो फिल्मवालों के लिए मददगार साबित होते हैं. वे बड़े फख्र से बताते हैं कि ''कश्मीर के आगे यूरोप की खूबसूरती फीकी लगती है, इसलिए फिल्मवाले यहां शूटिंग करते हैं. और अब तो नेट के जरिए ही स्क्रिप्ट के हिसाब से लोकेशंस की शुरुआती जानकारी दे दी जाती है.

फाइनल करने निर्देशक एक बार जरूर आते हैं." जहूर ने जब तक है जान, हीरोपंती, फैंटम, बजरंगी भाईजान और हैदर जैसी फिल्मों के लिए लाइन प्रोड्यूसर का काम किया है. वे बताते हैं कि टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए सरकारी स्तर पर सहयोग मिलता है जिससे किसी तरह के परमिशन में दिक्कत नहीं आती.

दिल्ली के रवि सरीन ऐसे लाइन प्रोड्यूसर हैं जो अपने बेहतरीन काम के लिए कई बार पुरस्कार ले चुके हैं. वे 25 साल से इस पेशे में हैं. उनके प्रबंधन के सहारे निर्माता अपनी फिल्मों की शूटिंग दिल्ली, गुडग़ांव, नैनीताल, पंजाब और आगरा जैसी जगहों पर आसानी से कर पाते हैं.

रंग दे बसंती, रांझना और फिल्लौरी  के अलावा वे आने वाली फिल्मों ड्राइव, संदीप सिंह की बायोपिक सूरमा, वीरे दी वेडिंग और पैडमैन के भी लाइन प्रोड्यूसर हैं. उनकी टीम के 5-6 लोग सारी व्यवस्था संभालते हैं. उनका दावा है कि ''शूटिंग के लिए परमिशन लेने में पहले परेशानी होती थी. लेकिन मोदी सरकार के आने से कुछ सुधार हुआ है.

संबंधित अधिकारी अब ज्यादा तंग नहीं करते. लेकिन इंडिया गेट के लिए परमीशन लेने में अब भी दिक्कत आती है. यह इलाका गृह मंत्रालय के अधीन है. दिल्ली एयरपोर्ट अब प्राइवेट हो गया है जहां परमिशन होने के बावजूद संबंधित अधिकारी परेशान करते हैं. आगरा में स्थानीय लोगों की वजह से दिक्कत आती है.

वे काफी उत्तेजित हो जाते हैं और उन्हें हाथ जोड़कर नियंत्रित करना पड़ता है. बहुत से ऐसे कलाकार हैं जिन्हें पब्लिक को संभालना बखूबी आता है. आमिर खान और आयुष्मान खुराना भीड़ में घुसकर लोगों को शांत कर लेते हैं."

दिल्ली में चांदनी चैक और कनॉट प्लेस निर्माताओं की पसंदीदा जगहें हैं. रवि ने हाल ही वहां ऋषि कपूर के साथ राजमा चावल फिल्म की शूटिंग की थी. गुडग़ांव में ज्यादातर क्रलैट्स में शूटिंग होती है. वे कहते हैं, ''निर्देशक पहली वाली लोकेशन पर दोबारा शूटिंग नहीं करना चाहते. विविधता के लिए उन्हें नए लोकेशन की तलब रहती है." वे बताते हैं कि लाइन प्रोड्यूसर की वजह से लोकल टैलेंट को फिल्मों में काम करने का मौका मिलता है.

चंडीगढ़ के मोहाली में रहने वाले जसबीर ढिल्लों खुद थिएटर आॢटस्ट हैं लेकिन वे कास्टिंग डायरेक्शन करते हुए लाइन प्रोड्यूसर का भी काम करने लगे. उन्होंने अनुराग कश्यप की देव डी के अलावा कई पंजाबी फिल्मों के लिए भी यह जिम्मा संभाला है.

वे बताते हैं, ''चंडीगढ़ मॉडर्न सिटी है. यहां से 10 किलोमीटर की दूरी पर गांव-खेत और पंजाबी माहौल मिल जाता है. इसलिए निर्माताओं को परेशानी नहीं होती." पटियाला के पास एक पुरानी हवेली में जब वी मेट  की शूटिंग के लिए बना-बनाया सेट मिल गया था.  

पंजाब के ही रतन औलख दो दशक से ज्यादा समय से यह काम कर रहे हैं. काम का उनका अपना फलसफा है, ''शूटिंग के दौरान सारी जिम्मेदारी हमारी होती है. हमारे पांच-छह लोग सेट पर होते हैं. राज्य सरकारों का सपोर्ट रहता ही है. हर चीज की दरें तय हैं, जिससे परमिशन मिलने में किसी तरह की दिक्कत नहीं आती."

उनके शब्दों में, ''पंजाब में हवेलियां हैं, छोटे-छोटे किले हैं, दरिया हैं, सरसों और गन्ने के खेत हैं, कुछ एनआरआइ के घर भी हैं जिन्हें हम किराए पर लेकर शूटिंग करते हैं. पंजाब के लोग अपने कलाकारों से बहुत प्यार करते हैं, इसलिए शूटिंग के दौरान किसी तरह की परेशानी नहीं होती. दारा सिंह, धर्मेंद्र और सनी देओल को तो कभी परेशान नहीं किया गया." औलख स्वयं निर्माता भी हैं.

राजस्थान और गुजरात के लिए संजय सोनी लाइन प्रोड्यूसर का काम करते हैं. इस पेशे में उनके दो बेटे अभिमन्यु और सिद्धार्थ भी हैं जो मुंबई में रहते हैं. संजय बताते हैं, ''विवादास्पद फिल्म पद्मावत का काम करने के लिए उन्हें ऑफर मिला था लेकिन शूटिंग शुरू होने से पहले ही इसका विरोध होने लगा था, इसलिए उन्होंने यह फिल्म नहीं ली."

चितौड़ में विरोध हुआ तो यूनिट जयपुर में शूटिंग के लिए गई. वहां भी विरोध होने पर पूरी यूनिट मुंबई लौट गई." राजस्थान में कई ऐसी जगहें हैं जो शूटिंग के लिए बेहतरीन हैं. पर्यटन महकमा उन्हें प्रमोट तो करता है लेकिन परमिशन के लिए सिंगल विंडो सिस्टम कामयाब नहीं है.

महिला लाइन प्रोड्यूसर के रूप में साउथ की श्रीवल्ली एम.एम. का बड़ा नाम है. आंध्र प्रदेश की श्रीवल्ली 1989 से काम कर रही हैं. हाल ही आई बाहुबली-2 की वे लाइन प्रोड्यूसर थीं. अनुभवी लाइन प्रोड्यूसरों को फिल्म निर्माता बनने का भी मौका मिल जाता है.

बाहुबली फिल्म के एक प्रोड्यूसर शोबू यरलागड्डा हैं जिन्होंने अपने ससुर की कुछ फिल्मों के लिए लाइन प्रोड्यूसर के रूप में काम किया था और डिज्नी के साथ भी एक प्रोजेक्ट में जुड़े थे. यहां रवि सरीन एक मार्के की बात कहते हैं, ''अपने कंधे पर प्रोडक्शन हाउस का जिम्मा संभालना और कलाकारों को खुश करने का अनुभव किसी भी लाइन प्रोड्यूसर के लिए प्रोड्यूसर बनने का रास्ता आसान बना देता है." अब मेहनत की है तो फल मिलेगा ही.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay