एडवांस्ड सर्च

रामायणः कायम है करिश्मा

महामारी काल में लॉकडाउन के चलते घरों में बैठे-ऊबे दर्शकों के सामने रामायण फिर से परोसकर दूरदर्शन ने व्यूवरशिप के मामले में रिकॉर्ड ही बना डाला. पर क्या यह सिर्फ कोरोना काल की चांदनी है?

Advertisement
aajtak.in
मीनाक्षी कंडवालनई दिल्ली, 19 May 2020
रामायणः कायम है करिश्मा धारावाहिक रामायण का प्रसारण

कोरोना महामारी के बीच केंद्र सरकार ने 28 मार्च से दूरदर्शन पर रामानंद सागर निर्देशित धारावाहिक रामायण के प्रसारण का ऐलान किया तो एक तरफ जहां राजनैतिक प्रतिरोध के स्वर सुनाई दिए, वहीं घर में बंद बैठे करोड़ों दर्शकों ने दिल खोलकर इसका स्वागत किया. नतीजा रामायण की लोकप्रियता पर सवार होकर दूरदर्शन ने अरसे बाद टीआरपी चार्ट में निजी मनोरंजन चैनलों को सीधी पटखनी दी.

16 अप्रैल को प्रसारित इसके एपिसोड के बारे में खुद दूरदर्शन ने ट्वीट कर जानकारी दी कि इसने 7.7 करोड़ की व्यूवरशिप दर्ज की और यह दुनिया का सबसे ज्यादा देखा जाने वाला एपिसोड बन गया.

यह वही पौराणिक धारावाहिक था, 1987-88 में पहली बार प्रसारण पर जिसकी लोकप्रियता और जिससे जुड़े किस्से भी मिथक बन रहे थे. मुंबई में रामानंद सागर का दफ्तर प्रशंसकों की चिट्ठियों से अट गया था. इसके शूटिंग स्थल, मुंबई से चार घंटे की दूरी पर स्थित, गुजरात के बलसाड़ जिले के उमरगांव का नजारा ही अलग था.

इंडिया टुडे की 30 अप्रैल, 1987 के अंक में छपी एक रिपोर्ट कहती है, ''वहां गांव के लोग राम का किरदार निभा रहे अरुण गोविल को देखकर घुटनों के बल बैठ जाते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि राम वापस आ गए हैं.'' एक महिला ने तो लिखा कि वह अपने नेत्रहीन बेटे को रामायण के प्रसारण के वक्त टेलीविजन का स्पर्श कराती है, क्योंकि उसे लगता है कि ऐसा करने से बेटे की आंखों की रोशनी वापस आ सकती है. ''एक बुजुर्ग ने चिट्ठी में लिखा कि सीरियल देखकर बेटा उनके पांव दबाने लगा है क्योंकि राम भी ऐसा करते हैं.''

लेकिन वह दौर अलग था. मनोरंजन के नाम पर लोगों के पास सिर्फ दूरदर्शन था.

2020 में रामायण की कामयाबी चौंकाती है क्योंकि आज सैकड़ों टीवी चैनल हैं और उन पर कंटेंट की भरमार है. नेटफ्लिक्स, अमेजन समेत 10 से ज्यादा ओटीटी फ्लेटफॉर्म हैं. हर हाथ में मोबाइल है. और फिर रामायण की कहानी कोई नई नहीं.

राम का किरदार निभाने वाले अरुण गोविल ने पुनर्प्रसारण के पहले ही दिन टीवी चैनल आजतक से बातचीत में कहा, ''मुश्किल वक्त है और मुश्किल घड़ी में भगवान सबसे ज्यादा याद आते हैं. रामायण प्रासंगिक थी, है और रहेगी.''

और मई के पहले हफ्ते में यानी लॉकडाउन के तीसरे चरण में पहुंचने पर एक अन्य चैनल ने रामायण का पुनप्रसारण शुरू कर उसकी लोकप्रियता को नए सिरे से भुनाने की कोशिश की.

रामायण दरअसल एक पौराणिक कथानक की शक्ल में आइडिया ऑफ इंडिया की, भारत की पहचान की बात करता है. वैसे ही जैसे बीसवीं सदी के चर्चित फिल्मकारों में से एक वी.

शांताराम की फिल्में करती थीं. दो आंखें बारह हाथ, नवरंग और झनक-झनक पायल बाजे जैसी उनकी फिल्में सेट, कॉस्ट्यूम डिजाइन और रंगयोजना में कमजोर होती थीं लेकिन भारतीय जीवनमूल्यों को लेकर गढ़े गए कथानक के लिहाज से इतनी सशक्त कि हर दर्शक बिंधा-बंधा रहे.

आज देखने पर सागर की रामायण के प्रमुख किरदारों में भी पारसी अभिनय शैली वाली लाउडनेस और अशोक वाटिका जैसे कई दृश्यों की सेट डिजाइन नितांत बचकानी लगती है. लेकिन बात कथानक पर आकर टिक जाती है.

पुनप्रसारण में रामायण की कामयाबी से खुश, इसके सहनिर्देशक और रामानंद सागर के बेटे मोती सागर भी इस पहलू की ओर इशारा करते हैं, ''दुनिया कितनी ही बदल जाए, इनसानियत के मूल्य नहीं बदलते.

30 साल नहीं, भले 100 साल बीत जाएं, हमारे दुख-सुख, कामयाबी-नाकामी को सहने के तरीके नहीं बदलते. रामायण बताती है कि किसी इनसान को कैसे परफेक्ट होना है. राम का किरदार वही आदर्श है.''

लेकिन यह भी सच है कि रामायण और राम के साथ राजनीति लगातार एक त्रिकोण बनाकर चलती आई है. याद कीजिए, अस्सी के उत्तरार्ध में राम जन्मभूमि के आक्रामक होते गए आंदोलन का वह दौर.

रामायण ने कथित तौर पर हिन्दुत्व के उस उभार को और हवा दी थी. इसके प्रसारण से पहले कांग्रेस में काफी माथापच्ची हुई थी.

समाजशास्त्री और मीडिया अध्येता अरविंद राजगोपाल अपनी किताब पॉलिटिक्स आफ्टर टीवी में लिखते हैं, ''1987-1988 में 18 महीनों तक चले इस सीरियल ने विशुद्ध रूप से भारत की राजनीति पर असर डाला. हर रविवार को 45 मिनट तक प्रसारित होने वाले रामायण ने भारत के हिंदुओं की 'चेतना' को जगाने का काम किया.''

हालांकि, मौजूदा दौर में अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट फैसला दे चुका है. देश में ऐसी सरकार है, जो यह परसेप्शन गढ़ चुकी है कि हिंदुत्व और राष्ट्रवाद एक ही सिन्न्के के दो पहलू हैं. फिर भी पुनर्प्रसारण पर सियासत गरमा ही गई. सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने रामायण देखते हुए अपनी तस्वीर ट्वीट की लेकिन इसको लेकर खींचतान शुरू होने पर उन्होंने इसे डिलीट कर दिया.

भाजपा से छिटककर आए यशवंत सिन्हा ने सरकार पर लॉकडाउन के दौरान रामायण के जरिए हिंदू राष्ट्र के एजेंडे को आगे बढ़ाने का आरोप लगाया. सुप्रीम कोर्ट के वकील और एक्टिविस्ट प्रशांत भूषण ने रामायण-महाभारत के प्रसारण को 'अफीम' से जोड़ा तो उनके खिलाफ एफआइआर हो गई और गिरफ्तारी रुकवाने के लिए उन्हें सुप्रीम कोर्ट जाना पड़ा.

यह देखना दिलचस्प था कि रामायण के पुनप्रसारण के दौरान कांग्रेस भी उसका श्रेय लेती दिखी, यह कहकर कि पहले-पहल इसका प्रसारण राजीव गांधी की सरकार में हुआ था. मोती सागर ने इस मौके पर आगे आकर इस पहलू से धुंध को साफ करते हुए कहा कि रामायण की अनुमति लेने में उनके पिता को पसीने छूट गए थे. ''कांग्रेस ने शुरू में यह कहते हुए दूरदर्शन पर रामायण दिखाने से मना कर दिया कि हम धार्मिक प्रोग्राम नहीं चला सकते. पापाजी को सरकार को बार-बार कन्विंस करना पड़ा कि रामायण धार्मिक कंटेंट नहीं है. यह सदियों से हमारे देश के नैतिक मूल्यों का आईना है. 5-6 महीने तक बातचीत चलती रही पर बात नहीं बनी. फिर हमने यह भी सुना कि सूचना और प्रसारण मंत्री की पत्नी के दखल देने पर सरकार का मन बदला.''

कोरोना काल में रामायण के इतिहास रचने का एक निहितार्थ यह भी है कि दूरदर्शन चाहे तो दर्शकों के बीच अब भी गहरी पैठ बना सकता है. उसकी लाइब्रेरी ऐसे अनमोल रत्नों से भरी पड़ी है. पर फिर एक सवाल भी उठता है: टीआरपी में क्या दूरदर्शन आगे भी निजी चैनलों से मुकाबला करेगा या यह सिर्फ कोरोना के लॉकडाउन पीरियड की चांदनी है?

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay