एडवांस्ड सर्च

देशभक्ति चर्चा की नहीं, कर्म में उतारने की चीज हैः वसीम बरेलवी

आज देशभक्ति हममें से हरेक से मांग करती है कि हम संजीदगी से अपने भीतर झांकें. इसके लिए एक विशाल और सार्थक चरित्र निर्माण अभियान की जरूरत है. अब वक्त आ गया है कि इस देश के नौजवानों को प्रेरित किया जाए

Advertisement
aajtak.in
मंजीत ठाकुर नई दिल्ली, 20 August 2019
देशभक्ति चर्चा की नहीं, कर्म में उतारने की चीज हैः वसीम बरेलवी फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे

देशभक्ति को लेकर उतनी बातचीत किसी भी दूसरे देश में नहीं की जाती जितनी ऊंचे आदर्शों और महान परंपराओं के इस देश में की जाती है. हकीकत यह है कि देशभक्ति कोई चर्चा की चीज नहीं है, यह कर्म में उतारने की चीज है. इसे अपनी तरह से बयान करना और वचन से साबित करना होता है. 

अंग्रेजों की दमनकारी हूकूमत से मुक्ति दिलाना हमारे स्वतंत्रता सेनानियों की यादगार मुबारक कामयाबी थी और इसमें भी कोई संदेह नहीं कि उसके बाद अपने राष्ट्रीय जीवन के तमाम क्षेत्रों में हमने कई अविस्मरणीय गौरवशाली लम्हे हासिल किए हैं. मगर आइए हम खुद से यह भी पूछें कि चरित्र के मोर्चे पर हमने क्या हासिल किया है? 

हमने सादा जीवन जीने और ऊंचा सोचने वाले अपने पूर्वजों से विरासत में जो बेजोड़ सांस्कृतिक चरित्र पाया था, क्या उसे बनाए रखने और आगे बढ़ाने में हम नाकाम नहीं रहे हैं? 

खरीदारी के लिए दुकानों पर जाइए तो आपको मिलावटी खाने की चीजें, सिंथेटिक दूध, खतरनाक छिड़कावों वाली सब्जियां और न जाने क्या-क्या मिलेगा. ठेठ ऊपर से लेकर बिल्कुल नीचे तक सोच से लेकर व्यवहार तक भ्रष्ट आचरणों ने हमें संदेह और अविश्वास से भरा दयनीय समाज बना दिया है. 

आज देशभक्ति हममें से हरेक से मांग करती है कि हम संजीदगी से अपने भीतर झांकें. इसके लिए एक विशाल और सार्थक चरित्र निर्माण अभियान की जरूरत है. अब वक्त आ गया है कि इस देश के नौजवानों को प्रेरित किया जाए, इस पवित्र धरती के कल को संवारा जाए और इस घृणित परिस्थिति को ललकारा जाए और इसकी शुरुआत अपने घर से ही की जाए. उन्हें अपने बड़ों से पूछना चाहिए कि वे ईमानदारी से कितना कमाते हैं और बेईमानी से कितना खर्च करते हैं. 

पिताओं की नींद केवल तभी खुलेगी जब बेटे नापाक की कमाई के खिलाफ बगावत करेंगे. बेटियां भ्रष्ट कमाई से रसोई बनाने से इनकार कर सकती हैं. मैं विनम्रता मगर सख्ती से मानता हूं कि चरित्र निर्माण अभियान आज वक्त की सबसे बड़ी जरूरत है. 

राष्ट्र का देशभक्त चरित्र आज वक्त की मांग है. 

(वसीम बरेलवी जाने-माने शायर हैं)

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay