एडवांस्ड सर्च

बुंदेलखंड में पानी से बांटी जा रही खुशियां

झांसी से सटे परासई-सिंध क्षेत्र में कोका कोला इंडिया फाउंडेशन, इंटरनेशनल क्रॉप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर द सेमी एरिड ट्रॉपिक्स (आइसीआरआइएसएटी) और नेशनल रिसर्च सेंटर फॉर एग्रो फॉरेस्ट्री (एसआरसीएएफ) ने स्थानीय सहायता समूह हरितिका के साथ मिलकर जल संरक्षण की दिशा में सराहनीय काम किया है.

Advertisement
aajtak.in
संध्या द्विवेदी/ मंजीत ठाकुर 14 August 2019
बुंदेलखंड में पानी से बांटी जा रही खुशियां किसानों को राहत

झांसी। बुंदेलखंड का ख्याल मन में आते ही माथे पर चिंता की लकीरें खुद-ब-खुद उभरने लगती हैं. पानी की कमी, सूखे खेत, खराब सामाजिक-आर्थिक स्थिति फिलहाल तो यही इस इलाके की पहचान है. जल के बिना जीवन कितना नीरस हो जाता है? यह जानने और समझने के लिए किसी बड़े प्रयोग की जरूरत नहीं है. महज बुंदेलखंड के उन किसानों से मिल लीजिए जो पानी की कमी के कारण पैदावार न मिलने पर शहर जाकर मजदूरी करने के लिए मजबूर हैं.

मौजूदा स्थिति में कोई छोटी सी पहल जो इस स्थिति को बदलने में मददगार हो वह अंधेरे ×ð´ जलने वाले किसी दीये से कम नहीं. झांसी से सटे परासई-सिंध क्षेत्र में कोका कोला इंडिया फाउंडेशन, इंटरनेशनल क्रॉप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर द सेमी एरिड ट्रॉपिक्स (आइसीआरआइएसएटी) और नेशनल रिसर्च सेंटर फॉर एग्रो फॉरेस्ट्री (एसआरसीएएफ) ने स्थानीय सहायता समूह हरितिका के साथ मिलकर जल संरक्षण की दिशा में सराहनीय काम किया है.

इस साझा प्रयास के अंतर्गत परासई-सिंध क्षेत्र में बारिश के पानी को संरक्षित करने के लिए कुल आठ चेक डैम बनाए गए. जिसके कारण मानसून के बाद भी लंबे समय तक पानी की उपलब्धता सुनिश्चित की जा सके. इन चेक डैम से सटे गांव बछौनी,परासई और छतपुर का करीब 1250 हेक्टेयर क्षेत्र इससे लाभांवित हुआ. इन चेक डैम में लंबे समय तक पानी रहने पर भू-जल स्तर में सुधार हुआ है. दावा है कि इस प्रयास से परासई-सिंध क्षेत्र के इलाके में भू-जल स्तर में औसत 2 से 4 मीटर का सुधार हुआ है, जो मानसून के बाद फसल की पैदावार को औसत 30 फीसदी तक बढ़ा देता है.

कोका कोला इंडिया फाउंडेशन के प्रोजेक्ट मैनेजर राजीव गुप्ता कहते हैं, ''बुंलेदखंड में पानी की कमी से न केवल किसानों बल्कि यहां रहने वाले लोगों का जीवन भी प्रभावित होता है. बारिश के पानी का उपयुक्त संरक्षण न कर पाने के कारण इस क्षेत्र में रबी की पैदावार प्रभावित होती है.''

छोटे प्रयास बड़े फायदे

परासई गांव के 50 वर्षीय किसान लल्लू पाल कहते हैं ''इन चेक डैम के बनने से रुपए में अठन्नी का फायदा तो हुआ है.'' पैदावर ढेड़ गुनी हो गई है. पाल उरद, मूंगफली और गेहूं की खेती करते हैं. पैदावार बढ़ने से हाथ में कुछ ज्यादा पैसे आते हैं.''

एक और किसान खेम चंद्र बताते हैं, ''इन चेक डैम से पानी की उपलब्धता बेहतर हुई. इससे गेहूं की पैदावार प्रति हेक्टेयर 1.5 क्विंटल से बढ़कर 1.8 क्विंटल हो गई.'' निश्चित तौर पर इससे उनकी आय बढ़ी. खेमचंद्र ने अभी हाल में एक मोटरसाइकिल भी खरीदी है. पाल और खेमचंद्र की तरह गांव के अन्य किसान भी इन चेक डैम के बनने से खुश थे.

किसानों की पीड़ा के सामने ये राहत बेशक थोड़ी है. लेकिन सरकार के विशाल तंत्र के लिए ये नजीर से कम नहीं.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay