एडवांस्ड सर्च

पंजाब में भाजपा-अकाली दल के बीच गठबंधन का ऐलान

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए पंजाब में भाजपा और अकाली दल के बीच सीटों का समझौता हो गया है.  राज्य की 13 लोकसभा सीटों में अकाली दल 10 सीटों पर और भाजपा 3 सीटों पर चुनाव लड़ेगी

Advertisement
aajtak.in
मंजीत ठाकुर 28 February 2019
पंजाब में भाजपा-अकाली दल के बीच गठबंधन का ऐलान अमित शाह और सुखबीर बादल की बैठक

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए पंजाब में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा)  और शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के बीच सीटों का समझौता हो गया है.  राज्य की 13 लोकसभा सीटों में अकाली दल 10 सीटों पर और भाजपा 3 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. इसकी औपचारिक घोषणा भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने नई दिल्ली में गुरुवार को की. शाह ने कहा कि भाजपा और उसके पुराने सहयोगी शिरोमणि अकाली दल लोकसभा चुनाव एक साथ लड़ेंगे. सीटों की स्थिति वैसी ही हैं जैसी पिछली लोकसभा चुनाव 2014 में थी. इससे पहले अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने अमित शाह के साथ मुलाकात की. 

गौरतलब है कि पिछले लोकसभा चुनाव में शिरोमणि अकाली दल (शिअद) को 4 सीटों पर और भाजपा को 2 सीटों पर जीत हासिल हुई थी. वहीं वोट प्रतिशत की बात करे तो अकाली दल को 26.3 फ़ीसदी और भाजपा को 8.7 फीसदी मत प्राप्त हुए थे. इन दोनों पार्टियों का संयुक्त वोट 35 फ़ीसदी होता है. आम आदमी पार्टी (आप) को 4 सीटों पर जीत हासिल हुई थी और उसका वोट फ़ीसदी 24.4 था. वही कांग्रेस को 3 सीटें और 33.1 फ़ीसदी वोट मिले थे. यानी, राज्य में पिछले लोकसभा चुनाव में सबसे ज्यादा कांग्रेस का मत प्रतिशत रहा. जाहिर है कि राज्य में त्रिकोणीय लड़ाई के हालात हैं.

चुनाव जीतने के लिए क्या कर रही है पार्टियां?

लोकसभा चुनाव को करीब देखते हुए सारी पार्टियां वोटरों को लुभाने के लिए कुछ न कुछ कर रही हैं. पंजाब सरकार ने कुछ दिन पहले बजट पेश करते हुए पेट्रोल में 5 रुपए की कटौती की है. यह फैसला, जाहिर है, लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए किया गया. केंद्र सरकार और  भाजपाशासित अन्य राज्य सरकारों ने अक्बतूर, 2018 में पेट्रोल और डीज़ल के रेट में ढाई-ढाई रुपयों की कटौती की थी. लेकिन पंजाब सरकार ने तब दरों में कोई कटौती नहीं की थी, जिससे कांग्रेस पर सवाल भी उठाए गए थे. पर अब चुनाव करीब आते ही पेट्रोल और डीजल के कीमतों में कटौती से साफ है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह वोटरों को साधने की जुगत में हैं.

उधर, आम आदमी पार्टी ने सभी 13 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है. जिसमे पार्टी 5 उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर चुकी है. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने मिशन 13 लॉन्च किया है. पंजाब कांग्रेस ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को अमृतसर से चुनाव लड़ाने की मांग की है. ताकि 2017 विधानसभा चुनाव की तरह पार्टी कामयाब हो सके. इस पर अकाली दल ने नाराजगी जताते हुए कहा कि “कांग्रेस डॉ. मनमोहन सिंह को आगे कर चुनाव जीतना चाहती है”. अकाली दल पंजाब सरकार को किसान कर्ज माफी और ड्रग्स के मुद्दे को लेकर घेर रही है कि कांग्रेस जिस मुद्दे को लेकर सरकार में आई है उन्होंने उस पर काम नहीं किया है.  

गौरतलब है कि 2017 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा था और पार्टी ने 77 सीटों के साथ 38.50 फ़ीसदी वोट पाए. भाजपा 3 सीटों के साथ 5.4 फ़ीसदी वोट पर सिमट गई और अकाली दल 15 सीटें जीतकर 25.2 फ़ीसदी वोट ही पा सकी. दूसरी तरफ, वहीं आम आदमी पार्टी ने 20 सीटें जीतकर 23.7 फ़ीसदी वोट हासिल किए. 

फिलहाल, पंजाब में भाजपा मोदी मैजिक की उम्मीद कर रही है और उसे सत्ता-विरोधी रुझान का आसरा भी होगा. जबकि आम आदमी पार्टी अपनी अंदरूनी लड़ाइयों से बेजार है. कांग्रेस के पास कैप्टन तो हैं ही, उसे केंद्र के सत्ताविरोधी रुझान से भी फायदा मिल सकता है. पाकिस्तान के साथ बिगड़ते रिश्तों का भी पंजाब में वोटिंग पैटर्न पर असर पड़ेगा. कुल मिलाकर पंजाब में बैलेट की लड़ाई पर सरहदी बुलेटों का असर हो सकता है.

(सरफराज आलम और जवाहर लाल नेहरू आइटीएमआइ के छात्र हैं और इंडिया टुडे में प्रशिक्षु हैं)

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay