एडवांस्ड सर्च

ऐसे दरकी गठबंधन दीवार

लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ बना गठबंधन रहा नाकाम, जानिए क्या रहीं वजह

Advertisement
aajtak.in
आशीष मिश्र/ संध्या द्विवेदी/ मंजीत ठाकुर 06 June 2019
ऐसे दरकी गठबंधन दीवार बेनतीजा एकजुटता

एक-दूसरे को अपना पूरा वोट ट्रांसफर कराने में नाकाम सपा-बसपा-रालोद गठबंधन को निचले स्तर पर सामंजस्य के अभाव का खामियाजा लोकसभा चुनाव में भुगतना पड़ा.

1. गठबंधन में देरी - पिछले वर्ष मार्च में गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उप-चुनाव में सपा और बसपा के गठजोड़ की नींव पड़ने के बाद 10 महीने बाद जनवरी में सपा, बसपा और रालोद में गठबंधन की घोषणा हुई. सपा और बसपा को 38-38 लोकसभा सीटें और रालोद को 2 सीटों पर लड़ना तय हुआ

2. सीटों का संशय-गठबंधन की घोषणा के 40 दिन बाद 21 फरवरी को सपा-बसपा और रालोद के बीच लोकसभा सीटों के बंटवारे की जानकारी दी गई. सीट बंटवारे पर रालोद नेताओं की नाराजगी दूर करने के लिए अखिलेश यादव ने सपा कोटे से एक लोकसभा सीट मथुरा रालोद को लड़ने के लिए दी.

3. असंतुलित बटवारा- सपा के हिस्से में आई कुल 37 सीटों में से 19 ऐसी थीं जिन पर 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को सपा और बसपा को मिले कुल मतों से अधिक मत मिले थे. वहीं बसपा के खाते में ऐसी केवल 14 सीटें ही थीं. भाजपा की प्रतिष्ठा वाली ज्यादातर सीटें सपा के खाते में गईं.

4. सामंजस्य का अभाव- सपा, बसपा और रालोद के गठबंधन में बड़े नेता तो एकजुट दिखे लेकिन लोकसभा स्तर पर इन दलों की कोई कोऑर्डिनेशन समिति न होने पर स्थानीय नेताओं में सामंजस्य नहीं दिखा. आम तौर पर सपा की सीटों पर बसपा और बसपा की सीटों पर सपा नेताओं ने दिलचस्पी नहीं ली.

5. बड़े नेताओं पर निर्भरता-सपा-बसपा-रालोद गठबंधन अपने जनाधार को एकजुट रखने के लिए अखिलेश यादव, मायावती और अजित सिंह पर पूरी तरह निर्भर था. बड़ी रैलियों की तुलना में छोटी-छोटी सभाएं और मतदाताओं से जनसंपर्क न करने से जमीन पर गठबंधन का माहौल नहीं बना.

6. मतदाताओं से संपर्क - सपा-बसपा-रालोद गठबंधन के नेताओं को यह भरोसा था कि उनके समर्थक स्वतः ही मतदान के लिए निकलेंगे. गठबंधन ने मतदाताओं से डोर टू डोर संपर्क करने की कोई रणनीति नहीं बनाई. नए मतदाताओं को जोड़ने का भी कोई अभियान न चलाने से उनके मतों में इजाफा ना हो सका.\

साथ में आकाश कुमार

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay