एडवांस्ड सर्च

कर्नाटक के नाटक के पीछे की भगवा रणनीति

भाजपा सूत्रों का कहना है कि पार्टी लोगों को यह बताने की कोशिश कर रही है कि मौजूदा समय में भाजपा के खिलाफ कोई दल टिकने वाला नहीं है. जो गठबंधन अभी है उसका कोई भविष्य नहीं है.

Advertisement
aajtak.in
सुजीत ठाकुर 17 January 2019
कर्नाटक के नाटक के पीछे की भगवा रणनीति एचडी कुमार स्वामी और येदियुरप्पा

नई दिल्ली। दक्षिण का राज्य कर्नाटक पिछले एक हफ्ते से सियासी रूप से चर्चा में है. राज्य में सत्तारूढ़ कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है और सरकार कभी भी गिर सकती है यह आशंका बनती और जाती रही. स्थिति अभी भी साफ नहीं है. कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन यह बताने की कोशिश कर रहा है कि सरकार पर कोई खतरा नहीं है और भाजपा उनके (कांग्रेस) विधायकों को तोड़ने की कोशिश कर रही है. दूसरी तरफ भाजपा यह कह रही है कि कर्नाटक सरकार में गठबंधन में कई छेद है और राज्य में न तो जेडीएस को कांग्रेस पर न ही कांग्रेस को जेडीएस पर भरोसा है.

कर्नाटक प्रकरण इस बार सुर्खियों में उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच गठबंधन के एलान के ठीक एक दिन बाद आया. देश के सबसे बड़े सूबे (यूपी) में गठबंधन जिस दिन हुआ उस दिन दिल्ली के रामलीला मैदान में भाजपा का राष्ट्रीय अधिवेशन चल रहा है. सपा-बसपा के गठबंधन होने की खबर के बीच भाजपा ने यह कहा कि, 'मोदी सरकार के खिलाफ गठबंधन दरअसल स्वार्थ का गठबंधन है. विरोधी दलों के पास न तो नेता है न ही कोई नीति जिस पर वह इक्कठा हो रहे हैं. ये गठबंधन नहीं चलने वाला है.' राष्ट्रीय परिषद् में ही भाजपा ने अपने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे लोगों के बीच जाएं और  इस बात को प्रमुखता से रखें कि मोदी सरकार के खिलाफ बनने वाले गठबंधन की उम्र बहुत कम है. कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद यह कहने से नहीं चूके कि पहले भी भाजपा को रोकने के लिए जो गठबंधन बने  उनकी उम्र बहुत कम रही. उन्होंने केंद्र की देवगौड़ा सरकार, गुजराल सरकार और चंद्रशेखर सरकार का उदाहरण भी दिया.

भाजपा सूत्रों का कहना है कि पार्टी लोगों को यह बताने की कोशिश कर रही है कि मौजूदा समय में भाजपा के खिलाफ कोई दल टिकने वाला नहीं है. जो गठबंधन अभी है उसका कोई भविष्य नहीं है. लोग भाजपा की इस तर्क को स्वीकार तभी करेंगे जब इस दिशा में उन्हे कुछ होता हुआ दिखेगा. पिछले दिसंबर में हुए तेलंगाना विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और टीडीपी गठबंधन का फेल होना इसका  उदाहरण है. लेकिन जहां अभी विपक्षी दल या गठबंधन की सरकार है वहां अस्थिरता का यदि कोई उदाहरण लोगों को को मिले तो इससे सियासी मदद भाजपा को मिल सकती है. इसलिए कर्नाटक प्रकरण को पार्टी ने मुद्दा बनाने का निश्चय पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन में ही कर लिया. अधिवेशन समाप्त होने के बाद कर्नाटक के पार्टी के सभी विधायकों को एनसीआर के होटल में रोका गया. कर्नाटक के दो निर्दलीय विधायकों से सरकार से समर्थन वापसी का पत्र लिखवाया गया. मुंबई में कांग्रेस के तीन विधायकों से संपर्क होने की बात की गई. कर्नाटक को लेकर इन तमाम सियासी प्रकरण के जरिए भाजपा काफी हद तक यह बताने में सफल रही  कि कर्नाटक में एक अस्थिर सरकार अथवा गठबंधन है. यह संकेत पार्टी उस समय दे रही है जब दो दिनों के बाद 19 जनवरी को कोलकाता में टीएमसी के नेतृत्व में मोदी विरोधी दलों की महारैली होने वाली है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay