एडवांस्ड सर्च

क्या है कर्ज के बाजार का मर्ज?

फैंक्रलिन की ओर से छह स्कीमों को बंद करने के बाद आदित्य बिरला कैपिटल ने भी दो डेट स्कीमों में नए निवेश को रोक लगा दी. यानी अब कोई निवेशक उन स्कीमों में नया निवेश नहीं कर पाएंगे.

Advertisement
aajtak.in
शुभम शंखधर 28 May 2020
क्या है कर्ज के बाजार का मर्ज? फिक्स्ड डिपॉजिट

बैंक एफडी जितना सुरक्षित समझे जाने वाले डेट मार्केट में दिक्कतें उभर के आने लगी हैं. फैंक्रलिन की ओर से छह स्कीमों को बंद करने के बाद आदित्य बिरला कैपिटल ने भी दो डेट स्कीमों में नए निवेश को रोक लगा दी. यानी अब कोई निवेशक उन स्कीमों में नया निवेश नहीं कर पाएंगे. अब तमाम निवेशकों के मन में यह सवाल है कि आखिर क्यों डेट मार्केट में दिक्कत उभर के सामने आने लगीं और क्यों कंपनियां डेट स्कीमों में नए निवेश पर पाबंदी लगा रहे हैं.

पहले समझिए डेट मार्केट को

डेट मार्केट में बॉण्ड की खरीद-फरोख्त होती है. इस बाजार को मोटे तौर पर दो जगह बांटा जा सकता है. एक सरकारी बॉण्ड और दूसरा कॉर्पोरेट बॉण्ड. सरकारी बॉण्ड के जरिए सरकार पैसा उधार लेती है जबकि कॉर्पोरेट बॉण्ड के जरिए कंपनियां विभिन्न अवधि के लिए कर्ज उठाती हैं.

सरकारी बॉण्ड की यील्ड ही दरअसल अर्थव्यवस्था में कर्ज की दर का बेंचमार्क होता है. क्योंकि सरकारी कर्ज को ही सबसे सुरक्षित माना जाता है.

बॉण्ड की यील्ड हो ही कर्ज की दर कहा जाता है. म्यूचुअल फंड और विदेशी संस्थागत निवेशक बॉण्ड बाजार के सबसे बड़े हिस्सेदार होते हैं, जो कंपनियों और सरकार के बॉण्ड खरीदते हैं.

सरकारी बॉण्ड की यील्ड नीचे रहने की संभावना

भारत में 10 साल के बॉण्ड की यील्ड इस समय 5.98 फीसदी पर है. बाजार में ऐसी गहरी आशंकाएं हैं कि अगर सरकार का राजकोषीय घाटा एक सीमा से ज्यादा बढ़ता है तो यील्ड में तेज उछाल देखने को मिल सकता है. घाटा बढ़ने की आशंका इसकी है क्योंकि कोविड-19 के चलते आर्थिक गतिविधियां प्रभावित हैं और सरकार की आय का मुख्य स्रोत टैक्स से कमाई न के बराबर है. ऐसे में सरकार आय न होने पर कर्ज लेकर खर्च करेगी और ज्यादा कर्ज लेना मतलब घाटे का बढ़ना.

मिराय एसेट इंवेस्टमेंट मैनेजर्स के चीफ इन्वेस्टमेंट ऑफिसर महेंद्र जाजू कहते हैं, ''सरकारी बॉण्ड की यील्ड छोटी से मध्यम अवधि में नीचे ही रहने की संभावना है. क्योंकि आरबीआइ सरकार के बॉण्ड खरीदारी के कार्यक्रम को पूरी तरह सपोर्ट कर रहा है.'' अगर आरहीआइ की ओर से अच्छा रिस्पॉन्स नहीं मिलता तो निश्चित तौर पर बाजार के लिए अच्छा संकेत नहीं होता. जाजू आगे कहते हैं, ''यह भी समझने की जरुरत है कि कोवि-19 का संकट किसी सरकार का पैदा किया हुआ नहीं है और न केवल भारत बल्कि दुनिया के अधिकांश देश इस समस्या से गुजर रहे हैं. ऐसे में इस स्थिति को अप्रत्याशित मानना होगा और बाजार भी इस बात को समझता है.''

कॉर्पोरेट बॉण्ड का क्या?

एसेल इंफ्रा के हाल में ही डिफॉल्ट करने के बाद कॉर्पोरेट बॉण्ड को लेकर बाजार में चिंताएं गहराईं. लैडर 7 के संस्थापक और सर्टिफाइड फाइनेंनशियल प्लानर सुरेश सदगोपन कहते हैं, ''अर्थव्यवस्था की मौजूदा स्थिति को देखकर ऐसा लगता है कि आने वाले दिनों में ऐसे में कुछ और कंपनियों के साथ भी यह स्थिति आ सकती है.'' म्यूचुअल फंड कंपनियां भी नए निवेश को लेने से बच रही हैं इस पर सदगोपन कहते हैं, ''मौजूदा स्थिति में जब कंपनियों के कामकाज बंद हैं नए कर्ज की जरूरत नहीं.'' यही कारण है कि डेट मार्केट में अच्छी साख वाली कंपनियां फिलहाल पैसा नहीं जुटा रहीं.

कॉर्पोरेट बॉण्ड्स पर म्यूचुअल फंड्स की रणनीति

जाजू कहते हैं, ''इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर में दिक्कत है. म्यूचुअल फंड की रणनीति फिलहाल एए रेटिंग वाली कंपनियों को ही कर्ज देने की है.'' इससे नीचे रेटिंग के बॉण्ड को खरीदने से फिलहाल म्यूचुअल फंड परहेज कर रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay