एडवांस्ड सर्च

सिनेमा और साहित्य ही कश्मीर घाटी में अमन ला सकते हैंः राहत काजमी

पिछले दिनों देश भर में कश्मीरी युवाओं को निशाना बनाया गया, पर फिल्मकार राहत काजमी कहते हैं, उन्हें कश्मीरी मुसलमान होने पर मदद ही मिली. उनका मानना है कि सिर्फ साहित्य और सिनेमा ही घाटी में अमन-चैन ला सकता है. 

Advertisement
aajtak.in
मंजीत ठाकुर 28 March 2019
सिनेमा और साहित्य ही कश्मीर घाटी में अमन ला सकते हैंः राहत काजमी फिल्मकार राहत काजमी

पुलवामा हमले के बाद देश भर में अराजक तत्वों ने कई जगहों पर कश्मीरी छात्रों और लोगों पर हमले किए थे. इस हालात पर दुःख जताते हुए मशहूर युवा फिल्म डायरेक्टर राहत काजमी कहते हैं कि ‘‘ऐसे तो कश्मीर में नफरत बढ़ेगी, अगर आपको कश्मीर से प्यार है तो वहां के लोगों और संस्कृति से भी प्यार करना चाहिए,  नहीं तो बस पहाड़ और मिट्टी बचेगी’’.

राहत काजमी ऑस्कर विजेता फिल्म ‘नो मेंस लैंड’ के प्रोड्यूसर मार्क बेसिट के साथ यूरोप में फिल्म बना रहे हैं. फिल्म का नाम ‘जस्ट थर्टीन’ है. और राहत इसके डायरेक्टर हैं. यूरोप तक का राहत का सफर फिल्मी कहानी जैसा है. ये पुंछ जिले के स्वरनकोट में एक सूफी परिवार में पैदा हुए. जहां फिल्मी नहीं अदबी माहौल था. राहत पर भी इसका बहुत असर पड़ा. उन्हें भी बचपन में ही शेरो-शायरी का शौक लगा. वैसे भी यहां के बारे में कहावत है कि ‘हर चौथे घर में शायर होता हैं’. लेखक कृश्नचंदर यहीं के थे.

पिता जमील शाह ठेकेदार और शौकिया शायर थे. मॉं सबिना बेटे को डाक्टर बनाना चाहती थी. क्योंकि परिवार में और भी डाक्टर हैं. 

राहत अपने नाना सूफी और शायर विलायत शाह बुखारी से प्रभावित थे. वे शेरे-कश्मीर शेख अब्दुल्ला के भी दोस्त थे और आजादी के आंदोलन में साथ साथ जेल रहे. 1996 में राहत हाइस्कूल में ही थे और तभी उनपर फिल्म बनाने जुनून सवार हुआ. ये दुस्साहस से कम नहीं था. क्योंकि उस वक्त घाटी में आंतकवाद शुरू हो चुका था और सभी सिनेमा थियेटर आतंकियों के निशाने पर थे. 

पर फिल्म बनाने के लिए पैसा चाहिए. लिहाजा लोगों से चंदा मांगकर फिल्म बनाई गई. वो फिल्म वहां के वीडियो पार्लर में लगी. जिसे लोगों ने खूब सराहा और इनके हिम्मत को दाद दी. फिर क्या, ख्वाब देखने लगे, जो परवान चढ़ने लगी. अब तो मुकाम बालीवुड था. दो साल बाद 98 में ये तीनो दोस्त घर से झूठ बोलकर मायानगरी मुबंई एक्टर बनने पहुंच गये. इधर-उधर भटके फुटपाथ पर सोये जेब भी खाली हो गया. तब उन्हें फिल्म इंडस्ट्री के स्ट्रगल पता चला.

बालीवुड से एक बार लौटने के बाद राहत का सफर आसान नहीं था. फिल्मों में इनके दिलचस्पी को देखकर परिवार वाले और वहां लोग समझाते कि गलत काम कर रहा है. उलाहने भी देते, यहां तक कहा कि ‘कश्मीरी मुसलमान की कोई मदद नहीं करता है.‘ ऐसी बातें सुनने को मिलतीं. जबकि राहत कहते हैं कि ‘‘उल्टे मुझे कश्मीरी मुसलमान होने पर लोगों ने और ज्यादा मदद दी.‘’ 

इन मुश्किलों के बाद भी राहत का जुनून खत्म नहीं हुआ. राहत को जम्मू दूरदर्शन के लिए एक टेलीफिल्म का स्क्रिप्ट लिखने का मौका मिला. उसके बाद तो रास्ते अपने-आप बनते गए. पर राहत को ज्यादा दिन तक टीवी रास नहीं आया. जो ख्वाब देखे थे उसे पूरा करना था. लिहाजा पहले शॉर्ट फिल्में बनाईं और दीगर काम किए. फिर 2008 में बनाई फीटर फिल्म ‘देख रे देख’. इसमें रघुवीर यादव, असरानी, ग्रेसी सिंह जैसे अभिनेताओं ने काम किया. ये फिल्म काफी सराही गई तो हौसला भी बढ़ा. 

राहत ने 2011 में अपना प्रॉडक्शन हाउस खोला और उसी के बनैर तले फिल्म ‘रब्बी’ बनाई. जिसमें उनका लिखा पंजाबी गीत ‘गल्ला करके ओ मिठिया मिठया, हाय मेरा दिल ले गया...’ बहुत पसन्द किया गया. उसके बाद आई कश्मीर की पृष्ठभूमि पर फिल्म ‘आईडेंटिटी कार्ड’. इसमें सौरभ शुक्ला, रघुवीर यादव, बृजेन्द्र काला वगैरह कलाकार थे. इसे ग्लोबल फिल्म फेस्टिवल सनफास्किो में बेस्ट स्टोरी और डायरेक्टर का अवॉर्ड मिला. इसके अलावा देश-विदेश में कई अवॉर्ड मिले. 

राहत ने 2017 में मशहूर लेखक सहादत हसन ‘मंटो’ के जिंदगी पर ‘मंटोस्तान’ नाम से फिल्म बनाई. इसमें अभिनेता रघुवीर यादव ने काम किया. इस फिल्म ने भी सन फ्रान्सिस्को फिल्म फेस्टिवल में बेस्ट डायरेक्टर का अवॉर्ड जीता. और इन दिनों उनकी फिल्म लिहाफ, जो लेखिका इस्मत चुगताई की इसी नाम की कहानी पर आधारित है विभिन्न फिल्म महोत्सवों में धूम मचा रही है.

राहत ने कश्मीर के मिट्टी को सेसुलॉइड पर उतारते हुए फिल्म ‘साईड ए और साईड बी’ बनाई है. यह फिल्म कलकत्ता, स्पेन, लंदन, फिलीपिंस, कांस जैसे फिल्मोत्सवों में बेस्ट फिल्म, बेस्ट डायरेक्टर,  क्रिटिक का अवॉर्ड जीत चुकी है. 

ये फिल्म जल्दी ही रिलीज होगी. इसके बारे में राहत मुंबई के अपने फ्लैट में कहवा की चुस्कियॉं लेते हुए बताते हैं कि ‘’ये फिल्म कश्मीर के पृष्ठभूमि और खुद ब खुद मेरे जीवन के बहुत करीब है.’’ 

राहत अभी 8 फिल्मों को प्रोड्यूस कर रहे हैं. जिनमे 5 फिल्में बन गई और 3 बन रही है. उनमें से एक फिल्म ‘दो बैंड रेडियो’ का लंदन के एषियन फिल्म फेस्टिवल में आगामी 6 अप्रैल को प्रीमियर होगा. इसकी कहानी गांव में ‘रेडियो’ को लेकर बुनी गई है. राहत कहते हैं ‘मैं अपनी फिल्मों में जम्मू-कश्मीर की संस्कृति और संगीत को दिखाना चाहता हूं, जबकि आजकल फिल्मों में मुंबईया कहानी का बोलबाला है. कश्मीर के हालात पर बात करते हुए कहते हैं कि ‘वहां साहित्य और सिनेमा से ही अमन ला सकते हैं’. 

  

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay