एडवांस्ड सर्च

क्षीण हो रही हैं गडकरी-राजनाथ के पीएम बनने की संभावनाएं

चुनाव के नतीजे अगर भाजपा के अनुकूल नहीं आए तो क्या विकल्प उभर सकते हैं? एक संभावना यह बनती है कि एनडीए बहुमत से दूर रह जाए और समर्थन देने वाले दल मोदी की बजाए नितिन गडकरी या राजनाथ सिंह को इस पद पर देेखना चाहें. पर उसकी संभावना क्षीण होती जा रही है. क्यों? बता रहे हैं मनीष दीक्षितः

Advertisement
aajtak.in
मनीष दीक्षित नई दिल्ली, 12 September 2019
क्षीण हो रही हैं गडकरी-राजनाथ के पीएम बनने की संभावनाएं फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे

लोकसभा चुनाव के नतीजों से पहले आए एग्जिट पोल के नतीजे देखते हुए कहीं से ये प्रतीत नहीं हो रहा है कि केंद्र में एक कमजोर सरकार आकार लेने जा रही है. हालांकि, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और तेलुगूदेशम पार्टी (टीडीपी) प्रमुख चंद्रबाबू नायडू का दिल्ली से लखनऊ तक नेताओं से मेल-मुलाकात का दौर मोदी विरोधी दलों में एकता कायम करने के प्रयास के रूप में दिख रहा है. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दूसरा कार्यकाल मिलेगा या नहीं, इसका फैसला 23 मई को होगा. लेकिन, नतीजों के संभावित परिदृश्य में एक, केंद्र में मोदी के बगैर एनडीए सरकार की भी कल्पना की जा रही है. ऐसे में, नितिन गडकरी या राजनाथ सिंह के नेतृत्व में भी सरकार की संभावनाएं क्षीण ही सही, लेकिन व्यक्त तो की जा रही हैं. लेकिन इसके धरातल पर उतरने की उम्मीद कम ही लगती है. मोदी के मुकाबले आक्रामक न होना इन दोनों का गुण है और कमजोर गठबंधन में आक्रामक नहीं, मिलनसार नेता की जरूरत होती है.  

इसकी कुछ वजहें हैं जैसे गडकरी और राजनाथ को उसी परिस्थिति में आगे लाए जाने की उम्मीद है, जब भाजपा स्पष्ट बहुमत से काफी दूर हो और एनडीए से बाहर उसे समर्थन देने वाले दल मोदी के नेतृत्व को खुलकर नकार दें. लेकिन अभी तक हुए चुनाव में किसी दल के नेता ने ऐसा कुछ नहीं कहा है जिससे ये पता चले कि अकेले नरेंद्र मोदी का विरोध हो रहा है. जो दल मोदी के खिलाफ हैं वे भाजपा के भी उतने ही खिलाफ हैं. मोदी के खिलाफ चौकीदार चोर है वाले अभियान को पार्टी ने बर्दाश्त नहीं किया और इसका करारा जवाब दिया. ऐसी स्थिति में भाजपा के भीतर मोदी के विरोध जैसी कोई चीज नजर नहीं आती. 

दूसरा, भाजपा के भीतर मोदी को प्रधानमंत्री न बनाने पर भी एकराय कायम हो ये भी आज की तारीख में तो मुमकिन नहीं है. लगता नहीं है कि बहुमत से बहुत दूर होने पर भाजपा और एनडीए सरकार बनाने की कोशिश करेगी. भाजपा के लिए ऐसी स्थिति में विपक्ष में बैठना ज्यादा श्रेयस्कर रहेगा. क्योंकि कमजोर गठबंधन की सरकार बनाने का मतलब रोज सहयोगियों के नखरे झेलना और सरकार भरभराकर गिर जाए तो गठबंधन चलाने में नाकाम होने का ठीकरा अलग सिर पर फूटेगा. 

अगर एनडीए बहुमत से थोड़ा दूर हुआ और बाहरी दलों के समर्थन से उसने सरकार बनाने लायक बहुमत जुटा लिया तब नरेंद्र मोदी को ही भाजपा पीएम बनाना पसंद करेगी और इससे भी आगे राष्ट्रपति नरेंद्र मोदी को ही सरकार बनाने के लिए आमंत्रित कर सकते हैं क्योंकि तब भी भाजपा ही सबसे बड़ा दल होगी. दरअसल, 23 मई को अगर स्पष्ट बहुमत नजर नहीं आया तो राष्ट्रपति की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण हो जाएगी. ऐसे में वे अपने विवेकाधिकार से ही सबसे बड़े दल के नेता को सरकार बनाने के लिए बुलाएंगे. अनेक एग्जिट पोल के आंकड़ों से लगता नहीं है कि भारतीय जनता पार्टी सबसे बड़ा दल नहीं बन सकेगी. और आज की तारीख में भाजपा का मतलब मोदी है. 

2014 में भाजपा जहां तक पहुंची उसका पूरा श्रेय मोदी को है और 2019 के लोकसभा चुनाव में जो कुछ करेगी उसकी पूरी जिम्मेदारी मोदी की होगी. राष्ट्रवाद चुनाव की थीम अगर है तो इसलिए भी है कि मोदी इस मुद्दे को मजबूती से उठाना जानते हैं. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की संगठन में और मोदी की सरकार में पकड़ है, इसलिए भी इनका कोई विकल्प नहीं है. शाह-मोदी की जोड़ी अपने को सिद्ध कर चुकी है. शाह भी मोदी के अलावा शायद ही किसी और के मातहत काम करना पसंद करें.  

ऐसा इसलिए क्योंकि मोदी ने पांच साल देश चलाया है और उनके इस तजुर्बे के बरअक्स गडकरी और राजनाथ दोनों टिकते नहीं हैं. साथ ही इस चुनाव में भाजपा का जो भी प्रदर्शन होगा उसका पूरा श्रेय मोदी को ही जाएगा. मोदी को पीएम बनाने से ही भाजपा के राजनीतिक और संघ के सामाजिक लक्ष्य सधते हैं. 

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay