एडवांस्ड सर्च

प्रधानमंत्री मोदी के नाम एक नागरिक की खुली चिट्ठी

मुंबई में रहने वाली सामाजिक कार्यकर्ता अनु रॉय ने दोबारा प्रचंड बहुमत से चुने गए नरेंद्र मोदी को एक खुली चिट्ठी लिखी है. 

Advertisement
aajtak.in
मंजीत ठाकुर मुंबई, 29 May 2019
प्रधानमंत्री मोदी के नाम एक नागरिक की खुली चिट्ठी फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे

प्रिय प्रधानमंत्री मोदी जी,

पहले तो जीत के लिए अशेष बधाइयां. फिर से हाथ आई सत्ता के पांच साल मुबारक. 

आप ख़ुश होंगे इस पल में. बेहद ख़ुश. और होना भी चाहिए आख़िर कितनों के नसीब होता है प्रधानमंत्री बनना. दो-दो टर्म के लिए. आप सच में ख़ुशनसीब हैं. आपकी इस ख़ुशी में देश भी शरीक है.

सर, अब जबकि आपका दुबारा राजतिलक होने जा रहा, तो ऐसे में आम जनता की उम्मीदें भी आप से दोगुनी हो गयी हैं. जो काम पिछले पांच साल में पूरे नहीं हो पाए, जो वादे अधूरे रह गए. उन्हें पूरा करने की कोशिश कीजिएगा. लोगों ने बड़ी उम्मीदों से आपको चुना है. कोशिश कीजिएगा कि ये उम्मीद न टूटे.

सर इस बात का ख़ास ख़याल रखिएगा कि इस बार आप की जीत में देश की आधी आबादी यानी स्त्रियों ने बड़ा रोल प्ले किया है. उन्होंने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, उज्ज्वला योजना, स्वच्छ भारत अभियान और आयुष्मान योजना को ध्यान में रख कर एक बार फिर से आपको चुना है. वही मुस्लिम महिलाओं ने भी तीन तलाक़ पर आपके उठाए क़दम का लिहाज़ करते हुए वोट दिया है. 

ऐसे में अब सर आपका फ़र्ज़ बनता है कि 33 फीसदी आरक्षण से लेकर, महिलाओं की सुरक्षा का ख़ास ख़याल रखें. जैसे आपने अलवर में हुए गैंग रेप के ख़िलाफ़ आवाज़ उठायी, बिलकुल उसी तर्ज़ पर भाजपा शासित राज्यों का भी ध्यान रखेंगे. बलात्कार से लेकर छेड़छाड की घटनाएं हर दिन बढ़ रही हैं. उन पर रोक लगे इसके लिए आपको सिस्टम में बदलाव लाने की ज़रूरत है. क़ानून को और सख़्त बनाने की ज़रूरत है. और साथ-ही-साथ वो लागू हो इसे भी मॉनीटर करने की दरकार है.

सर, हमें बुलेट ट्रेन की चाह नहीं रख रहे. हमें जो ट्रेन हैं अभी उनमें ही यात्रा करके के लिए टिकट मिल जाए, वही काफ़ी है. टिकट मिलने के बाद ट्रेन वक़्त पर चले बस. जो ट्रेन हैं मिल जाए तो इतने की आशा है. जो ट्रेन ज़रूरत से ज़्यादा लेट हो जाए और उससे किसी विद्यार्थी का इम्तिहान छूट जाए, किसी बीमार की मौत हो जाए या कुछ भी अनिष्ट हो जाए उसके लिए रेलवे भरपाई करे या सम्बंधित विभाग. रेलवे गरीबों का साधन है, इसे मरने मत दीजिए. 

देश में स्वास्थ्य सम्बंधी समस्या कोई कम नहीं है. सर ग़रीबों का बुरा हाल है. ऐसे में जो सुदूर गांव-देहात में समुचित स्वास्थ्य सुविधा मिलने लगे तो आधी समस्या ख़त्म हो जाएगी. इसके साथ ही बड़े-बड़े शहरों में जो अस्पताल हैं जैसे एम्स वग़ैरह वहां बाहर से इलाज करवाए आए लोग सड़कों पर रहने को विवश होते हैं.  उन बीमारों के साथ आए लोगों के रहने का इंतज़ाम राज्य सरकार करवाए, इस बात की ताक़ीद कीजिएगा. 

इसके अलावा किसानों के बारे सिरे से सोचने की ज़रूरत है. किसानों को नए तकनीक से खेती के लिए ट्रेण्ड करना के साथ उनके फ़सल को निर्धारित न्यूनतम मूल्य मिले इसे भी तय करना होगा. आपने कहा ही था कि किसानों की आमदनी आप दोगुनी करने की योजना पर काम कर रहे हैं. उसे भूलिएगा मत. किसान बहुत उपजा रहा है, पर उसके लिए ज्यादा उपजाना ही शाप बन रहा है. वे अपनी उपज सड़क पर फेंकने को मजबूर हैं. कुछ मंडियां बनवा दीजिए सर. किसान रीढ़ हैं हमारे देश की, उनको यूं कमज़ोर होता नहीं देख सकते. उनके उत्थान के लिए जो भी बन पड़े, वो कीजिएगा. सर आत्महत्या की नौबत न आए किसी भी राज्य के किसानों के ऊपर. जैसे उद्योगपतियों के क़र्ज़े माफ़ होते हैं, वैसी ही सोच किसानों के लिए भी रखिएगा.

बाक़ी और भी मुद्दे हैं जिनमें शिक्षा और बेरोज़गारी सबसे अहम् है. सरकारी प्राथमिक स्कूल से लेकर कॉलेजों तक हालत बिगड़े हुए हैं. न तो वक़्त पर इम्तिहान होते और हुए इम्तिहान का के रिज़ल्ट में जो धांधली होती है उसके कहने की क्या.  सर देश का भविष्य ये बच्चे हैं और उनका ही विकास नहीं हो रहा, तो देश का भविष्य क्या होगा. शिक्षा प्रणाली में बदलाव हो ऐसी अपेक्षा है.

और मैं भी अच्छे से जानती हूं कि ये सब अकेले आप नहीं कर सकते. लेकिन सर आपके पास पूरा सिस्टम, मंत्रिमंडल है. जो आप चाहेंगे तो बदलाव ज़रूर आएगा. सबकी उम्मीदें आप से बंधी है. सर हिंदू-मुस्लिम, गाय-पाकिस्तान बहुत हो गया. अब कुछ ऐसा कीजिए कि हम सच में दुनिया के पटल पर एक महाशक्ति बन कर उभरें. 

और हां, आपका एक वादा आपको ही याद दिला रही हूं. मैंने सुना था आप गंगा को साफ करने का बीड़ा उठाए हैं. गंगा की सफाई का क्या हुआ. प्रधानमंत्री जी, गंगा फूल फेंकने और अस्थियां विसर्जित करने से गंदी नहीं होती है. यह गंदी होती है शहरों के सीवर से और उद्योगों के अपशिष्ट से. गंगा को साफ करने के लिए आपको थोड़ा कठोर रुख अपनाना होगा. पैसे तो आपने अपने पहले कार्यकाल में बहुत दिए थे, पर दुख है कि गंगा अभी भी साफ नहीं हुई है.

आप नया सवेरा लाएंगे देश में. जहाँ ख़ुशियां और रौशनी होगी. जहां अराजकता नहीं होगी. लोग को न्याय प्रणाली पर यक़ीन होगा. एक ऐसे विकसित देश की कल्पना करते हुए मैं इस चिट्ठी को विराम दे रही हूँ. पता नहीं ये चिट्ठी आप तक पहुँचेगी या नहीं लेकिन मैंने देश की जनता की उम्मीदों को शब्द देने की कोशिश की है. शायद इनमें से कुछ उम्मीदें पूरी भी हो जायें.

शेष अगली बार. दुआ करती हूँ कि मुझे शिकायती चिट्ठी लिखने का मौका न मिले.

आज़ाद भारत की एक स्वतंत्र नागरिक 

 अनु रॉय

(अनु रॉय मुंबई में सामाजिक कार्यकर्ता हैं. वे महिला अधिकारों के लिए काम करती हैं. यहां व्यक्त विचार उनके निजी हैं और उससे इंडिया टुडे की सहमति आवश्यक नहीं है)

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay