एडवांस्ड सर्च

उत्तराखंड में आग ही आग

आजकल पक्षियों के अंडे देने का समय है. न जाने कितने चिड़ियों के घोंसले अण्डों सहित स्वाहा हो चुके होंगे. उन वनस्पतियों का क्या जो पतझड़ में गिरे सूखे पत्तों के नीचे स्फुटित हो रही थीं?

Advertisement
चंद्र मोहन ज्योति 24 May 2018
उत्तराखंड में आग ही आग जलते पहाड़

चारों ओर बणांग (जंगल की आग) का ऐसा मंजर कि देखकर किसी की भी रूह कांप जाए. कोई चिंता करने वाला (सरकार) नहीं कोई बुझाने वाला (वन विभाग) नहीं. बल्कि कहीं तो खबर लेने वाले भी नहीं. जब गांवों में लोग ही नहीं हैं तो आग लगे चाहे बज्र गिरे.

फर्क क्या पड़ता है? नहीं, फर्क पड़ता है. इंसान की मौजूदगी ही सब कुछ नहीं होती. सोशल मीडिया पर जिंदा जले हिरन-चीतल की तस्वीरें भी आ रही हैं. ये तो बड़े जानवर हैं, जिनके शव राख हुए जंगलों में इधर-उधर बिखरे पड़े हुए हैं.

आजकल पक्षियों का अंडे देने का समय है. न जाने कितने चिड़ियों के घोंसले अण्डों सहित स्वाहा हो चुके होंगे. उन वनस्पतियों का क्या जो पतझड़ में गिरे सूखे पत्तों के नीचे स्फुटित हो रही थीं?

क्यों लगती है आग?

यूं तो फरवरी-मार्च महीने में भी हमने कई जगह आग देखी, क्योंकि इस बार सर्दियों में बिल्कुल बारिश नहीं हुई. इससे बसंत के आते-आते पौड़ी गढ़वाल में तो सूखे जैसे हालात हो गए थे. दिसंबर-जनवरी में लगने वाले फलदार वृक्ष जैसे सेब और अखरोट फ़रवरी माह तक लग पाए. मार्च में कुछ बारिश हुई लेकिन ये काफी नहीं थी.

अप्रैल माह और पिछले 2 सप्ताह पहले तक अगर ऊंचे स्थानों को छोड़ दें तो सिर्फ आंधी-तूफान का कहर बरपा रहा. पहाड़ों में आग हर गर्मियों में लगती है लेकिन इतनी भयावह यह कुछ वर्षों से लगती रही है. पिछले साल भी जून के महीने में हालात बेकाबू हो गए थे.

चीड़ की पिरूल मुख्य कारण!

आग फैलने का मुख्य कारण चीड़ की सूखी पत्तियां हैं जिन्हें पिरूल कहा जाता है. पिरूल के नीचे कोई वनस्पति या घास नहीं उग पाती. इसलिए स्थानीय लोग घास उगाने के लिए पिरूल पर आग लगा देते थे.

वो सिर्फ चीड़ के जंगलों में ही लगाई जाती थी जो बस्ती से दूर होते थे. इसके लिए स्थानीय इन जंगलों के चारों ओर पत्थरों के 4-5 फीट दीवार चुन लेते थे या मिट्टी खोदकर फायर वाल बनाते थे. इससे स्वतः ही आग गांव या खेतों तक नहीं आती थी.

कौन लगा रहा है आग?

पिछले कुछ वर्षों में उत्तराखंड में पलायन तेजी से हुआ है. कई गांव के गांव खाली हुए हैं. कुछ गांव ऐसे हैं जिनमें नाममात्र ही लोग हैं. लैंटाना, कुर्री घास और काली बांस ने पहले ही पहाड़ों को घेर रखा है.

जबसे लोगों ने पशुओं के लिए घास काटनी और खेती करनी छोड़ दी है. इन खेतों के आसपास झाड़ियां बेतरतीब फैल गई हैं. बरसात में ये झाड़ियां बहुत घनी हो जाती हैं. जिनमें नरभक्षी गुलदार का खतरा ज्यादा बढ़ जाता है. ये झाड़ियां गर्मियों में आसानी से जल जाती हैं. इन्हीं झाड़ियों की मदद से आग बस्तियों तक पहुंच जाती है.

आग से बचाव के उपाय?

8 जिलों के 1200 हेक्टेयर में फैली इस आग को बुझाना किसी भी वन महकमे के बस की बात नहीं है. क्योंकि न ही उनके पास इतना स्टाफ और आधुनिक उपकरण हैं जो इस दावानल पर काबू पा सकें.

वहां फायर ब्रिगेड की गाड़ियां नहीं पहुंच सकतीं. हेलीकॉप्टर के जरिए वाटर बंबी बास्केट से जंगलों के ऊपर पानी डालकर इस आग को शांत किया जा सकता है. मोनिस मलिक, मुख्य वन संरक्षक, देहरादून कहते हैं, "वन्य जीव क्षेत्रों से अभी आग की कोई घटना की खबर नहीं है."

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay