एडवांस्ड सर्च

हर कामकाजी औरत के लिए नज़ीर, बेनज़ीर

जब 1988 में, पाकिस्तान की पूर्व प्रधानमंत्री बेनज़ीर भुट्टो अपने पहले बच्चे यानी बिलावल के जन्म की उम्मीद में थी, तब फौजी तानाशाह ने संसद भंग करके आम चुनावों की घोषणा कर दी. आला फौजी अफसर सोचते थे कि ऐसी हालत में कोई औरत कैसे चुनाव सभाओं के लिए निकल पाएगी...लेकिन वे गलत साबित हुए....बेनज़ीर निकलीं और चुनाव-अभियान में हिस्सा भी लिया और उस फौजी तानाशाह ही नहीं उसकी मर्दाना सोच को शिकस्त दी.

Advertisement
aajtak.in
संध्या द्विवेदी 12 September 2019
हर कामकाजी औरत के लिए नज़ीर, बेनज़ीर पाकिस्तान की पूर्व प्रधानमंत्री बेनज़ीर भुट्टो

''चाहे कुछ भी हो, हमें समाज के दोहरे मापदण्ड के लिए शिकायत नहीं करनी है, बल्कि उन्हें जीतने की तैयारी करनी है. हमें ऐसा हर हाल में करना है, भले ही हमें मर्दों के मुकाबले दुगुनी मेहनत करनी पड़े और दुगदुने समय तक काम करना पड़े. मैं अपनी माँ की शुक्रगुजार हूँ कि उन्होंने मुझे यह सिखाया कि माँ बनने की तैयारी एक शारीरिक क्रिया है और उसे रोजमर्रा के कामकाज में बाधा नहीं बनने देना चाहिए.'' पाकिस्तान की पहली चुनी हुई और महिला प्रधानमंत्री बेनज़ीर भुट्टो की आत्मकथा 'आपबीती' को पढ़ते हुए यह जाना कि आखिर वे क्यों बेनज़ीर (बेमिसाल) थीं.

इसी किताब में वे आगे लिखती हैं.''पाकिस्तान कोई मामूली देश नहीं है, न ही मेरी ज़न्दगी कोई साधी-सपाट जिंदगी है. मेरे पिता और मेरे दो भाई मार दिए गए. मेरी माँ, मेरे पति और मुझे खुद भी जेल में बंद कर दिया गया. मैंने कई-कई बरस का देश-निकाला झेला. इन तमाम दुःख-मुसीबतों के बावजूद, मैं खुद को खुशनसीब मानती हूं. मैं खुशनसीब इसलिए हूँ क्योंकि मैं परम्पराओं को तोड़ते हुए किसी मुस्लिम देश की पहली, चुनाव के जरिये बनी हुई प्रधानमंत्री बन सकी. यह चुनाव इस बेहद गर्म बहस और विवाद के बीच हुआ था, जो इस्लाम के मुताबिक औरतों की भूमिका नहीं तय कर पा रहा था. इस चुनाव ने यह साबित कर दिया था कि एक मुसलमान औरत देश की प्रधानमंत्री बनकर, देश की अगुवाई कर सकती है और उस देश के सारे मर्द और औरतें अपनी रजामंदी दे सकते हैं. मैं पाकिस्तान की जनता का धन्यवाद करती हूं कि उसने मुझे यह सम्मान दिया.''

पाकिस्तान जैसे देश में जहां सियासत उठापटक भरे दौर से गुजर रही हो जहां मर्द और औरत के हकों के बीच गहरी खाई हो, जहां औरत के लिए मर्द की बराबरी वाली जिंदगी जीने का सपना भी इस्लाम के खिलाफ माना जाता हो, वहां बेनज़ीर का प्रधानमंत्री बनना और पद पर रहते हुए मां बनना एक पाक मिसाल है, केवल पाकिस्तान के लिए नहीं बल्कि दुनियाभर के लिए.

क्या कामकाजी औरतों के लिए मां बनना आसान है? लगभग हर औरत के मन में काम करते हुए मां बनने का ख्याल उसे कभी न कभी जरूर डराता है. नौकरी छूटने का खौफ, परफार्म न कर पाने का खौफ, अपने दफ्तर के सहयोगियों से पिछड़ जाने का खौफ. कई बार यह खौफ सच भी साबित होता है. पाकिस्तान ही क्यों भारत जैसे देश में भी इंटरव्यू के दौरान यह सवाल पूछा जाता है कि आपके बच्चे कितने हैं? नहीं हैं तो फिर कब की प्लानिंग है? औरत और मर्द के सैलरी पैकेज में भी फर्क बताता है कि कहीं न कहीं संस्थान औरतों के काम को कम करके आंकता है. ऐसा इसलिए कि मां बनने की प्रक्रिया के नौ महीने और फिर प्रेग्नेंसी के बाद छुट्टी के छह महीने ज्यादातर बॉसेज को खलने लगते हैं. तो क्या वाकई औरतें इन दिनों कम प्रोडक्टिव हो जाती हैं? फिलहाल यह सिर्फ एक सोच है. खैर, इसे बदलते-बदलते एक जमाना लगेगा.

बेनज़ीर ने कई नजीर पेश कीं. प्रधानमंत्री बनकर, जेल में कई साल बिताकर लेकिन सबसे बड़ी नजीर पेश की पद में रहते हुए मां बनकर. कैसे, इसे समझने के लिए उनकी आपबीती के कुछ टुकड़ों को उठाकर उन्हें सिलसिलेबार ढंग से जोड़कर पड़ेगा.'' मैंने हर बार मां बनने की तैयारी के दौरान किसी भी शारीरिक या भावनात्मक लक्षण को अपना रास्ता नहीं रोकने दिया. फिर भी, मुझे इस बात का अहसास था कि ऐसा कोई प्रसंग, जिसे हमारा पारिवारिक मामला माना जाना चाहिए, ज़रूर फौजी मुख्यालय में और अखबार के दफ्तरों में राजनीतिक चर्चा से जोड़कर देखा जाएगा, इसलिए मैंने अपने इस दौर के विवरण को पूरी तरह गोपनीय रखा. मैं खुशकिस्मत थी कि मुझे डॉ. फ्रेडी सेतना की ऐसी डॉक्टरी देख-रेख मिली और उन्होंने उसे सिर्फ अपने तक ही सीमित भी रखा.

बिलावल, बख्तावर और आसिफ़ा, मेरी तीन प्यारी-प्यारी सन्तानें हैं. जब 1988 में, मैं अपने पहले बच्चे यानी बिलावल के जन्म की उम्मीद में थी, तब फौजी तानाशाह ने संसद भंग करके आम चुनावों की घोषणा कर दी थी. वह उसके आला फौजी अफसर सोचते थे कि ऐसी हालत में कोई औरत कैसे चुनाव सभाओं के लिए निकल पाएगी...लेकिन वे गलत साबित हुए....मैं निकली और मैंने चुनाव-अभियान में हिस्सा भी लिया. और मैंने वह चुनाव जीता, जो 21 सितम्बर, 1988 को बिलावल के जन्म के बस कुछ ही दिनों बाद कराए गए.

मेरे प्रधानमंत्री बनने के बाद मेरी मां ने जल्दी मचाई कि मैं दूसरे बच्चे की तैयारी करूं. उनका सोचना था कि मांओं को बच्चे जनने का काम जल्दी-जल्दी पूरा कर लेना चाहिए, ताकि उनके पास आगे उनको पालने-पोसने की चुनौतियों के लिए काफी समय रहे. मैंने उनकी सलाह मान ली थी.

जब मेरी दूसरे बच्चे के पेट में होने की खबर अभी गुप्त ही थी, मेरे फौजी जनरल लोगों ने यह तय किया कि मुझे फौज़ियों से बातचीत करने के लिए पाकिस्तान की सबसे ऊँची चोटी सियाचीन ग्लेशियर जाना चाहिए. भारत और पाकिस्तान इसी सियाचिन सरहद पर 1987 में एक युद्ध लड़ चुके थे और 1999 में करीब-करीब युद्ध की स्थिति फिर आ गई थी.

मुझे चिंता हुई कि उस ऊंचाई पर कम ऑक्सीजन के कारण कहीं मेरे अजन्में बच्चे को कोई नुकसान न हो. मेरे डॉक्टर ने मेरा हौसला बढ़ाया कि मैं जा सकती हूं. उसने समझाया कि ऑक्सीजन की कमी का असर मां पर पड़ता हैं, जिसे ऑक्सीजन मॉस्क दिया जा सकता है और बच्चा बहरहाल सुरक्षित रहता है. खैर, ढेरों आशंकाओं के बावजूद भी मैं वहां गई.''

वे आगे लिखती हैं, '' विपक्ष को जैसे ही पता चला कि मैं मां बनने वाली हूं उसने फौरन सरकार बर्खास्त करने के लिए हंगामा करना शुरू कर दिया. विपक्ष ने तर्क दिया कि पाकिस्तान के सरकारी नियमों में इस बात की गुंजाइश नहीं है कि प्रधानमंत्री सन्तान को जन्म देने के लिए छुट्टी पर जाएं. उन्होंने कहा कि प्रसव के दैरान मैं सक्रिय नहीं रहूंगी और सरकारी काम-काज को परेशानी का सामना करना पड़ेगा.

मैंने विपक्ष की इस मांग को ठुकरा दिया. मैंने दिखाई कि कामकाजी स्त्रियों के लिए प्रसव के दौरान छुट्टी की व्यवस्था है जिसे मेरे पिता के समय में लागू किया गया था. मैंने ज़ोर देकर कहा कि यह नियम प्रधानमंत्री पर भी लागू होता है भले ही ऐसा स्पष्ट रूप से सरकार चलाने वाले लोगों के बारे में कहा नहीं गया है. मेरी सरकार के लोग मेरे साथ थे. कहा गया कि जिस स्थिति में पुरुष प्रधानमंत्री हटाया नहीं जा सकता, उस स्थिति में महिला प्रधानमंत्री को भी हटाए जाने का प्रश्न नहीं उठता.

विपक्ष ज़िद पर था और उसने तय किया कि मुझे हटाये जाने के लिए हड़ताल की जाएगी. अब मुझे भी अपनी योजनाएं बनानी थीं. मेरे पिता ने मुझे सिखाया था कि राजनीति में समय का बड़ा महत्त्व है. मैंने अपने डॉक्टर से बात की. उसने बताया कि मेरे प्रसव का समय पूरा हो चुका है. मैंने उनसे इजाजत लेकर यह तय किया कि मैं उसी दिन, जिस दिन हड़ताल की घोषणा थी. ऑपरेशन से बच्चे को जन्म दे दूंगी.

...अपनी कैसी भी हालत के बावजूद मैंने शायद किसी मर्द प्रधानमंत्री से भी ज्यादा काम निपटाया, उसी दिन अपने सांसदों के साथ एक मीटिंग की और कराची के लिए चल पड़ी. मैं अस्पताल पहुंची और बच्चे को जन्म दिया. ऐसे ही मैंने अपने तीन बच्चों को जन्म दिया.''

और अंत में किताब का यह हिस्सा खासतौर पर कामकाजी और मां बनने की कश्मकश से जूझ रही औरतों को जरू पढ़नी चाहिए, ''हम सभी औरतों के लिए चाहे कुछ भी हो, हमें समाज के दोहरे मापदंड के लिए शिकायत नहीं करनी है, बल्कि उन्हें जीतने की तैयारी करनी है. हमें ऐसा हर हाल में करना है, भले ही हमें मर्दों के मुकाबले दुगुनी मेहनत करनी पड़े और दुगदुने समय तक काम करना पड़े. मैं अपनी मां की शुक्रगुजार हूं. कि उन्होंने मुझे यह सिखाया कि मां बनने की तैयारी एक शारीरिक क्रिया है और उसे रोजमर्रा के कामकाज में बाधा नहीं बनने देना चाहिए.''

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay