एडवांस्ड सर्च

Advertisement

मैगी विवाद ने कई कंपनियों काे सिखाया सबक

मैगी साल 2015 में खूब चर्चा में रही. सैंपल फेल होने से जहां एक ओर इस पर बैन लग गया वहीं इस विवाद ने ऐसी अन्य कंपनियों को भी मानकों और गुणवत्ता को लेकर एक अच्छा सबक सि‍खाया. क्या अगले साल में ये अपने उपभोक्ताओं का भरोसा जीत पाने में सफल रहेंगी...
मैगी विवाद ने कई कंपनियों काे सिखाया सबक मैगी विवाद से नेस्ले को 450 करोड़ रुपये का नुकसान
aajtak.in[Edited By : स्वाति गुप्ता]नई दिल्ली, 23 December 2015

एक जांच रिपोर्ट में सैंपल फेल होने से मैगी काफी समय के लिए किचन से दूर रही. इसके बाद रोजमर्रा की चीजों के सुरक्षि‍त होने पर उठे सवालों ने ऐसी कंपनियों (एफएमसीजी) को इस साल झटका दिया और वे आने वाले साल में उपभोक्ताओं का भरोसा वापस जीतकर एक बेहतर साल की उम्मीद कर रही हैं. इन कंपनियों की बहुत सी उम्मीदें ग्रामीण मांग और ई-काॅमर्स यानी उत्पादों की ऑनलाइन बिक्री से हैं.

ग्रामीण भारत भी नहीं रहा अछूता
2015 में पर्याप्त बारिश नहीं होने की वजह से ग्रामीण भारत में एफएमसीजी उत्पादों की मांग में गिरावट आई तो साल के आखिर में चेन्नई सहित अन्य भागों में भारी बारिश से इनकी उत्पादन इकाइयों आदि पर मार पड़ी. एफएमसीजी क्षेत्र के लिए इस साल सबसे कड़ी मार मैगी नूडल्स पर प्रतिबंध के रूप में पड़ी. बाद में अदालती आदेशों से इस प्रतिबंध को हटा तो लिया गया लेकिन इस प्रकरण से इस तरह के सभी खाद्य उत्पादों की कड़ी जांच शुरू हो गई.

नेस्ले को 450 करोड़ रुपये का नुकसान
नेस्ले इंडिया ने अपने मैगी नूडल्स को फिर से बाजार में भले ही उतार दिया हो लेकिन इस प्रकरण से खाद्य उत्पादों की गुणवत्ता व सुरक्षा का मुद्दा बहुत जोर से उठा. इसके साथ ही विभिन्न सरकारी प्रयोगशालाओं में जांच मानकों को लेकर सवाल भी सामने आए. एक अनुमान के अनुसार इस प्रकरण से नेस्ले को 450 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ और उसे 30,000 टन से अधिक नूडल्स नष्ट करने पड़े.

कंपनी ने झेला बड़ा झटका
नेस्ले इंडिया के एक प्रवक्ता ने बताया कि मैगी प्रकरण ने इस साल कारोबार को बाधित किया और इसका झटका उससे कहीं बड़ा है जो अकेले कंपनी ने झेला या जिसके संकेत हमारे परिणामों से मिलते हैं. इसका असर हजारों कामगारों, भागीदारों, किसानों, वितरकों, ट्रक चालकों, खुदरा विक्रेताओं आदि पर पड़ा जो मैगी ब्रांड का हिस्सा हैं.

15 साल में पहली बार घाटा
इस प्रतिबंध के चलते नेस्ले इंडिया ने अप्रैल-जून तिमाही में 64.40 करोड़ रुपये का एकल घाटा दिखाया. यह 15 साल में पहला घाटा है. आगे की तिमाही में इसके एकल शुद्ध लाभ में 60 प्रतिशत से ज्यादा की गिरावट रही. मैगी प्रतिबंध प्रकरण का असर आईटीसी सहित दूसरी कंपनियों के ऐसे ही अन्य (इंस्टेंट) नूडल्स कारोबार पर भी रहा.

इस विवाद से इंस्टेंट नूडल्स बिक्री में काफी गिरावट
आईटीसी के प्रवक्ता ने कहा, विवाद से इंस्टेंट नूडल्स पर असर रहा और इसकी बिक्री में काफी गिरावट आई. इसी समय एचयूएल, आईटीसी, मेरिको व डाबर जैसी अन्य आईटीसी कंपनियाें ने भी ग्राहकों की कम दिलचस्पी का झटका झेला. कम बारिश के कारण ग्रामीण मांग में कमी का असर इन कंपनियों के उत्पादों की मांग पर देखने को मिला.

नए साल में बड़ी उम्मीदें
हालांकि शहरी बाजारों में आधुनिक रिटेल बिक्री केंद्रों और ई-कॉमर्स में बढ़ोतरी से एफएमसीजी कंपनियों को बल मिला और नए साल में भी उन्हें बड़ी उम्मीदें हैं. कंपनियां इनका इस्तेमाल अब ग्रामीण इलाकों में अपनी पैठ बढ़ाने के लिए करना चाहती हैं. डाबर इंडिया के सीएफओ ललित मलिक ने कहा कि 2015 का साल डाबर सहित अन्य एफएमसीजी कंपनियों के लिए मिला-जुला रहा.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay