एडवांस्ड सर्च

Advertisement

शिवराज की सफलता का एक और साल

सियासत के मैदान में कम ही लोग ऐसे होते हैं, जिनकी झोली में साल दर साल सफलताएं आती जाती हैं. ऐसे लोगों में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का नाम भी शुमार है. बीते साल राजनीति के मैदान में उन्होंने न केवल अपने अंक बढ़ाए हैं, बल्कि विरोधियों को हर मुहाने पर मात दी है.
शिवराज की सफलता का एक और साल
aajtak.in [Edited By: दीपिका शर्मा]भोपाल, 30 December 2014

सियासत के मैदान में कम ही लोग ऐसे होते हैं, जिनकी झोली में साल दर साल सफलताएं आती जाती हैं. ऐसे लोगों में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का नाम भी शुमार है. बीते साल राजनीति के मैदान में उन्होंने न केवल अपने अंक बढ़ाए हैं, बल्कि विरोधियों को हर मुहाने पर मात दी है.

पिछले साल 2013 में चौहान की अगुवाई में भाजपा ने विधानसभा चुनाव में लगातार तीसरी बार विजय पताका फहराई थी तो इस वर्ष 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में भाजपा ने राज्य की 29 में से 27 सीटों पर जीत दर्ज कर पार्टी को केंद्र में सत्ता हासिल कराने में अपनी भूमिका निभाई.

एक तरफ जहां भाजपा ने लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के सिर्फ दो दिग्गजों कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया को ही जीतने का अवसर दिया, वहीं नगरीय निकाय चुनाव में रही सही कसर पूरी कर दी. राज्य के दस नगर निगमों के महापौर पद पर भाजपा ने जीत दर्ज की तो अधिकांश नगर पालिकाएं और नगर पंचायतें अपनी झोली में डाल ली. अभी पांच नगर निगमों के चुनाव होना शेष है.

भाजपा के लिए बीते 11 वर्षो में एक भी चुनाव ऐसा नहीं आया है, जब उसे किसी बड़ी हार का सामना करना पड़ा हो. वहीं उसने विरोधी दल कांग्रेस को ठिकाने लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. एक वर्ष के भीतर ही कांग्रेस के तीन विधायकों ने पार्टी का दामन छोड़ने का मन बनाया, उनमें से एक तो संजय पाठक भाजपा के टिकट पर विधायक का चुनाव तक जीत चुके हैं.

भाजपा की रणनीति ने कांग्रेस को हर मौके पर चित करने में सफलता पाई है. लोकसभा चुनाव की ही बात करें तो कांग्रेस के होशंगाबाद से सांसद रहे राव उदय प्रताप सिंह ने ऐन चुनाव से पहले पार्टी को झटका दिया और भाजपा का दामन थाम लिया. इतना ही नहीं, भिंड लोकसभा क्षेत्र से उम्मीदवार घोषित किए जाने के बाद डा. भागीरथ प्रसाद ने भाजपा के उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ा और जीत हासिल की.

ऐसा नहीं है कि कांग्रेस ने शिवराज सरकार को घेरने की कोशिश नहीं की, मगर कांग्रेस को उसमें ज्यादा सफलता नहीं मिली. विधानसभा में कांग्रेस कभी एकजुट नजर नहीं आई. इसका लाभ भाजपा और शिवराज को मिला. इतना ही नहीं, कांग्रेस ने जब भी शिवराज के खिलाफ माहौल बनाने की कोशिश की तब उसे अपनों ने ही दगा दे दिया.

वर्ष 2005 में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर राजनीति के क्षितिज पर अचानक अभ्युदय होने वाले शिवराज ने पिछले आठ वर्ष की तरह 2014 में भी अपनी सफलता व उपलब्धियों का क्रम जारी रखा. घोटालों का साया भी हालांकि उनके आसपास मंडराता रहा और नए-नए धनकुबेरों का खुलासा होता रहा. इनपुट IANS से

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay