एडवांस्ड सर्च

मौलाना आजाद ने की थी IIT की स्थापना, शिक्षा के लिए ये कार्य

आज देश के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद का 131वां जन्मदिन है. वह भारत के पहले शिक्षा मंत्री, स्वतंत्रता सेनानी, शिक्षाविद्, लेखक थे. उन्हीं के जन्मदिन पर हर  साल  11 नवंबर को भारत में राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया जाता है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in 11 November 2019
मौलाना आजाद ने की थी IIT की स्थापना, शिक्षा के लिए ये कार्य मौलाना अबुल कलाम

आज देश के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद का 131वां जन्मदिन है. वह भारत के पहले शिक्षा मंत्री, स्वतंत्रता सेनानी, शिक्षाविद्, लेखक थे. उन्हीं के जन्मदिन पर हर साल 11 नवंबर को भारत में राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया जाता है.

आपको बता दें, सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने मौलाना अबुल कलाम आजाद के शिक्षा के क्षेत्र में किए गए योगदान के लिए उनके जन्मदिन पर साल 2015 में 'नेशनल एजुकेशन डे' मनाने का फैसला किया था.

मौलाना अबुल कलाम आजाद का जन्म 11 नवंबर 1888 को हुआ था. आजाद उर्दू में कविताएं भी लिखते थे. इन्हें लोग कलम के सिपाही के नाम से भी जानते हैं.

आजाद भारत के पहले शिक्षा मंत्री

भारत की आजादी के बाद  मौलाना अबुल कलाम भारत के पहले शिक्षा मंत्री बने और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC की स्थापना की थी. मौलाना आजाद 35 साल की उम्र में इंडियन नेशनल कांग्रेस के सबसे नौजवान अध्यक्ष बने थे.

भारत रत्न लेने से किया था मना

मौलाना अबुल कलाम आजाद ने भारत रत्न से 1992 में मरणोपरांत सम्मानित किया गया था. उन्होंने हमेशा सादगी का जीवन पसंद किया था. आपको जानकर हैरानी होगी जब उनका निधन हुआ था, उस दौरान भी उनके पास कोई संपत्ति नहीं थी और न ही कोई बैंक खाता था. उनकी निजी अलमारी में कुछ सूती अचकन, एक दर्जन खादी के कुर्ते पायजामें, दो जोड़ी सैंडल, एक पुराना ड्रैसिंग गाऊन और एक उपयोग किया हुआ ब्रुश मिला किंतु वहां अनेक दुर्लभ पुस्तकें थी जो अब राष्ट्र की सम्पत्ति हैं.

रचनाएं

- इंडिया विन्स फ्रीडम अर्थात् भारत की आज़ादी की जीत,

- उनकी राजनीतिक आत्मकथा, उर्दू से अंग्रेज़ी में अनुवाद के अलावा 1977 में

- साहित्य अकादमी द्वारा छ: संस्करणों में प्रकाशित क़ुरान का अरबी से उर्दू में अनुवाद उनके शानदार लेखक को दर्शाता है.

- इसके बाद तर्जमन-ए-क़ुरान के कई संस्करण निकले हैं.

- उनकी अन्य पुस्तकों में गुबारे-ए-खातिर, हिज्र-ओ-वसल, खतबात-ल-आज़ाद, हमारी आज़ादी और तजकरा शामिल हैं.

- उन्होंने अंजमने-तारीकी-ए-हिन्द को भी एक नया जीवन दिया.

पाकिस्तान बनाने के विरोध में थे मौलाना

मौलाना अबुल कलाम आजाद का असली नाम अबुल कलाम गुलाम मुहियुद्दीन है. लेकिन उन्हें मौलाना आजाद नाम से ही जाना जाता है. मौलाना आजाद महात्मा गांधी के सिद्धांतों का समर्थन करते थे. उन्होंने हिंदू-मुस्लिम एकता के लिए कार्य किया और वो अलग मुस्लिम राष्ट्र (पाकिस्तान) के सिद्धांत का विरोध करने वाले मुस्लिम नेताओ में से थे.

स्वतंत्र भारत के पहले शिक्षा मंत्री रहे मौलाना आज़ाद ने शिक्षा के क्षेत्र में कई अतुल्य कार्य किए. भारत के पहले शिक्षा मंत्री बनने पर उन्होंने नि:शुल्क शिक्षा,उच्च शिक्षा संस्थानों की स्थापना में अत्यधिक के साथ कार्य किया. मौलाना आजाद को ही 'भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान' (IIT) और 'विश्वविद्यालय अनुदान आयोग' (UGC) की स्थापना की थी.

इसी के साथ उन्होंने शिक्षा और संस्कृति को विकसित करने के लिए उत्कृष्ट संस्थानों की स्थापना की थी. उन्होंने संगीत नाटक अकादमी (1953), साहित्य अकादमी (1954) और ललित कला अकादमी (1954) की स्थापना की थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay