एडवांस्ड सर्च

पुण्यतिथि: 'ठुमरी की रानी' थीं गिरिजा देवी, संगीत के लिए झेलनी पड़ी थी मां- दादी की आलोचना

जानिए- मशहूर ठुमरी गायिका गिरिजा देवी के बारे में... पद्म विभूषण से हो चुकी हैं सम्मानित..

Advertisement
aajtak.in [Edited by: प्रियंका शर्मा]नई दिल्ली, 24 October 2018
पुण्यतिथि:  'ठुमरी की रानी' थीं गिरिजा देवी, संगीत के लिए झेलनी पड़ी थी मां- दादी की आलोचना गिरिजा देवी

आज मशहूर ठुमरी गायिका गिरिजा देवी की पुण्यतिथि है. उनका निधन आज ही के रोज 24 अक्टूबर 2017 में कोलकाता में हुआ था.  ठुमरी की रानी के नाम से मशहूर गिरिजा संगीत की दुनिया का जाना-माना चेहरा थीं. उनके चाहने वाले उन्हें प्यार से अप्पा जी कहकर बुलाते थे. आइए जानते हैं उनके जीवन से जुड़ी कई बातें...

गिरिजा देवी का जन्म 8 मई 1929 में बनारस में जन्म हुआ था. 5 साल की उम्र में सारंगी वादक सरजू प्रसाद मिश्रा से ख्याल और टप्पा गाना सीखा था. उन्होंने 9 साल की उम्र में फिल्म 'याद रहे' में काम किया. उन्होंने साल 1949 में ऑल इंडिया रेडियो से संगीत की दुनिया में पब्लिक डेब्यू किया. हालांकि उनके लिए अपने संगीत को दुनिया तक पहुंचाना आसान नहीं था और उन्हें अपनी मां और दादी की आलोचना झेलनी पड़ी. उनका मानना था कि अच्छे परिवार से ताल्लुक रखने वाले लोगों के सामने परफॉर्म नहीं करते. घर में विरोध का सामना कर रही गिरिजा ने फैसला लिया कि वह दूसरों के लिए परफॉर्म नहीं करेंगी. लेकिन उन्होंने साल 1951 में बिहार में पहला पब्लिक कॉन्सर्ट किया.

गिरिजा 1980 में आईटीसी संगीत रिसर्च अकेडमी कोलकाता की और 1990 में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय की फैकल्टी मेंबर बनीं. उन्होंने स्टूडेंट्स को संगीत से जुड़ी जानकारी दी. गिरिजा ने 2009 में कई संगीत से जुड़े टूर किए. गिरिजा देवी बनारस घराने से गाती थीं और पूरबी आंग ठुमरी शैली परंपरा का प्रदर्शन करती थीं. बनारस घराने की शास्त्रीय गायिका गिरिजा देवी को शास्त्रीय संगीत के साथ ही ठुमरी गाने में भी महारथ हासिल थी. गिरिजा ने अर्द्ध शास्त्रीय शैलियों जैसे कजरी, होली, चैती को अलग मुकाम दिया. वह ख्याल, भारतीय लोक संगीत और टप्पा भी बहुत ही शानदार तरीके से गाती थीं.

वह संगीत से जुड़े हर सम्मान से पुरस्कृत की गई थीं. 1972 में गिरिजा देवी को पद्म श्री अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था. 1989 में उन्हें पद्म भूषण और 2016 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था. इसके अलावा संगीत नाटक अकादमी अवार्ड, अकादमी फेलोशिप, यश भारती समेत कई पुरस्कारों से उन्हें सम्मानित किया जा चुका था.

पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay