एडवांस्ड सर्च

पढ़ाई छोड़ आजादी की जंग में कूदा था ये क्रांतिकारी, 19 साल में हुआ शहीद

जानें- ऐसे क्रांतिकारी के बारे में जो भारत की आजादी के लिए सबसे कम उम्र में चढ़ गया फांसी पर..

Advertisement
aajtak.in
प्रियंका शर्मा/ aajtak.in नई दिल्ली, 11 August 2019
पढ़ाई छोड़ आजादी की जंग में कूदा था ये क्रांतिकारी, 19 साल में हुआ शहीद प्रतीकात्मक फोटो

क्रांतिकारी खुदीराम बोस की उम्र उस समय मजह 19 साल की थी जब उन्होंने आज के रोज 11 अगस्त 1908 हिंदुस्तान की आजादी की खातिर फांसी को गले लगा लिया था. भारत की आजादी के लिए अपनी जान न्यौछावर करने वाले सैकड़ों साहसिक क्रांतिकारियों में एक नाम खुदीराम बोस भी है.  जानते हैं उनके बारे में...

जीवन परिचय

खुदीराम बोस का जन्म 3 दिसंबर, 1889 को बंगाल में मिदनापुर ज़िले के हबीबपुर गांव में हुआ था.  खुदीराम बोस जब बहुत छोटे थे, तभी उनके माता-पिता का निधन हो गया था. उनकी बड़ी बहन ने उनका लालन-पालन किया था. 1905 में बंगाल का विभाजन होने के बाद खुदीराम बोस देश को आजादी दिलाने के लिए आंदोलन में कूद पड़े थे  सत्येन बोस के नेतृत्व में खुदीराम बोस ने अपना क्रांतिकारी जीवन शुरू किया.

अंग्रेजी साम्राज्यवाद के थे खिलाफ

स्कूल के दिनों से ही खुदीराम बोस राजनीतिक गतिविधियों में हिस्सा लेने लग गए थे. वे जलसे जलूसों में शामिल होते थे तथा अंग्रेजी साम्राज्यवाद के खिलाफ नारे लगाते थे. भारत को गुलामी की चंगुल से छुड़ाने के लिए बोस के भीतर इतनी लगन थी कि उन्होंने कक्षा 9वीं कक्षा के बाद पढ़ाई छोड़ दी थी. जिसके बाद जंग-ए-आजादी में कूद पड़े. स्कूल छोड़ने के बाद खुदीराम रिवोल्यूशनरी पार्टी के सदस्य बने और वंदे मातरम् पैंफलेट वितरित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. 1905 में बंगाल के विभाजन  के विरोध में चलाए गए आंदोलन में उन्होंने भी बढ़-चढ़कर भाग लिया.

6 दिसंबर 1907 को बंगाल के नारायणगढ़ रेलवे स्टेशन पर किए गए बम विस्फोट की घटना में भी बोस भी शामिल थे. इसके बाद एक क्रूर अंग्रेज अधिकारी किंग्सफोर्ड को मारने की जिम्मेदारी दी गई और इसमें उन्हें साथ मिला प्रफ्फुल चंद्र चाकी का. दोनों बिहार के मुजफ्फरपुर जिले पहुंचे और एक दिन मौका देखकर उन्होंने किंग्सफोर्ड की बग्घी में बम फेंक दिया. लेकिन उस बग्घी में किंग्सफोर्ड मौजूद नहीं था. बल्कि एक दूसरे अंग्रेज़ अधिकारी की पत्नी और बेटी थीं. जिनकी इसमें मौत हो गई. बम फेंकने के बाद मात्र 19 साल की उम्र में हाथ में भगवद गीता लेकर हंसते - हंसते फांसी के फंदे पर चढकर इतिहास रच दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay