एडवांस्ड सर्च

जब एक साथ लाखों लोगों के साथ अंबेडकर ने छोड़ दिया था हिंदू धर्म!

आजादी के बाद अंबेडकर ऐसे शख्स रहे, जिनकी राजनीतिक विरासत पर कब्जे के लिए पार्टियों में सबसे ज्यादा प्रतिस्पर्धा रही है. 14 अक्टूबर 1956 को नागपुर में उन्होंने अपने लाखों समर्थकों के साथ बौद्ध धर्म ग्रहण किया. इस मौके पर उन्होंने जो 22 प्रतिज्ञाएं लीं उससे हिंदू धर्म और उसकी पूजा पद्धति को उन्होंने पूर्ण रूप से त्याग दिया.

Advertisement
aajtak.in
मोहित पारीक नई दिल्ली, 14 April 2019
जब एक साथ लाखों लोगों के साथ अंबेडकर ने छोड़ दिया था हिंदू धर्म! भीमराव अंबेडकर

भारत संविधान निर्माता बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर की जयंती मना रहा है. आजादी के बाद अंबेडकर ऐसे शख्स रहे, जिनकी राजनीतिक विरासत पर कब्जे के लिए पार्टियों में सबसे ज्यादा प्रतिस्पर्धा रही है. उन्होंने दलितों को बराबरी का हक दिलाने को अपने जीवन का एकमात्र लक्ष्य माना और उस संदर्भ में जीवनभर कार्य भी किया. उन्हें कई बार दूसरी जातियों का विरोध भी झेलना पड़ा, लेकिन वो कार्य में हमेशा अग्रसर रहे. इसी बीच वे बौद्ध धर्म से आकर्षित हुए और उन्होंने हिंदू धर्म को त्याग दिया. उनके साथ लाखों हिंदुओं ने भी बौद्ध धर्म अपना लिया था.

साल 1927 में उनकी ओर से किया गया महाड सत्याग्रह दलितों की हक का आवाज बना. दरअसल उस समय दलितों को ऊंची जातियों के लिए तय तालाब और कुंओं से पानी नहीं लेने दिया जाता था. बाबा साहेब ने इसे चुनौती देने की ठानी और अपने साथ हजारों दलितों को लेकर 20 मार्च 1927 को उन्होंने महाड के सार्वजनिक चवदार तालाब से पानी पीया.

वहीं तालाबों की तरह उस समय मंदिरों में भी दलितों के प्रवेश पर सख्त पाबंदी थी. उस दौरान 2 मार्च 1930 को नासिक के प्रसिद्ध कालाराम मंदिर के बाहर डॉ॰ भीमराव अंबेडकर के नेतृत्व में ऐतिहासिक विरोध प्रदर्शन किया गया, जिसके परिणामस्वरूप दलितों को मंदिर में प्रवेश की इजाजत मिली.

हालांकि साल 1950 के दशक में ही बाबा साहेब बौद्ध धर्म के प्रति आकर्षित हुए और बौद्ध सम्मेलन में भाग लेने श्रीलंका (तब सीलोन) गए. 14 अक्टूबर 1956 को नागपुर में उन्होंने अपने लाखों समर्थकों के साथ बौद्ध धर्म ग्रहण किया. इस मौके पर उन्होंने जो 22 प्रतिज्ञाएं लीं उससे हिंदू धर्म और उसकी पूजा पद्धति को उन्होंने पूर्ण रूप से त्याग दिया. कहा जाता है कि अंबेडकर के साथ तकरीबन 10 लाख दलितों ने तब बौद्ध धर्म अपनाया और ये पूरी दुनिया में धर्म परिवर्तन की सबसे बड़ी घटना थी. हालांकि खुद उन्होंने इसे धर्म परिवर्तन नहीं बल्कि धर्म-जनित शारीरिक, मानसिक व आर्थिक दासता से मुक्ति बताया.

हिंदू पैदा तो हुआ हूं, लेकिन हिंदू मरूंगा नहीं

अंबेडकर जिस ताकत के साथ दलितों को उनका हक दिलाने की कोशिश कर रहे थे, वहीं उनके विरोधी भी उन्हें रोकने के लिए जोर लगा रहे थे. लंबे संघर्ष के बाद जब अंबेडकर को भरोसा हो गया कि वे हिंदू धर्म से जातिप्रथा और अस्पृश्यता की कुरीतियां दूर नहीं कर पा रहे हैं तो उन्होंने वो ऐतिहासिक वक्तव्य दिया जिसमें उन्होंने कहा कि मैं हिंदू पैदा तो हुआ हूं, लेकिन हिंदू मरूंगा नहीं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay