एडवांस्ड सर्च

कांग्रेस में प्रियंका गांधी को आगे लाने की मांग और तेज

कांग्रेस में प्रियंका गांधी को आगे लाने की मांग जो़र पकड़ती जा रही है. कई बड़े नेता अब इस अभियान में शामिल हो गए हैं और चाहते हैं कि प्रियंका को पार्टी में महत्वपूर्ण रोल दिया जाए. पार्टी की लोक सभा चुनाव में दुर्गति देखने के बाद वहां यह बात जो़र पकड़ रही है कि शीर्ष नेतृत्व में कुछ बदलाव हो. लोक सभा चुनाव में पार्टी को महज 44 सीटें मिलीं.

Advertisement
आज तक ब्यूरो [Edited By: मधुरेंद्र सिन्हा]नई दिल्ली, 24 May 2014
कांग्रेस में प्रियंका गांधी को आगे लाने की मांग और तेज प्रियंका गांधी

कांग्रेस में प्रियंका गांधी को आगे लाने की मांग जो़र पकड़ती जा रही है. कई बड़े नेता अब इस अभियान में शामिल हो गए हैं और चाहते हैं कि प्रियंका को पार्टी में महत्वपूर्ण रोल दिया जाए. पार्टी की लोक सभा चुनाव में दुर्गति देखने के बाद वहां यह बात जो़र पकड़ रही है कि शीर्ष नेतृत्व में कुछ बदलाव हो. लोक सभा चुनाव में पार्टी को महज 44 सीटें मिलीं.

मणिशंकर अय्यर बोले - पार्टी को प्रियंका गांधी का इंतजार
पहले तो कांग्रेसी कार्यकर्ता प्रियंका को लाने के पक्ष में नारे लगा रहे थे लेकिन अब कुछ पूर्व मंत्री भी इस मांग में शामिल हो गए हैं. उन्होंने भी मांग रख दी है कि पार्टी प्रियंका गांधी की भूमिका बड़ी करे. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने आज तक के साथ खास बातचीत में कहा है कि पिछले सात सालों से कार्यकर्ता से नेता तक हर कोई प्रियंका गांधी को पार्टी में देखना चाहता है. 1998 से पहले हम चाहते थे कि सोनिया गांधी पार्टी में आएं, वो आईं और उन्होंने पार्टी का भविष्य बदल डाला.

उन्होंने कहा कि प्रियंका एक बड़े राजनीतिक परिवार से हैं और राजनीति को बेहतर समझती भी हैं. हमें पार्टी में उनका इंतजार है. हमें खुशी होगी अगर वह पार्टी ज्वाइन कर सक्रिय राजनीति में आती हैं. अब ये उनका फैसला हैं कि वो कब आएंगी.

उन्होंने कहा, 'मैंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र भेजा है जिसमें लिखा है कि पार्टी को किस-किस दिशा में काम करने की जरूरत है. इसकी एक कॉपी राहुल गांधी को भी मैंने भेजी है.'

विपक्ष का नेता कौन होगा? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को विपक्ष का नेता बनना चाहिए. लेकिन हमारे पास सोनिया गांधी का भी विकल्प है. ये पार्टी को तय करने दें.'

हार से निराश अय्यर ने कहा कि पीएम के मीडिया सलाहकार संजय बारू और पंकज पचौरी समय पर संवाद करने में नाकाम रहे. देर से जवाब देने पर गलत संदेश जाता था.

मुख्य धारा में आएं प्रियंका: केवी थॉमस
पूर्व मंत्री केवी थॉमस ने शुक्रवार को मेल टुडे से कहा कि प्रियंका को अब पार्टी की मुख्य धारा में आना चाहिए और पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी तथा राहुल गांधी के कार्यों में हाथ बंटाना चाहिए. थॉमस चुनाव जीतने वाले मुठ्ठी भर कांग्रेसियों में हैं.

कांग्रेस के कई और नेता यह मानते हैं कि प्रियंका एक स्वाभाविक नेता हैं और उनका हर काम स्वाभाविक सा दिखता है. वह वोटरों से बेहतर ढंग से जुड़ सकती हैं.

पूर्व मंत्री पल्लम राजू ने कहा कि प्रियंका सोनिया और राहुल का हमेशा समर्थन करती रही हैं. लेकिन वह सामने आना चाहेंगी या नहीं यह उनकी अपनी च्वाइस है. उन्होंने कहा कि उनके ख्याल से उनमें जनता से जुड़ने की स्वाभाविक योग्यता है. यह उनकी ताकत है.

शोभा ओझा
महिला कांग्रेस की प्रमुख शोभा ओझा के मुताबिक पूरी पार्टी प्रियंका के लिए सक्रिय भूमिका चाहती है. लेकिन वह खुद तय करंगी कि उन्हें कब आना है.

पिछले चुनाव में प्रियंका ने सिर्फ गांधी परिवार की दोनों सीटों के लिए प्रचार किया था. पार्टी नेताओं कुछ नेताओं ने उनसे वाराणसी में भी प्रचार करने को कहा था लेकिन वह नहीं गईं.

प्रियंका ने नरेन्द्र मोदी पर सीधे हमला करके चुनाव प्रचार अभियान में थोड़ी हलचल मचाई जिसके बाद पीएम कैंडिडेट ने उनके प्रति नरम रुख अख्तियार कर लिया. वरिष्ठ नेता अनिल शास्त्री ने कहा कि यह सोनिया गांधी पर निर्भर करता है कि वे प्रियंका की क्या भूमिका तय करें. शशि थरूर ने इस बहस को निरर्थक बताया.

कांग्रेस पार्टी ने हमेशा कि तरह इस मसले पर चुप्पी साधे रखी. उसके प्रवक्ता शकील अहमद ने कहा कि प्रियंका की ओर से कोई फैसला लेने के बारे में हमसे न पूछिए.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay