एडवांस्ड सर्च

Advertisement

'यूपीए के मंत्रियों को अहंकार ले डूबा'

एक निवर्तमान मंत्री ने कहा कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की पराजय का एक कारण सत्ता की वजह से उसके मंत्रियों में उपजा अहंकार भी रहा. कांग्रेस के सांसद कोडीकुनील सुरेश ने कहा कि यूपीए सरकार के दूसरे कार्यकाल में मंत्रियों ने लोगों की ओर ध्यान नहीं दिया और नौकरशाहों का कहा माना.
'यूपीए के मंत्रियों को अहंकार ले डूबा' सलमान खुर्शीद और कपिल सिब्बल
भाषा [Edited By: संदीप कुमार सिन्हा]नई दिल्ली, 24 May 2014

एक निवर्तमान मंत्री ने कहा कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की पराजय का एक कारण सत्ता की वजह से उसके मंत्रियों में उपजा अहंकार भी रहा. कांग्रेस के सांसद कोडीकुनील सुरेश ने कहा कि यूपीए सरकार के दूसरे कार्यकाल में मंत्रियों ने लोगों की ओर ध्यान नहीं दिया और नौकरशाहों का कहा माना.

उन्होंने कहा, ‘प्रशासन की खामियां बताए जाने पर मंत्री हमारी बात सुनने के लिए तैयार नहीं थे. वे सत्ता के अहंकार में चूर थे. नौकरशाहों ने जो कहा, उन्होंने वही माना.’ संवाददाताओं ने कोडीकुनील सुरेश से लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के कारणों के बारे में पूछा था.

कोडीकुनील सुरेश कांग्रेस के उन सांसदों में से एक हैं जो 16वीं लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए हैं. वह यूपीए सरकार के दूसरे कार्यकाल में श्रम राज्य मंत्री थे.

उन्होंने पेट्रोलियम उत्पादों के दाम नियंत्रण मुक्त करने के निवर्तमान सरकार के फैसले पर भी अफसोस जाहिर किया. उन्होंने कहा कि इससे लोगों में सरकार को लेकर गलत धारणा उत्पन्न हुई.

कोडीकुनील सुरेश ने कहा, ‘सरकार ने पेट्रोलियम कंपनियों को पेट्रोल की कीमतें तय करने के लिए खुली छूट दे दी. जब पेट्रोलियम कंपनियां पेट्रोलियम उत्पादों के दाम बढ़ातीं, तो पेट्रोलियम मंत्री मूक दर्शक बने देखते थे.’ अपनी मावेलीक्कारा लोकसभा सीट से दोबारा निर्वाचित हुए सुरेश ने कहा. ‘इससे लोगों के जनमानस में सरकार को लेकर नकारात्मक धारणा उत्पन्न हुई.’

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay