एडवांस्ड सर्च

वाराणसी लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी से ज्यादा खर्च किया अजय राय और केजरीवाल ने

आपको जानकर शायद हैरत हो, लेकिन वाराणसी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी अजय राय और AAP उम्मीदवार अरविंद केजरीवाल ने नरेंद्र मोदी से ज्यादा पैसा खर्च किया था. इसके बावजूद अरविंद केजरीवाल 3.71 लाख वोटों से पीछे रहे और अजय राय की जमानत जब्त हो गई.

Advertisement
आज तक वेब ब्यूरो [Edited By: कुलदीप मिश्र]नई दिल्ली, 18 June 2014
वाराणसी लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी से ज्यादा खर्च किया अजय राय और केजरीवाल ने Narendra Modi, Arvind Kejriwal

आपको जानकर शायद हैरत हो, लेकिन वाराणसी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी अजय राय और AAP उम्मीदवार अरविंद केजरीवाल ने नरेंद्र मोदी से ज्यादा पैसा खर्च किया था. इसके बावजूद अरविंद केजरीवाल 3.71 लाख वोटों से पीछे रहे और अजय राय की जमानत जब्त हो गई.

वाराणसी के प्रत्याशियों ने अपने चुनावी खर्च का ब्यौरा दिया है. कांग्रेस प्रत्याशी अजय राय ने सबसे ज्यादा 54.45 लाख रुपये खर्च किए. इसके बाद दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल रहे जिन्होंने 50.10 लाख रुपये खर्च किए. नरेंद्र मोदी ने 37.62 लाख रुपये खर्च किए गए. सोमवार को चुनाव खर्च बताने का आखिरी दिन था.

अंग्रेजी अखबार 'द इंडियन एक्सप्रेस' में छपी खबर के मुताबिक, वाराणसी के चीफ ट्रेजरी ऑफिसर राममूर्ति द्विवेदी ने बताया कि समाजवादी पार्टी के कैलाश चौरसिया ने 24.54 लाख और तृणमूल कांग्रेस की इंदिरा तिवारी ने 14.58 लाख रुपये खर्च किए. कुल 42 उम्मीदवारों में से 31 ने अपने चुनाव खर्च का ब्यौरा दिया है. बीएसपी समेत 11 पार्टियों को अभी ब्यौरा देना बाकी है.

अधिकारियों ने बताया कि बीजेपी ने सबसे ज्यादा खर्च (9.41 लाख) हैंडबिल, पैंफलेट, पोस्टर, सीडी और कैसेट जैसी प्रचार सामग्री पर किया. समाजवादी पार्टी ने भी प्रचार सामग्री पर 13.20 लाख रुपये खर्च किए. दिलचस्प बात यह है कि कांग्रेस ने ई-मीडिया, एसएमएस, केबल नेटवर्क, इंटरनेट और सोशल मीडिया पर ही 24.92 लाख रुपये खर्च कर दिए.

आम आदमी पार्टी ने रोड शो ज्यादा किए इसलिए उन्होंने 20.53 लाख रुपये गाड़ियों पर ही खर्च कर दिए. हालांकि आम आदमी पार्टी के पूर्वांचल जोन के संजोयक संजीव सिंह का दावा है कि बीजेपी का असल खर्च इससे कहीं ज्यादा है. उन्होंने कहा, 'उन्होंने पूरे शहर में लाखों भगवा टी-शर्ट और गमछे बांटे थे. कॉरपोरेट की ओर से फंड की गई असीमित प्रचार सामग्री उनके पास थी.'

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay