एडवांस्ड सर्च

आजतक से बोले अमित शाह- जब इतनी योजनाएं मुमकिन हैं तो 370 भी मुमकिन है

अमित शाह ने कहा कि इस चुनाव में जनता 2014 से भी बड़ी जीत दिलाएगी. साथ ही उन्होंने 370 के मुद्दे पर कहा कि केंद्र की मोदी सरकार में इतनी योजनाएं मुमकिन हैं तो 370 भी मुमकिन है.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: अजीत तिवारी]नई दिल्ली, 18 April 2019
आजतक से बोले अमित शाह- जब इतनी योजनाएं मुमकिन हैं तो 370 भी मुमकिन है अमित शाह

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने आजतक की एंकर श्वेता सिंह से खास बातचीत की. उन्होंने कहा कि इस चुनाव में जनता 2014 से भी बड़ी जीत दिलाएगी. साथ ही उन्होंने 370 के मुद्दे पर कहा कि केंद्र की मोदी सरकार में इतनी योजनाएं मुमकिन हैं तो 370 भी मुमकिन है. इसके अलावा उन्होंने कहा कि विधानसभा में सपा-कांग्रेस साथ आए फिर भी कोई फर्क नहीं पड़ा. इस बार भी सपा-बसपा के एक होने से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला. हम 50 फीसदी की लड़ाई लड़ रहे हैं. यूपी में सब एक हो रहे हैं इससे भी हमें ही फायदा होगा.

साध्वी प्रज्ञा को चुनावी मैदान में उतारकर क्या बीजेपी ने कोई संदेश देने का काम किया है, इस सवाल पर उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से संदेश देने का काम किया है. समझौता एक्सप्रेस मामले में कोर्ट के फैसले के बाद यह तय हो गया है कि हिन्दू टेरर काल्पनिक चीज थी और देश की सुरक्षा के साथ समझौता किया गया. उन्होंने कांग्रेस पर सवाल दागते हुए कहा कि कांग्रेस बताए कि असीमानंद और अन्य लोगों को क्यों फंसाया गया. गलत तरीके से फंसाया गया. यह कोर्ट में सिद्ध हो चुका है. ऐसी चीजों को एक्सपोज करना चाहिए.

'भगवा आतंकवाद के नाम पर कांग्रेस ने भारत को दुनिया में बदनाम किया'

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने पूरी दुनिया में भगवा आतंकवाद कहकर पूरे देश को बदनाम किया. लोकतंत्र में इस तरह की चीजों को एक्सपोज करना चाहिए. कांग्रेस को इसके लिए पूरे देश से माफी मांगना चाहिए. हिन्दू शब्द के 2-3 जनक में से एक दिग्विजय सिंह भी हैं, इसलिए हमने उनके खिलाफ साध्वी प्रज्ञा को उतारा है.

'राजनीतिक फायदे के लिए कांग्रेस ने सनातन संस्कृति को गाली दी'

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अपनी राजनीति के लिए, तुष्टिकरण के लिए एक गलत केस बनाया, जिसके माध्यम से उन्होंने इतने बड़े सनातन संस्कृति को गाली दी. क्या आतंक को कोई धर्म और रंग होता है? कोर्ट ने फैसला सुना दिया है लेकिन कांग्रेस अब चुप बैठी है. उन्हें जवाब देना चाहिए. यह मामला बनाकर ध्रुवीकरण हमने नहीं बल्कि कांग्रेस ने किया.

'प्रियंका इशारे देना बंद करें, पहले चुनाव तो लड़ें'

प्रियंका गांधी पर अमित शाह ने कहा कि प्रियंका को वाराणसी से लड़ने से कोई नहीं रोक सकता, पीएम तो वहीं से लड़ने वाले हैं. उन्हें सीधे जाकर पर्चा दाखिल कर देना चाहिए. उन्होंने कहा कि प्रियंका को इशारे देना बंद करके चुनाव लड़ना चाहिए. राफेल पर उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने झूठ बोला था, उनका आंकलन नहीं था बल्कि वह पूर्ण रूप से झूठ था. ऐसे आरोपों को देश की जनता नहीं मानने वाली, क्योंकि उसमें तथ्य नहीं हैं. पीएम को कई देशों से मिले सर्वोच्च नागरिक सम्मान पर उन्होंने कहा कि यूएन और 6 देशों ने पीएम मोदी को सम्मान दिया है और इसके लिए पूरे देश से उन्हें बधाई मिली.

'एक लाइन के अलावा योगी का भाषण विकास पर आधारित था'

अमित शाह ने आजतक से बातचीत में कहा कि बिहार के विधानसभा चुनाव में जेडीयू ने हमसे अच्छा प्रदर्शन किया था, इसलिए उसी अनुसार सीटों का बंटवारा हुआ. महाराष्ट्र में भी यही हुआ. बिहार में पहले ज्यादा सीटें हमें मिलेंगी. इसके अलावा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर अली-बजरंगबली वाले भाषण को लेकर चुनाव आयोग द्वारा रोक लगाए जाने पर उन्होंने कहा कि योगी के 45 मिनट के भाषण में से 1 लाइन पर रोक लगाया, लेकिन उनका बाकी का भाषण पूरी तरह से विकास पर था.

अमित शाह ने कहा- ओडिशा में बन रही हमारी सरकार

अमित शाह ने कहा कि कोई बयान ध्रुविकरण नहीं करा सकता, जनता ने मन बना लिया है, हमारी सरकार बन रही है. एनआरसी के मुद्दे पर अमित शाह ने कहा कि पूर्वोत्तर में एनआरसी का नहीं सिटिजन अमेनमेंट बिल का विरोध है और हम इसे लेकर आएंगे. जो हमारे पड़ोस के देश हैं वहां के अल्पसंख्यकों को हम नागरिकता देंगे. यह रोहिंग्याओं पर लागू नहीं होता क्योंकि उनके पास कई और रास्ते हैं. इसके अलावा उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर, बंगाल और ओडिशा में हम मजबूत होंगे. बंगाल में हमें काफी सीटें मिलेंगी और ओडिशा में सरकार बनाने जा रहे हैं.

370 पर अमित शाह ने कहा- यह मुमकिन है

370 के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि सभी को पता है कि राज्यसभा में हमें बहुमत नहीं था. यह मुद्दा हम 1950 से लेकर चल रहे हैं, जब तक नहीं होगा, यह मुद्दा हम छोड़ेंगे नहीं. यह मुमकिन है. उन्होंने कई योजनाओं का जिक्र कर कहा कि जब इतनी चीजें मुमकिन हो गईं तो निश्चित तौर पर 370 भी मुमकिन है.

महबूबा और राहुल पर बरसे अमित शाह

370 पर महबूबा मुफ्ति के बयान को लेकर उन्होंने कहा कि चाहे राहुल गांधी हों या फिर महबूबा मुफ्ती, जब तक भारतीय जनता पार्टी के एक भी कार्यकर्ता के शरीर में प्राण है, कश्मीर को हिन्दुस्तान से कोई अलग नहीं कर सकता. इतना सरल नहीं है. यह 1947 का नेतृत्व नहीं है और न ही 1947 वाली पार्टी की सरकार है. इस देश के टुकड़े कोई नहीं कर सकता.

सेना के पराक्रम को लेकर सरकार की ओर से की गईं बातों पर अमित शाह ने कहा कि देश की सुरक्षा चुनाव का मुद्दा होना चाहिए, लेकिन इसके लिए सेना के पराक्रम के पीछे जो राजनीतिक इच्छाशक्ति है, उसे श्रेय देना जरूरी है. उन्होंने कहा कि सेना तो वही है लेकिन कभी एयर स्ट्राइक नहीं हुई, सेना तो वही है लेकिन कभी सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हुई. जब बांग्लादेश का विजय हुआ तब भी नेतृत्व को ही श्रेय गया था लेकिन उस वक्त सवाल नहीं उठाए गए थे. इस बार श्रेय पीएम मोदी को जा रहा है तो सवाल उठाए जा रहे हैं.

'इमरान खान ने एयर स्ट्राइक के बाद बहुत सोच-समझकर बयान दिया'

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा दोनों देशों के बीच शांति की स्थापना के लिए पीएम मोदी की सरकार को जरूरी बताने की बात पर अमित शाह ने कहा कि एयर स्ट्राइक के बाद इमरान खान ने यह बयान काफी सोच समझकर दिया है. भारतीय जनता पार्टी तो जीत ही रही है. हमारी पार्टी ने अपना स्टैंड काफी क्लियर रखा है कि आतंकवाद के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति पर ही रहेंगे. रक्षा के मामले में हम कोई कोताही और समझौता नहीं करेंगे.

यह चुनाव इसी मुद्दे पर लड़ा जा रहा है कि इस देश की सुरक्षा कौन सुनिश्चित कर सकता है. जनता उसी को चुनना चाहती है. देश के 50 करोड़ गरीबों के जीवन में उजियारा कौन ला सकता है, जनता उसको चुनना चाहती है. दुनिया में देश का गौरव कौन प्रस्थापित कर सकता है, जनता उसको चुनना चाहती है. इन सभी सवालों का जवाब एक ही है, नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay