एडवांस्ड सर्च

LIVE: अयोध्या पर मंथन से पहले बदली गई जगह, नदवा कॉलेज में AIMPLB की बैठक नहीं

अयोध्या मसले पर आए कोर्ट के फैसले को लेकर आज यानी रविवार को लखनऊ में ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक है, जिसमें मस्जिद के लिए 5 एकड़ जमीन लेनी है या नहीं इस पर चर्चा भी होगी. साथ ही इस मामले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल करने का औपचारिक ऐलान हो सकता है.

Advertisement
aajtak.in
कुमार अभिषेक / संजय शर्मा लखनऊ, 17 November 2019
LIVE: अयोध्या पर मंथन से पहले बदली गई जगह, नदवा कॉलेज में AIMPLB की बैठक नहीं AIMPLB की बैठक (प्रतीकात्मक तस्वीर)

  • अयोध्या फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका डाल सकता है मुस्लिम पक्ष
  • इकबाल अंसारी ने पुनर्विचार याचिका दाखिल करने से किया इनकार

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट से फाइनल फैसला आए अभी एक हफ्ता ही बीता है. यह मामला अब एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट की दहलीज पर जा सकता है. सूत्रों के मुताबिक मुस्लिम पक्ष और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने फैसले के खिलाफ पुनर्विचार अर्जी दाखिल करने का फैसला किया है. लखनऊ में हो रही इस मीटिंग में हिस्सा लेने के लिए AIMIM सांसद असदुद्दीन ओवैसी पहुंच गए हैं. हालांकि, यह बैठक शुरू होने से पहले ही विवाद हो गया है. बैठक की जगह बदल दी गई है. यानी अब नदवा कॉलेज की जगह किसी और स्थान पर यह मीटिंग होगी.

मीटिंग की जगह बदलने के फैसले के बाद असदुद्दीन ओवैसी समेत तमाम लोग बाहर आ गए हैं. बताया जा रहा है कि अब यह मीटिंग किसी और जगह होगी.

बता दें कि लखनऊ और खासकर यहां नदवा कॉलेज में मीटिंग को लेकर सवाल उठ रहे थे. सवाल उठ रहे थे कि आखिर यूनिवर्सिटी में इतना बड़ा सियासी फैसला लेने के लिए क्यों यह बैठक हो रही है. कई सदस्य इस बात पर भी आपत्ति जता रहे थे कि जब एक बार सुप्रीम कोर्ट ने फैसला ले लिया है तो फिर इस मीटिंग का औचित्य क्या है.

मस्जिद के लिए 5 एकड़ जमीन पर होगी चर्चा

अयोध्या मसले पर आए कोर्ट के फैसले को लेकर आज यानी रविवार को लखनऊ में ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक है, जिसमें मस्जिद के लिए 5 एकड़ जमीन लेनी है या नहीं इस पर चर्चा भी होगी. साथ ही इस मामले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल करने का औपचारिक ऐलान हो सकता है.

पुनर्विचार याचिका दाखिल करने पर असमंजस

रिव्यू पीटिशन के मसले पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सभी सदस्य एकमत नहीं हैं. मौलाना कल्बे जव्वाद ने कहा है कि एक बार फिर हिंदुस्तान को इस इम्तिहान में डालना वाजिब नहीं है. वहीं शनिवार की बैठक में मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी और सुन्नी वक्फ बोर्ड ने हिस्सा नहीं लिया. दोनों ने ये भी साफ कर दिया कि वो अब इस मसले पर कोई रिव्यू पीटिशन दाखिल नहीं करेंगे. हालांकि इस मामले में एम आई सिद्दीकी समेत बाकी तीन पक्षकारों ने याचिका दायर करने को लेकर सहमति दे दी है.

ओवैसी ने 5 एकड़ जमीन लेने से किया इनकार

पुनर्विचार अर्जी के साथ रविवार की बैठक में इस बात का भी फैसला होगा कि सुप्रीम कोर्ट की तरफ से मस्जिद के लिए दी गई 5 एकड़ की वैकल्पिक जमीन को लिया जाए या नहीं. हालांकि ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने जमीन लेने से पहले ही इनकार कर दिया है. उन्होंने कहा कि मस्जिद के लिए 5 एकड़ जमीन की खैरात नहीं चाहिए. हमें इस पांच एकड़ जमीन के प्रस्ताव को खारिज कर देना चाहिए.

बता दें कि कोर्ट के फैसले के बाद सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील जफरयाब जिलानी ने कहा था कि वह फैसले का सम्मान करते हैं लेकिन इससे संतुष्ट नहीं हैं. बोर्ड फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दाखिल कर सकता है. इसी के मंथन के लिए 17 नवंबर को ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक होगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay