एडवांस्ड सर्च

वायरल टेस्ट: क्या महिला पुलिस कांस्टेबल एम्स अस्पताल के बाहर पैसे वसूल रही है?

जब हमने नितेश से इस वीडियो के बारे में पूछा तो उन्होंने माना कि वीडियो में दिखाई दे रही महिला वो खुद ही है. उन्हें इस बात की भी जानकारी थी कि इसे रिश्वतखोरी का वीडियो बताकर वायरल किया जा रहा है, लेकिन उनका कहना है कि ये आरोप सरासर झूठे हैं.

Advertisement
aajtak.in
सना जैदी/ बालकृष्ण नई दिल्ली, 27 September 2018
वायरल टेस्ट: क्या महिला पुलिस कांस्टेबल एम्स अस्पताल के बाहर पैसे वसूल रही है? ऑटो ड्राइवर से बात करती हुई महिला कांस्टेबल

पुलिसवालों पर रिश्वत लेने के आरोप लगातार लगते रहे हैं, लेकिन क्या यह संभव है कि देश की राजधानी दिल्ली में एक महिला ट्रैफिक कांस्टेबल सरेआम, भरी भीड़ के बीच सबके सामने न सिर्फ रिश्वत ले बल्कि हाथापाई भी करे. वो भी एम्स अस्पताल के पास, जहां तमाम सीसीटीवी कैमरे भी लगे हुए हैं और वहां हर वक्त आने-जाने वालों की भीड़ भी रहती है.

बात सुनने में हैरान करने वाली लगती है, लेकिन इन दिनों एक वायरल वीडियो में ये दावा किया जा रहा है जो सोशल मीडिया पर खूब चर्चा में है.

अगर इस वीडियो को ध्यान से देखें तो ऑटो की नंबर प्लेट पर दिल्ली का रजिस्ट्रेशन नंबर (DL) लिखा हुआ है. इससे यह बात तो साफ हो जाती है कि यह मामला वाकई दिल्ली का ही है. महिला ट्रैफिक कांस्टेबल एक नहीं बल्कि दो ऑटो को रोककर उसके ड्राइवरों से बहस करती दिख रही है और उनके साथ हाथापाई भी करती है. बहस के दौरान ऑटो चालक महिला कांस्टेबल को हाथ में कुछ पकड़ाते हुए भी देखा जा सकता है, जिसके बारे में कहा जा रहा है कि वो सरेआम रिश्वत ले रही है.

अब वायरल हुए इस वीडियो की सच्चाई जानने के लिए जब हमने अपनी पड़ताल शुरू की तो पता चला कि कुछ न्यूज वेबसाइट पर इस वीडियो की खबर दी गई है, जिसमें इस महिला कांस्टेबल का नाम नितेश बताया गया है.

दिल्ली पुलिस से जब हमने नितेश नाम की महिला ट्रैफिक कांस्टेबल के बारे में पता किया तो पता चला कि इस नाम की एक कांस्टेबल दक्षिण दिल्ली में तैनात है. नितेश का फोन नंबर भी हमें मिला. जब हमने नितेश से इस वीडियो के बारे में पूछा तो उन्होंने माना कि वीडियो में दिखाई दे रही महिला वो खुद ही है. उन्हें इस बात की भी जानकारी थी कि इसे रिश्वतखोरी का वीडियो बताकर वायरल किया जा रहा है, लेकिन उनका कहना है कि ये आरोप सरासर झूठे हैं.

पूरे प्रकरण के बारे में नितेश ने कहा, 'यह वाकया दिल्ली के एम्स इलाके का ही है. अक्सर ऑटो वाले हॉस्पिटल के गेट के सामने ही ऑटो पार्क कर देते हैं, जिससे एंबुलेंस को आने-जाने में दिक्कत होती है और ट्रैफिक जाम भी हो जाता है. उस दिन भी मैं ऑटोवालों का अवैध पार्किंग का चालान काट रही थी.'

उन्होंने कहा, 'मैंने उन ऑटो वालों का ड्राइविंग लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट भी जब्त कर लिया और बाद में हौज खास ट्रैफिक सर्किल में चालन की रसीद के साथ जमा भी करवा दिया था. उस दिन मैंने 36 ऑटो वालों का चालान काटा था और वीडियो में जो मेरे हाथ में दिख रहा है वो उन्हीं ऑटोवालों का लाइसेंस है ना की रिश्वत. मेरी गलती बस इतनी है कि मैंने उन ऑटो वालों के साथ हाथापाई की क्योंकि ऑटो वाले उनके साथ बदतमीजी कर रहे थे.'

जब दिल्ली पुलिस के संज्ञान में यह मामला आया तो उन्होंने इसकी विभागीय जांच के आदेश दिए. नितेश के मुताबिक इस जांच में उन्हें क्लीन चिट मिल चुकी है, हालांकि दिल्ली ट्रैफिक पुलिस में नियुक्त डीसीपी डॉ. ए कोएन का कहना हैं कि इस मामले की जांच अभी पूरी नहीं हुई है.

हमारे वायरल टेस्ट में यह बात तो गलत निकली कि नितेश ऑटोवालों से रिश्वत ले रही थी, लेकिन उनके ऑटो वालों से मारपीट की वजह तो दिल्ली पुलिस की जांच पूरी हो जाने पर ही पता चलेगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay