एडवांस्ड सर्च

फैक्ट चेक: ये पुलिसवाले चालान के पैसों के लिए नहीं झगड़ रहे हैं

सोशल मीडिया पर ऐसा ही एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें दो पुलिसवाले एक दूसरे को लाठियों से पीट रहे हैं. लोगों का दावा है कि चालान की रकम को लेकर ये आपस में भिड़ गए हैं. वायरल वीडियो में दावा किया गया है कि पैसे की बंदरबांट को लेकर आपस में झगड़ा हो गया है.जानिए आखिर क्या है वायरल वीडियो की सच्चाई.

Advertisement
aajtak.in
चयन कुंडू नई दिल्ली, 12 September 2019
फैक्ट चेक: ये पुलिसवाले चालान के पैसों के लिए नहीं झगड़ रहे हैं सोशल मीडिया पर वायरल फोटो

1 सितंबर 2019  से नए मोटर अधिनियम के लागू होने के बाद से ही सोशल मीडिया पर लोग जमकर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं. वहीं कई लोग सोशल मीडिया पर पुलिसवालों की मुश्किलें खड़ी करने वाली तस्वीरें और वीडियो डाल रहे हैं.

ऐसा ही एक वीडियो वायरल है जिसमें दो पुलिसवाले एक दूसरे को लाठियों से पीट रहे हैं. लोगों का दावा है कि चालान की रकम को लेकर ये आपस में भिड़ गए हैं. वायरल वीडियो में दावा किया गया है कि पैसे की बंदरबांट को लेकर आपस में झगड़ा हो गया है.

फेसबुक यूजर बोमसा गोयल ने ये वीडियो शेयर किया और लिखा “चालान काटने के बाद हिसाब का सही बंटवारा ना होने पर रुझान आया”

इस वीडियो का आर्काइव यहां देखा जा सकता है.

सच्चाई क्या है....

इंडिया टुडे एंटी फेक न्यूज वॉर रूम ने पाया कि ये दावा भ्रामक है. घटना 2013 की है जब लखनऊ में अपनी ड्यूटी को लेकर दो सिपाही भिड़ गए थे. इस घटना का चालान से कोई लेना देना नहीं है.

फैक्ट चेक

ये वीडियो करीब 40 सेंकेड लंबा है, जिसमें दो पुलिस वाले एक दूसरे पर लाठी से वार करते दिख रहे हैं. इस मारपीट में दोनों के सिर फट गए. इस पोस्ट को खूब शेयर किया गया और करीब 65 हजार लोगों ने इसे साझा किया.

इनविड रिवर्स इमेज सर्च से जब हमने इसे सर्च किया तो हमें यूट्यूब पर इसी वीडियो के कई क्लीप मिले.

इंडिया टीवी ने ये खबर यूट्यूब पर 22 मई 2013 को डाली थी जिसमें लिखा गया लखनऊ में पीएसी के दो सिपाही एक दूसरे को लाठी से मारते हुए. न्यूज चैनल के मुताबिक ‘ PAC के दो जवान मुकुल यादव और सुनील दीक्षित आज इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान के बाहर भिड़ गए जैसे ही मुख्यमंत्री अखिलेश यादव यहां से रवाना हुए”.

हमें इस घटना के बारे में एक और खबर अंग्रेजी अखबार “Hindustan Times” में मिली. 

इस रिपोर्ट के मुताबिक बाराबंकी की पीएसी की 10वीं बटालियन के हेड कॉन्स्टेबल मुकुंद चंद्र यादव और कॉन्स्टेबल सुनील दीक्षित को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान लखनऊ में तैनात थे. दोनों के बीच झगड़ा तब बढ़ गया जब मुकुंद ने सुनील से सीएम अखिलेश यादव के दौरे के दौरान गायब रहने की वजह पूछी. बाद में दोनों सिपाहियों को अस्पताल ले जाया गया और सस्पेंड कर दिया गया.

ट्रैफिक उगाही के नाम पर एक और वीडियो वायरल

इसी तरह एक और वीडियो में कई पुलिसवाले आपस में झगड़ते दिख रहे हैं. दावा है कि ये लड़ाई चालान के पैसों को लेकर की जा रही है.

फेसबुक पेज “Journalist Punya Prasun Bajpai” ने वीडियो पोस्ट किया और लिखा “चालान के पैसे के बंटवारे के लिए जब पुलिस आपस में ही लड़ मरी”. फेसबुक पर इस पोस्ट को 1 लाख से ज्यादा लोगों ने शेयर किया.

रिवर्स सर्च के जरिए हमें पता चला कि ये वीडियो 3 साल पुराना है और इसे कई मीडिया संस्थानों ने कवर किया.

लखनऊ में ये पुलिसवाले घूस की रकम को लेकर आपस में झगड़ रहे थे. खबरों के मुताबिक ये लोग लोकल दुकानदारों और ट्रक वालों से पैसे वसूल करते थे और उसी के बंटवारे को लेकर ये झगड़ा हुआ था.

निष्कर्ष

चालान एक सरकारी दस्तावेज है जो सामान्य रूप से सड़क पर ट्रैफिक नियम तोड़ने पर काटे जाते हैं.  

यहां दिखाए गए दोनों घटनाओं का चालान से कोई लेना देना नहीं है.

ये पुरानी घटनाएं हैं और सोशल मीडिया पर इसे भ्रामक दावों के साथ साझा किया गया है.

फैक्ट चेक
फैक्ट चेक: ये पुलिसवाले चालान के पैसों के लिए नहीं झगड़ रहे हैं
दावा दो पुलिसवाले चालान की रकम को लेकर लड़ पड़े.निष्कर्षपुलिसवाले 2013 में अपनी ड्यूटी को लेकर लड़े थे न कि चालान को लेकर.
झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • 1 कौआ: आधा सच
  • 2 कौवे: ज्यादातर झूठ
  • 3 कौवे: पूरी तरह गलत
Fact Check
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay