एडवांस्ड सर्च

फैक्ट चेक: अफगान और तुर्की मस्जिदों की तस्वीरें बाबरी के नाम पर वायरल

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसला के बाद से सोशल मीडिया पर चार तस्वीरें वायरल हो रही हैं, जिनको बाबरी मस्जिद की तस्वीरें बताया जा रहा है. ये तस्वीरें कहां की हैं और सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई है, जानने के लिए पढ़िए पूरी खबर.

Advertisement
aajtak.in
अमनप्रीत कौर नई दिल्ली, 17 November 2019
फैक्ट चेक: अफगान और तुर्की मस्जिदों की तस्वीरें बाबरी के नाम पर वायरल सोशल मीडिया वायरल तस्वीरें

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद से ही सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें वायरल हो रही हैं, जिनके बारे में दावा किया जा रहा है कि ये बाबरी मस्जिद की तस्वीरें हैं. ब्रिटिश म्यूजियम को क्रेडिट देते हुए चार तस्वीरें इस दावे के साथ वायरल हो रही हैं कि ये बाबरी मस्जिद की दुर्लभ तस्वीरें हैं.

इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने अपनी पड़ताल में पाया कि वायरल हो रही इन चारों तस्वीरों में सिर्फ एक तस्वीर बाबरी मस्जिद की है. बाकी तस्वीरें दुनिया के अलग-अलग हिस्सों की हैं. पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है.

viral-image-1_111619070026.jpg

फेसबुक पेज 'Daily_Mirror' समेत कई  यूजर्स ने इन तस्वीरों को पोस्ट करते हुए कैप्शन में लिखा है,  'बाबरी मस्जिद की कुछ दुर्लभ तस्वीरें. (साभार ​ब्रिटिश म्यूजियम)'. ये तस्वीरें फेसबुक पर वायरल हैं. वायरल तस्वीरों के साथ किए जा रहे दावे की जांच के लिए हमने हर फोटो को रिवर्स सर्च किया तो AFWA को इनके बारे में ये जानिकारियां मिलीं:

फोटो 1

photo-1_111619070221.jpg

इस फोटो को रिवर्स सर्च करने पर हमें 'Shutterstock' की आर्काइव में इसका कलर्ड वर्जन मिला. फोटो के साथ कैप्शन में लिखा है, 'तुर्की के बुरसा में ग्रीन मास्क (Yesil Camii) के अंदर का दृश्य.' यह तस्वीर 31 मार्च 2016 को फोटोग्राफर Kononchuk Alla ने खींची थी. हालांकि, दोनों तस्वीरें एक ही एंगल से नहीं ली गई हैं, लेकिन वायरल हो रही तस्वीर से इसकी तुलना करने पर दोनों में स्पष्ट तौर पर समानताएं देखी जा सकती हैं. खिड़कियां, फव्वारा और दीवारों पर डिजाइन एक जैसे हैं.

turkey_111619070345.jpg

फोटो 2

photo-2-_111619070625.jpg

यह तस्वीर हमें dreamstime.com के स्टॉक में मिली. यह बीजापुर, कर्नाटक की इब्राहिम रोजा मस्जिद की तस्वीर है. तस्वीर के साथ कैप्शन में लिखा है, 'बीजापुर में 16वीं सदी की ‘इब्राहिम रोजा’ के गुंबद का अंदरूनी पेचीदा डिजाइन.' इस तस्वीर का कॉपीराइट उपेंद्र बापत के पास है.

फोटो 3

photo-3_111619070725.jpg

हमने पाया कि यह तस्वीर बा​बरी ​मस्जिद की असली तस्वीर है. Wall Street Journal में 4 अप्रैल 2014 को प्रकाशित एक आर्टिकल में इस तस्वीर का इस्तेमाल किया गया है. तस्वीर के कैप्शन में लिखा है, '1990 के दशक के शुरुआत की बाबरी मस्जिद की एक तस्वीर. कॉपीराइट: द ब्रिटिश लाइब्रेरी बोर्ड.'

फोटो 4

photo-4_111619070834.jpg

इस फोटो का भी बाबरी मस्जिद से कोई लेना देना नहीं है. हमने पाया कि  यह फोटो Alamy के स्टॉक में मौजूद है. यहां मौजूद सूचना के मुताबिक यह फोटो अफगा​​निस्तान के बल्ख में​स्थित Noh Gunbad मस्जिद की है. यह फोटो B. O’Kane ने खींची है. इस तरह स्पष्ट है कि वायरल हो रही तस्वीरों में से एक को छोड़कर बाकी का बाबरी मस्जिद से कोई लेना देना नहीं है.

फैक्ट चेक
फैक्ट चेक: अफगान और तुर्की मस्जिदों की तस्वीरें बाबरी के नाम पर वायरल
दावा बाबरी मस्जिद की दुर्लभ तस्वीरेंनिष्कर्षचार में से सिर्फ एक तस्वीर बाबरी मस्जिद की है.
झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • 1 कौआ: आधा सच
  • 2 कौवे: ज्यादातर झूठ
  • 3 कौवे: पूरी तरह गलत
Fact Check
If you have a story that looks suspicious, please share with us at factcheck@intoday.com or send us a message on the WhatsApp number 73 7000 7000
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay