एडवांस्ड सर्च

Advertisement

मैं भाजपा का मामूली कार्यकर्ता हूं: मोदी

भारतीय जनता पार्टी के कुछ नेताओं ने नरेंद्र मोदी को पार्टी की ओर से भविष्‍य के लिए प्रधानमंत्री पद का उम्‍मीदवार बताया है. इस पर नरेंद्र मोदी का कहना है कि वो भविष्‍य के प्रधानमंत्री नहीं बल्कि पार्टी के एक कार्यकर्ता हैं.
मैं भाजपा का मामूली कार्यकर्ता हूं: मोदी नरेंद्र मोदी
प्रभु चावलानई दिल्‍ली, 12 May 2009

आज तक के कार्यक्रम सीधी बात में इंडिया टुडे के संपादक व इंडिया टुडे ग्रुप के संपादकीय निदेशक प्रभु चावला ने गुजरात के मुख्‍यमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की. भाजपा के कुछ नेताओं ने नरेंद्र मोदी को पार्टी की ओर से भविष्‍य के लिए प्रधानमंत्री पद का उम्‍मीदवार बताया है. इस पर मोदी का कहना है कि वो भविष्‍य के पीएम नहीं बल्कि पार्टी के एक कार्यकर्ता हैं.

मोदी ने कहा कि राजनीति उनके लिए मिशन है और राजनीति का लक्ष्‍य सत्ता पाना नहीं. उन्‍होंने कहा कि बिना सत्ता पाए भी राजनीति में बहुत कुछ किया जा सकता है. मोदी ने कहा उनका मकसद गुजरात की भलाई करना है. जब उनसे पूछा गया कि गुजरात के साथ ही पूरे देश में उनकी छवि अच्‍छी है और वो बड़े स्‍तर पर क्‍यों नहीं सोचते तो मोदी ने कहा कि उन्‍होंने गुजरात के बाहर ज्‍यादा कोशिश नहीं की.

उन्‍होंने कहा क‍ि गुजरात की जनता के साथ ही पूरे देश ने बहुत प्‍यार दिया है. मोदी ने बताया कि वो चुनाव प्रचार के लिए देश के विभिन्‍न हिस्‍सों में जाते हैं जहां उन्‍हें जनता का भरपूर प्‍यार मिलता है. मोदी का मंत्र है गुजरात का विकास भारत का विकास. मोदी का मनना है कि देश सेवा के कई तरीके हैं, जरूरी नहीं की आप सत्त में रहकर ही देश सेवा करें. उन्‍हों ने विश्‍वास जताया क‍ि आडवाणी ही अगले प्रधानमंत्री बनेंगे. उन्‍होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी कांग्रेस से अलग है क्‍योंकि पार्टी में कई युवा उम्‍मीदवार भी हैं.

धर्म के नाम पर राजनीति का विरोध करते हुए उन्‍होंने कहा कि वो इसके सख्‍त खिलाफ हैं. मोदी ने कहा कि वो ना तो अल्‍पसंख्‍यकों के लिए और न ही बहुसंख्‍यकों के लिए कुछ करते हैं. किसी को नियुक्‍त करने से पहले उसकी काबिलियत ही देखता हूं ना कि जाति या धर्म. जब उनसे पूछा गया कि भाजपा के सहयोगी उन्‍हें अपने यहां चुनाव प्रचार करने आने नहीं देते इस पर उन्‍होंने कहा कि ऐसा नहीं है. नीतीश कुमार द्वारा बिहार में चुनाव प्रचार के लिए नहीं आने देने की बात पर मोदी ने कहा कि नीतीश से उनका कोई मतभेद नहीं बल्कि दोस्‍ती है.

उन्‍होंने कहा कि बिहार की बाढ़ में सबसे पहले मदद गुजरात ने ही की और अगर नीतीश से दोस्‍ती नहीं होती तो ऐसा नहीं होता. गांधी परिवार के खिलाफ बोलने के मामले पर उन्‍होंने कहा कि उनसे कोई व्‍यक्तिगत परिचय नहीं है और प्रहार व्‍यवस्‍था से जुड़े लोगों पर होता है ना कि किसी व्‍यक्ति विशेष पर और परिवार पर. मोदी ने बताया कि राजनीति में भावुकता उनकी ताकत है. पीएम बनने से मना करने के सवाल पर उन्‍होंने कहा कि आडवाणी ही पीएम बनेंगे और देश की जनता बनाएगी उन्‍हें पीएम और एनडीए की सरकार बनेगी.

गुजरात में पोस्‍टर में अडवाणी की जगह मोदी की फोटो लगने पर उन्‍होंने कहा कि ये गलती से हो गया होगा, शायद जगह की कमी रही होगी, इसकी उन्‍हें जानकारी नहीं है. मोदी ने कहा कि चुनाव में अगर महाराष्‍ट्र या गुजरात में सीटें बढ़ती हैं तो मुझे प्रशंसा नहीं चाहिए, ये सभी के सहयोग से होगा ना कि केवल मेरी वजह से. जब उनसे पूछा गया कि क्‍या उन्‍हें किसी चीज के लिए पश्‍चाताप करना है तो मोदी चुप्‍पी साध गए.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay