एडवांस्ड सर्च

लोन लेकर 17 कंपनियों को ठगा, मुंबई क्राइम ब्रांच ने किया गिरफ्तार

आरोपी तीन चार किस्तों का भुगतान भी करते और बाद में उस जगह को छोड़कर चले जाते. वहीं फर्जी एड्रेस के दस्तावेज और नंबर होने के चलते बैंक भी उनको पकड़ नहीं पाते थे. ये मामला पिछले चार सालों से चला आ रहा था.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in मुंबई, 27 July 2019
लोन लेकर 17 कंपनियों को ठगा, मुंबई क्राइम ब्रांच ने किया गिरफ्तार देश छोड़ने की तैयारी में थे आरोपी (फोटो- सौरभ वक्तानिया)

  • मुंबई क्राइम ब्रांच को मिली बड़ी सफलता
  • बैंकों से धोखाधड़ी करने वाले दो गिरफ्तार
  • 2 करोड़ रुपये से ज्यादा का लगा चुके हैं चूना

मुंबई क्राइम ब्रांच ने दो ऐसे लोगों को गिरफ्तार किया है, जिन्होंने 17 वित्तीय कंपनियों और बैंकों से 2 करोड़ से ज्यादा का लोन लेकर ठगा है. दोनों ज्यादा पैसा हासिल करके देश छोड़ने की तैयारी में थे. हालांकि पुलिस को उनके बारे में पता चला और दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया.

आरोपियों की पहचान मुलुंड के रहने वाले सुशांत आयरे (29) और मीरा रोड निवासी चेतन कावा (36) के रूप में हुई है. दिलचस्प बात यह है कि दोनों आरोपी पहले बैंकों के साथ लोन एजेंट के रूप में भी काम कर चुके हैं. जहां से उन्होंने इतनी वित्तीय कंपनियों को धोखा देने की योजना आसानी से तैयार कर ली. दोनों आरोपियों को पुलिस ने अदालत में पेश किया, जहां से उन्हें एक अगस्त तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया.

सहायक पुलिस निरीक्षक लक्ष्मीकांत सालुंखे और अन्य के नेतृत्व में टीम ने आरोपियों के बारे में जानकारी हासिल की और दोनों को गिरफ्तार करने में भी कामयाब रहे. दोनों ने लगभग 17 फेमस वित्तीय कंपनियों से लोन लेकर और वापस न चुकाकर धोखाधड़ी की. कुछ कंपनियों और बैंकों में बैंक ऑफ इंडिया, फेडरल बैंक, आईडीबीआई बैंक, टाटा हाउसिंग फाइनेंस लि., एडलवाइस हाउसिंग फाइनेंस लि., आदित्य बिड़ला कैपिटल, एचडीएफसी, इंडिया बुल्स जैसे नाम शामिल है.

कैसे करते थे धोखाधड़ी

रिपोर्ट्स के मुताबिक आरोपी पहले किराए पर एक कमरा लेते थे और इसके बाद कमरे के एड्रेस के आधार पर फर्जी दस्तावेज जैसे पैन कार्ड और बैंक खाता खुलवाने के लिए जरूरी अन्य आवश्यक कागजात बनाते थे. एक बार बैंक खाता खुल जाने के बाद उसके 3-4 महीने बाद ही आरोपी बैंक से लोन लेते थे. एक ही लोकेशन से आरोपियों के जरिए कई बार लोन उठाया जाता था.

इसके बाद आरोपी तीन-चार किस्तों का भुगतान भी करते और बाद में उस जगह को छोड़कर चले जाते. वहीं फर्जी एड्रेस के दस्तावेज और नंबर होने के चलते बैंक भी उनको पकड़ नहीं पाते थे. ये मामला पिछले चार सालों से चला आ रहा था. आरोपियों ने कांजुरमार्ग, भयंदर, मीरा रोड, वसई जैसी जगहों पर किराए का कमरा लिया था. वहीं पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि इस गिरोह में और लोग शामिल हैं या नहीं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay