एडवांस्ड सर्च

टॉपर भी बोर्ड परीक्षा से पहले करते हैं ये काम, आप भी करें

परीक्षा का सीजन शुरू हो चुका है और कई राज्य बोर्ड की परीक्षाएं जारी है. जल्द ही सीबीएसई की बोर्ड परीक्षाएं भी शुरू हो जाएगी. इन परीक्षाओं में अच्छे अंक लाने के लिए उम्मीदवार हरसभंव कोशिश कर रहे हैं और टॉप करने का लक्ष्य लेकर मेहनत कर रहे हैं.

Advertisement
aajtak.in
मोहित पारीक नई दिल्ली, 13 February 2018
टॉपर भी बोर्ड परीक्षा से पहले करते हैं ये काम, आप भी करें प्रतीकात्मक फोटो

परीक्षा का सीजन शुरू हो चुका है और कई राज्य बोर्ड की परीक्षाएं जारी है. जल्द ही सीबीएसई की बोर्ड परीक्षाएं भी शुरू हो जाएगी. इन परीक्षाओं में अच्छे अंक लाने के लिए उम्मीदवार हरसभंव कोशिश कर रहे हैं और टॉप करने का लक्ष्य लेकर मेहनत कर रहे हैं. आज हम आपको बताते हैं कि टॉपर्स किस तरह परीक्षा की तैयारी करते हैं और कैसे अधिक अंक हासिल करते हैं.

पुराने पेपर्स- किसी भी परीक्षा में अपनी तैयारी की जांच करने और प्रेक्टिस करने का सही तरीका पुराने साल के पेपर्स है. इससे आपको टाइम मैनेजमेंट से लेकर परीक्षा के पैटर्न आदि के बारे में पता चल जाता है. बोर्ड परीक्षा से लेकर प्रतियोगी परीक्षा तक सभी टॉपर्स पुराने साल के पेपर्स हल करते हैं.

Board Exam 2018: आंसर शीट में इन बड़ी गलतियों को करने से बचें

मॉडल पेपर- हर टॉपर का मानना होता है कि परीक्षा की तैयारी में मॉडल पेपर काफी मदद करते हैं और  इससे परीक्षा के ब्लूप्रिंट के बारे में पता चलता है. इससे लेटेस्ट पैटर्न पता चलता है. कई बार पाठ्यक्रम या पैटर्न बदल जाने पर यह मॉडल पेपर काम करता है.

एग्जाम से एक दिन पहले की तैयारी- अधिकतर टॉपर्स परीक्षा के एक दिन पहले ज्यादा पढ़ाई नहीं करते हैं, जबकि पहले से पढ़े हुए पाठ्यक्रम का एक बार रिविजन कर लेते हैं. इससे आपको टॉपिक अच्छे से दिमाग में रहते हैं और इस दौरान किसी मुश्किल टॉपिक को लेकर उलझना गलत है.

UP बोर्ड: परीक्षा में सफलता लिए अपनाएं ये टिप्स, तनाव से रहेंगे दूर

परीक्षा के दिन की तैयारी- परीक्षा से पहले की तैयारी की तरह परीक्षा के दिन की तैयारी भी काफी महत्वपूर्ण है. इस दिन आपको पढ़ाई के स्थान पर अन्य तैयारियों पर ध्यान देना होता है. जिसमें अपने कागज साथ रखना, टाइम पर सेंटर पहुंचना, टाइम मैनेजमेंट आदि का ध्यान रखना शामिल है. क्योंकि इस दिन कुछ गलती होने से आपकी परीक्षा पर भी असर पड़ता है.

नियमित पढ़ाई- कई छात्र पूरे साल या परीक्षा से दो-तीन महीने पढ़ाई पर बिल्कुल ध्यान नहीं देते और परीक्षा शुरू होने से ठीक पहले सबकुछ एक साथ जल्दी जल्दी पढ़ने की कोशिश करते हैं. जिससे उन्हें टॉपिक क्लियर नहीं हो पाते और पैनिक की वजह से अन्य तैयारी पर भी असर पड़ता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay