एडवांस्ड सर्च

Who Won In Sikkim: सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा की बनेगी सरकार

पांच बार के मुख्यमंत्री पवन कुमार चामलिंग का 24 साल से चला आ रहा दौर खत्म हो गया जब उनकी पार्टी एसडीएफ राज्य विधानसभा चुनाव एसकेएम से हार गई.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: अभिषेक शुक्ल]नई दिल्ली, 24 May 2019
Who Won In Sikkim: सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा की बनेगी सरकार सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा बनाएगी सरकार

पांच साल केंद्र में राज करने के बाद एक बार फिर नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाले गठबंधन एनडीए की सरकार बनने जा रही है. इस बार भी 2014 के लोकसभा चुनाव की तरह नरेंद्र मोदी का जलवा देशभर में देखने को मिला. अरुणाचल प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी बहुमत हासिल कर रही है. लेकिन सिक्किम में प्रधानमंत्री मोदी का जलवा फीका पड़ गया. पार्टी को एक भी सीट यहां हासिल नहीं हो सकी. वैसे भी यहां का इतिहास रहा है कि यहां कांग्रेस और बीजेपी की लोकसभा चुनाव में जमानत जब्त हो जाती है.

पांच बार के मुख्यमंत्री पवन कुमार चामलिंग का 24 साल से चला आ रहा दौर खत्म हो गया जब उनकी पार्टी एसडीएफ राज्य विधानसभा चुनाव एसकेएम से हार गई. सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट को 15 सीटें मिली जबकि 2013 में अस्तित्व में आए सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चे को 17 सीटें मिलीं जो 32 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत के लिये जरूरी सीटों से एक अधिक है. इस सीट पर कांग्रेस भी अपना खाता नहीं खोल सकी.

सिक्किम लोकसभा सीट साल 1977 में अस्तित्व में आई. चार जिलों वाले सिक्किम राज्य में सिर्फ एक ही लोकसभा सीट है, जिस पर अब तक 11 बार लोकसभा चुनाव हो चुके हैं, जिसमें से सबसे अधिक 6 बार लगातार सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट ने जीत दर्ज की है. इस सीट पर साल 1985 में एक बार उपचुनाव भी हो चुका है, जिसमें सिक्किम संग्राम परिषद (SSP) ने जीत दर्ज की थी. वर्तमान में इस सीट को सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट का गढ़ माना जाता है, जो साल 1996 से लगातार जीत दर्ज करती आ रही है.

लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के गठबंधन वाली एनडीए को प्रचंड बहुमत से जीत हासिल हुई है. इस जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली स्थित पार्टी मुख्यालय में कहा कि हम दो से दोबारा आ गए, लेकिन संस्कार नहीं भूलेंगे.

पीएम मोदी ने भारतीय जनता पार्टी की यात्रा पर बात करते हुए कहा कि भाजपा की विशेषता है कि हम कभी दो भी हो गए लेकिन हम कभी अपने मार्ग से विचलित नहीं हुए और फिर दोबारा आ गए. जब दो थे तब भी निराश नहीं हुए और दोबारा आए तो भी न संस्कार छोड़ेंगे, न आर्दश छोड़ेंगे और न ही नम्रता छोड़ेंगे.

वहीं बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने इस जीत को ऐतिहासिक बताया है. उन्होंने कहा कि यह ऐतिहासिक जीत है. 50 वर्ष बाद किसी पार्टी को पूर्ण बहुमत के साथ सरकार चलाने का मौका मिला है. हमने 50 फीसदी की लड़ाई लड़ी और हमें 17 राज्यों में 50 फीसदी से ज्यादा वोट मिले हैं. जनता ने एक ओर हमें प्रचंड बहुमत दिया है तो दूसरी कांग्रेस को करारी हार मिली है. उन्होंने राज्यों के नाम गिनाते हुए कहा कि कांग्रेस 17 राज्यों में अपना खाता नहीं खोल पाई है. इस जीत ने एक और बात साफ कर दी है है कि 50 साल से कांग्रेस ने परिवारवाद के बल पर राजनीति की है. लेकिन हमारी पार्टी ने इसके उलट काम किया और देश की जनता ने हमें समर्थन दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay