एडवांस्ड सर्च

नागरिकता कानून: जामिया में प्रदर्शन, 12 पुलिसकर्मी घायल, दो ICU में भर्ती

नागरिकता संशोधन एक्ट को लेकर जामिया मिलिया इस्लामिया में छात्र विरोध कर रहे हैं. इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने पत्थरबाजी को अंजाम दिया तो वहीं पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 14 December 2019
नागरिकता कानून: जामिया में प्रदर्शन, 12 पुलिसकर्मी घायल, दो ICU में भर्ती जामिया में तैनात पुलिस

नागरिकता संशोधन एक्ट को लेकर देश भर में विरोध प्रदर्शन जारी है. वहीं देश की राजधानी दिल्ली में भी इसे लेकर लोग सड़कों पर उतरे हुए हैं. अब जामिया मिलिया इस्लामिया में छात्र इस एक्ट को लेकर विरोध कर रहे हैं.

इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने पत्थरबाजी को अंजाम दिया तो वहीं पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े. इस विरोध प्रदर्शन में छात्रों के साथ छात्राएं भी शामिल हैं. ये छात्र केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं. गुरुवार रात से ही विरोध प्रदर्शन के लिए एकत्रित होने लगे थे.

देखते ही देखते सुबह हजारों छात्र जामिया यूनिवर्सिटी के बाहर सड़क पर उतर आए और विरोध जताना शुरू किया. इस दौरान छात्रों ने पुलिस पर पत्थर भी फेंके. जवाब में पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे और छात्रों पर काबू पाने के लिए लाठियां भी भांजी.

इस प्रदर्शन के बाद साउथ ईस्ट दिल्ली के डीसीपी चिनमॉय बिसवाल ने कहा कि जामिया में स्थिति अब कंट्रोल में है. उन्होंने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पत्थरबाजी की जिसमें 12 पुलिसकर्मी घायल हो गए. इनमें से 2 पुलिसकर्मी आईसीयू में भर्ती हैं.

00_121319055913.jpgजामिया के पास तैना पुलिस फोर्स

छात्रों और पुलिस के बीच हिंसक झड़प में दिल्ली पुलिस के तीन जवान घायल हो गए, जिन्हें जामिया के पास स्थित होली फैमिली अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.

jamia-3_121319051109.jpgजामिया के पास तैना पुलिस फोर्स

इधर, नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में तनाव की स्थिति को देखते हुए चप्पे-चप्पे पर फोर्स तैनात कर दिया गया है. इंटरनेट सेवा पूरी तरह बंद कर दी गई है. अलीगढ़ में नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध और जुमे को लेकर पुलिस-प्रशासन की ओर से खासी सतर्कता बरती जा रही है.

अलीगढ़ के एडीएम सिटी राकेश मालपाणी ने बताया, 'इंटरनेट सेवा गुरुवार रात 12 बजे से ही बंद कर दी गई है. यह रोक शुक्रवार शाम पांच बजे तक रहेगी. इसके अलावा शहर को 25 सेक्टरों में बांटा गया है. दो पालियों में 25-25 मजिस्ट्रेट लगाए गए हैं. तहसील स्तर पर एसडीएम व सीओ को सेक्टर बनाकर मजिस्ट्रेट तैनात करने के आदेश दिए गए हैं. हालांकि शांति मार्च निकालने के लिए जिला प्रशासन ने अनुमति नहीं दी है.'

jamia-2_121319051859.jpg

विधेयक के विरोध में एएमयू छात्रसंघ के निवर्तमान अध्यक्ष मो़ सलमान इम्तियाज ने शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद परिसर से जिलाधिकारी कार्यालय तक विशाल जुलूस निकालने की घोषणा की है. उन्होंने अधिक से अधिक लोगों से जुलूस में शामिल होने का आह्वान किया है.

इम्तियाज ने कहा कि एएमयू के छात्रसंघ ने शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद एएमयू से डीएम ऑफिस तक शांतिपूर्ण रैली निकालने का फैसला किया है. जुमे की नमाज केवल जामा मस्जिद में होगी. इसके बाद डीएम को राष्ट्रपति और सर्वोच्च न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश को संबोधित एक ज्ञापन दिया जाएगा. उन्होंने दावा किया कि इस जुलूस में सभी 32 हजार छात्र भाग लेंगे.

0_121319052003.jpgजामिया में सड़क पर छात्र

इसके पहले नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में एएमयू में गुरुवार को प्रदर्शन हुआ था. विद्यार्थियों के आंदोलन का स्वराज पार्टी के संस्थापक योगेंद्र यादव व गोरखपुर आक्सीजन कांड के चर्चित डॉ. कफील खान ने समर्थन किया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay