एडवांस्ड सर्च

यूपी में रॉबर्ड वाड्रा कांग्रेस के लिए करेंगे प्रचार, सोनिया-राहुल के नामांकन में भी साथ रहेंगे

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के पति रॉबर्ट वाड्रा लोकसभा चुनाव में यूपी में कांग्रेस के लिए प्रचार करेंगे. आज तक से खास बातचीत में वाड्रा ने कहा कि वह सोनिया-राहुल के नामांकन के वक्त भी मौजूद रहेंगे.

Advertisement
कुमार विक्रांत [Edited By: टीके श्रीवास्तव]नई दिल्ली, 07 April 2019
यूपी में रॉबर्ड वाड्रा कांग्रेस के लिए करेंगे प्रचार, सोनिया-राहुल के नामांकन में भी साथ रहेंगे रॉबर्ट वाड्रा

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के पति रॉबर्ट वाड्रा लोकसभा चुनाव में यूपी में कांग्रेस के लिए प्रचार करेंगे. आज तक से खास बातचीत में वाड्रा ने कहा कि वह सोनिया-राहुल के नामांकन के वक्त भी मौजूद रहेंगे. वाड्रा के इस बयान के बाद उनकी राजनीति में फुल एंट्री के कयास लगाए जा रहे हैं. अब ये देखना है कि उनकी राजनीतिक सक्रियता कितनी रहती है या सिर्फ लोकसभा तक ही सीमित रहेगी.

फरवरी में वाड्रा ने सक्रिय राजनीति में आने के संकेत दिए थे. वाड्रा ने कहा था कि अगर वह चुनाव लड़ने का फैसला करते हैं तो इसके लिए वह अपनी जन्मभूमि मुरादाबाद को चुनेंगे. इसके बाद मार्च में गाजियाबाद में उनके समर्थन में पोस्टर भी लगे थे. पोस्टर पर लिखा स्लोगन (गाजियाबाद करे पुकार, रॉबर्ट वाड्रा अबकी बार) सोशल मीडिया पर सुर्खियों में रहा था. इधर, स्मृति ईरानी ने कहा 'इतना ही कहना चाहूंगी, जहां-जहां श्री वाड्रा प्रचार करने जाना चाहते हैं वहां कि जनता आगाह हो जाए और अपनी जमीन बचा ले.

आडवाणी के ब्लॉग पर दी थी प्रतिक्रिया

हाल ही में गांधीनगर लोकसभा सीट से टिकट कटने के बाद बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने पहली बार अपनी चुप्पी तोड़ी थी. आडवाणी ने एक ब्लॉग लिखा था, जिसके बाद विपक्ष ने बीजेपी को घेर लिया था. आडवाणी के ब्लॉग को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के पति और कारोबारी रॉबर्ट वाड्रा ने भी फेसबुक पोस्ट लिखकर उनके पक्ष में बात रखी थी. उन्होंने लिखा था कि अगर हम अपने वरिष्ठों की सलाह को नहीं मानते हैं तो ये शर्मनाक है. पार्टी के सबसे अहम स्तंभ रहे व्यक्ति को लंबे समय से भुला दिया गया है. जो नेता अपनी नीति और शासनकला को लेकर जाना जाता है, उसका सम्मान होना चाहिए, इस तरह इग्नोर नहीं करना चाहिए. इस तरह अपने वरिष्ठ की सलाह को न मानना शर्मनाक है. ये काफी बुरा है कि उनकी पार्टी ने ही उन्हें भुला दिया.

बता दें कि आडवाणी ने गुरुवार को एक ब्लॉग लिखा था, उनका ये ब्लॉग बीजेपी के स्थापना दिवस (6 अप्रैल) के अवसर पर लिखा गया है. इसमें उन्होंने कहा कि उनके लिए सबसे पहले देश है, फिर पार्टी है. इसी ब्लॉग में उन्होंने ये भी लिखा कि जो भी पार्टी या व्यक्ति हमारे विपक्ष में हैं, हम उन्हें कभी अपने विरोधी की नजर से या फिर देशद्रोही की नजर से नहीं देखते हैं.

चुनाव की हर ख़बर मिलेगी सीधे आपके इनबॉक्स में. आम चुनाव की ताज़ा खबरों से अपडेट रहने के लिए सब्सक्राइब करें आजतक का इलेक्शन स्पेशल न्यूज़लेटर

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay