एडवांस्ड सर्च

राजस्थानः मिशन 2019 के लिए प्रत्याशियों के चयन का जिम्मा राहुल गांधी पर

Rajasthan Congress सचिन पायलट ने कहा कि बैठक में इस बात पर भी चर्चा हुई कि किसानों की कर्ज माफी और युवाओं के बेरोजगारी भत्ते को लेकर वादा किया गया है उसे किस तरह से पूरा किया जाएगा. इन सभी बातों के साथ-साथ उम्मीदवारों के चयन के लिए जो भी सुझाव चुनाव संचालन समिति की तरफ आए, उसे 9 फरवरी को दिल्ली में होने वाली अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की बैठक में रखा जाएगा.

Advertisement
aajtak.in
शरत कुमार नई दिल्ली, 06 February 2019
राजस्थानः मिशन 2019 के लिए प्रत्याशियों के चयन का जिम्मा राहुल गांधी पर   राजस्थान के CM अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट

आम चुनावों के मद्देनजर राजनीतिक दलों ने चुनाव मैदान में उतारने के लिए प्रत्याशियों के चयन का काम शुरू कर दिया है. राजस्थान में कांग्रेस पार्टी ने भी इस दिशा में काम करना शुरू कर दिया है. उम्मीदवारों के चयन के लिए बुधवार को जयपुर में कांग्रेस दफ्तर में बैठक हुई. बैठक में यह निर्णय लिया गया कि उम्मीदवारों के चयन की जिम्मेदारी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी देखेंगे. मीटिंग के बाद राजस्थान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि हमने सभी 25 लोकसभा सीटों को जीतने की रणनीति बनाई है.

सचिन पायलट ने कहा कि बैठक में इस बात पर भी चर्चा हुई कि किसानों की कर्ज माफी और युवाओं के बेरोजगारी भत्ते को लेकर वादा किया गया है उसे किस तरह से पूरा किया जाएगा. इन सभी बातों के साथ-साथ उम्मीदवारों के चयन के लिए जो भी सुझाव चुनाव संचालन समिति की तरफ आए, उसे 9 फरवरी को दिल्ली में होने वाली अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की बैठक में रखा जाएगा. इस बैठक में प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट के अलावा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, राजस्थान के प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे शामिल थे. इसमें यह प्रस्ताव पारित किया गया कि उम्मीदवारों के चयन का जिम्मा राहुल गांधी पर छोड़ा जाए.

बताया गया कि 25 लोकसभा सीटों के उम्मीदवारों का पैनल बनाया जाएगा. इसमें जिताऊ उम्मीदवार पर फैसला राहुल गांधी करेंगे. बैठक में शामिल रहे अविनाश पांडे ने बयाता, 'हमने सभी लोगों से नाम मांगे हैं. उन नामों पर चर्चा की जा रही है. चर्चा के बाद इसे लेकर दिल्ली में फैसला किया जाएगा. लेकिन इस पूरी प्रक्रिया में हम अपने कार्यकर्ताओं की राय लेंगे. उनके सुझाव को लेकर ही आगे बढ़ा जाएगा. हारे हुए विधायकों को टिकट दोबारा लोकसभा चुनाव के लिए दिया जाए या नहीं या फिर जो दो बार से लोकसभा चुनाव हार रहे हैं उन्हें फिर से मौका दिया जाए या नहीं, इस बात को लेकर भी मीटिंग में चर्चा हुई है.'

बता दें कि बैठक करीब 5 घंटे तक चली. इसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि 7 फरवरी से प्रदेश में ऋण माफी के लिए शिविर लगाए जा रहे हैं. बीजेपी 8 फरवरी से जेल भरने का आंदोलन कर रही है जो नाटक है. पिछले 5 सालों में उन्होंने किसानों के लिए कुछ भी नहीं किया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay