एडवांस्ड सर्च

सीपीएम नेताओं ने चेताया- राहुल गांधी को वायनाड से हराकर भेजेंगे

लेफ्ट नेता प्रकाश करात ने कहा कि बीजेपी का केरल में कोई अस्तित्व ही नहीं ऐसे राहुल गांधी सीधे-सीधे केरल में लेफ्ट को चुनौती देने आ रहे हैं.

Advertisement
aajtak.in
आशुतोष मिश्रा नई दिल्ली , 31 March 2019
सीपीएम नेताओं ने चेताया- राहुल गांधी को वायनाड से हराकर भेजेंगे लेफ्ट नेता प्रकाश करात

कांग्रेस ने रविवार को ऐलान किया कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी उत्तर प्रदेश की अमेठी लोकसभा सीट के अलावा केरल की वायनाड लोकसभा सीट से भी चुनाव लड़ेंगे. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के इस ऐलान के बाद केरल की सियासत में उतल-पुथल की स्थति है. केरल से राहुल गांधी के दंगल में उतरने के ऐलान के बाद लेफ्ट ने भी आवाज मुखर कर दी है. सीपीएम पूर्व महासचिव और मौजूदा पोलित ब्यूरो सदस्य प्रकाश करात ने 'आजतक' से कहा कि राहुल गांधी का वायनाड से चुनाव लड़ना सीधा-सीधा दिखाता है कि कांग्रेस केरल में एलडीएफ को चुनौती देने जा रही है.

क्या बोले करात?

प्रकाश करात ने कहा कि कांग्रेस बार-बार यह कहती है कि वह बीजेपी से लड़ रही है, लेकिन बीजेपी का केरल में कोई अस्तित्व ही नहीं तो ऐसे में आज का कांग्रेस का यह कदम उस बयान के खिलाफ है. करात ने आगे कहा कि राहुल गांधी सीधे-सीधे केरल में लेफ्ट को चुनौती देने आ रहे हैं. ऐसे में हम बीजेपी और कांग्रेस दोनों से डट कर मुकाबला करेंगे.

केरल सीएम हमलावर

पोलित ब्यूरो सदस्य प्रकाश करात ही नहीं केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने कहा कि राहुल गांधी बीजेपी के खिलाफ नहीं, बल्कि लेफ्ट के खिलाफ वायनाड लोकसभा सीट से लड़ रहे हैं, इसलिए हमने उन्हें हराने की कसम खाई है. बता दें कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ए. के. एंटनी की राहुल के वायनाड से लड़ने की घोषणा के कुछ ही घंटों के बाद केरला के सीएम ने राहुल पर हमला बोला है. पत्रकार वार्ता में सीएम विजयन ने कहा कि राहुल गांधी किसी ऐसी सीट से भी चुनाव लड़ सकते थे जहां बीजेपी उनकी सीधी प्रतिद्वंदी है, लेकिन राहुल के वायनाड से लड़ने के फैसले से ये साफ जाहिर होता है कि वह बीजेपी से नहीं बल्कि लेफ्ट से लड़ने आए हैं.  

सीताराम येचुरी भी मुखर

सीपीएम के महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि राहुल गांधी सीधे तौर पर वायनाड से एलडीएफ के खिलाफ चुनाव लड़ना चाहते हैं. इससे क्या संदेश जाता है, यह कांग्रेस को तय करना है. येचुरी ने कहा कि कोई भी पार्टी यह तय कर सकती है कि वह किस उम्मीदवार को कहां से चुनवा लड़ाना चाहती है, लेकिन क्या संदेश देना चाहती है,  इसके लिए जनता को बताना होगा.

बता दें कि वायनाड से राहुल गांधी की उम्मीदवारी का ऐलान करते हुए कांग्रेस का कहना है कि यह लोकसभा सीट दक्षिण भारत के तीन राज्यों का केंद्र है. कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु से कांग्रेस की राज्य इकाई द्वारा लगातार मांग उठने के बाद कांग्रेस नेतृत्व ने यह फैसला लिया है, जिसको राहुल गांधी ने मंजूरी दी है.

कांग्रेस नेता ए के एंटनी ने ऐलान करते हुए कहा की वायनाड से राहुल गांधी का लड़ना दक्षिण भारत और दक्षिण भारत में कांग्रेस की इकाइयों के लिए अच्छी खबर है. वहीं कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि राहुल गांधी वायनाड से लड़ कर वहां की जनता को संदेश देना चाहते हैं कि कांग्रेस दक्षिण भारत की परंपरा का सम्मान करती है और उसके खिलाफ खड़ी बीजेपी को हराने के लिए तैयार है.

गौरतलब है कि हाल ही में सीपीएम और कांग्रेस के बीच बंगाल में गठबंधन को लेकर चर्चा चल रही थी, वहीं पूरे देश में विपक्षी दलों के बीच बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए के खिलाफ महागठबंधन बनाए जाने को लेकर भी कवायद चल रही है. ऐसे में केरल में लेफ्ट और कांग्रेस के बीच उठे ये विरोध के सुर महागठबंधन की सेहत को खराब करेंगे.

चुनाव की हर ख़बर मिलेगी सीधे आपके इनबॉक्स में. आम चुनाव की ताज़ा खबरों से अपडेट रहने के लिए सब्सक्राइब करें आजतक का इलेक्शन स्पेशल न्यूज़लेटर

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay