एडवांस्ड सर्च

आखिर पहले रोड शो के लिए प्रियंका गांधी ने लखनऊ को ही क्यों चुना?

प्रियंका गांधी के लखनऊ से चुनावी अभियान की शुरुआत करने के पीछे सियासी मायने देखे जाने लगे हैं. एक दौर में लखनऊ नेहरू परिवार की राजनीतिक विरासत रही है, जिसे अटल बिहारी वाजपेयी ने छीन लिया था. अब प्रियंका ने बीजेपी से इस दुर्ग पर फिर काबिज होने और सूबे में बड़ा राजनीतिक संदेश देने के लिए लखनऊ से रोड शो करने का निर्णय लिया है.

Advertisement
aajtak.in
कुबूल अहमद नई दिल्ली, 11 February 2019
आखिर पहले रोड शो के लिए प्रियंका गांधी ने लखनऊ को ही क्यों चुना? प्रियंका गांधी और राहुल गांधी (फोटो-PTI)

लोकसभा चुनाव से पहले राजनीति में एंट्री करने के बाद प्रियंका गांधी सोमवार को देश के सबसे बड़े सूबे की राजधानी लखनऊ में रोड शो के जरिए चुनावी बिगुल फूंकेगी. लखनऊ से चुनावी अभियान की शुरुआत करने के पीछे सियासी मायने लगाए जाने लगे हैं. एक दौर में लखनऊ नेहरू परिवार की राजनीतिक विरासत रही है, जिसे अटल बिहारी वाजपेयी ने छीन लिया था. अब प्रियंका गांधी इस दुर्ग पर फिर काबिज होने और सूबे में बड़ा राजनीतिक संदेश देने के लिए लखनऊ की सड़कों पर उतरने का फैसला किया है.

बता दें कि कांग्रेस के सियासी इतिहास में पहली बार है जब पार्टी के दो महासचिवों को सूबे का प्रभारी बनाया गया है. पूर्वांचल की जिम्मेदारी प्रियंका गांधी को सौंपी गई है तो वहीं पश्चिम यूपी की कमान ज्योतिरादित्य सिंधिया को दी गई है. ऐसे में दोनों नेता एक साथ लखनऊ में रोड शो के जरिए सूबे में एक बड़ा संदेश देने की कोशिश है ताकि पार्टी को दोबारा से संजीवनी मिल सके.

नेहरू परिवार की विरासत लखनऊ

रायबरेली-अमेठी की तरह लखनऊ भी गांधी परिवार का मजबूत दुर्ग रहा है. लखनऊ संसदीय सीट पर पहला चुनाव जीतकर शिवराजवती नेहरू सांसद चुनी गई थीं, जिन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी को करारी मात दी थी. शिवराजवती नेहरू पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की चचेरी भाभी थीं. इसके बाद दूसरे लोकसभा चुनाव में पंडित जवाहर लाल नेहरू की बहन विजयलक्ष्मी पंडित चुनी गई थीं. इसके बाद तीन चुनाव यहां से शीला कौल जीती थीं, जो इंदिरा गांधी की मामी थीं.

लखनऊ बीजेपी का दुर्ग कैसे बना

अटल बिहारी वाजपेयी ने कांग्रेस के इस मजबूत किले को 90 में दशक में ऐसा धराशायी किया कि दोबारा इस सीट पर वापसी नहीं कर सकी. वाजपेयी 1991 से लगातार 2004 तक इस सीट से जीतकर सांसद रहे और तीन बार देश के प्रधानमंत्री बने. इसके बाद लालजी टंडन ने उनकी विरासत संभाली और मौजूदा समय में राजनाथ सिंह यहां से सांसद हैं.

कांग्रेस दूसरे नंबर पर रही

लखनऊ संसदीय सीट पर 1989 के बाद कांग्रेस भले ही वापसी नहीं कर सकी, लेकिन ज्यादातर चुनावों में दूसरे नंबर पर कांग्रेस ही रही. इससे साफ जाहिर है कि कांग्रेस का ग्राफ लखनऊ में बाकी संसदीय क्षेत्रों की तरह गिरा नहीं है.

अटल बिहारी वाजपेयी का 16 अगस्त 2018 को निधन हो चुका है. ऐसे में कांग्रेस लखनऊ में वापसी की उम्मीद लगाए हुए है. यही वजह है कि प्रियंका गांधी अपनी राजनीतिक एंट्री के बाद लखनऊ की सड़कों पर उतरकर कांग्रेस के पक्ष में माहौल बनाने की कवायद कर रही हैं.

इसके अलावा लखनऊ का सियासी समीकरण भी कांग्रेस के पक्ष में है. लखनऊ में मुस्लिम वोट और ब्राह्मण मतदाताओं की भागीदारी अच्छी खासी है. 2014 के लोकसभा चुनाव में राजनाथ सिंह भले ही आसानी से जीत हासिल करने में कामयाब रहे हो, लेकिन कांग्रेस की ओर से रीता बहुगुणा जोशी करीब पौने तीन लाख वोट हासिल करने में कामयाब रहीं. इससे कांग्रेस की सियासी जमीन को समझा जा सकता है.

मौजूदा समय में पुरानी पेंशन बहाली को लेकर कर्मचारी बीजेपी सरकार से नाराज चल रहे हैं. सूबे में सबसे ज्यादा कर्मचारी लखनऊ में ही रहते हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पुरानी पेंशन बहाली का समर्थन करके कर्मचारियों को साधने का दांव पहले ही चल दिया है. इसके अलावा प्रियंका ने लखनऊ को रोड शो के लिए चुना है कि यहीं से वो पूर्वांचल को साधने की कोशिश करेंगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay