एडवांस्ड सर्च

PSE: स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पर गुजरात के लोगों को गर्व, मोदी PM तो रुपाणी CM के लिए पहली पसंद

गुजरात में मुख्यमंत्री के लिए विजय रुपाणी वोटरों की पहली पसंद बने हुए हैं, वहीं प्रधानमंत्री के लिए लोकप्रियता के मामले में अपने गृह राज्य में नरेंद्र मोदी को राहुल गांधी पर भारी बढ़त हासिल है. ये निष्कर्ष एक्सिस माई इंडिया की ओर से इंडिया टुडे के लिए Political Stock Exchange (PSE) के ताजा सर्वे का है.

Advertisement
aajtak.in
राहुल कंवल नई दिल्ली, 19 January 2019
PSE: स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पर गुजरात के लोगों को गर्व, मोदी PM तो रुपाणी CM के लिए पहली पसंद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल-PTI)

गुजरात में मुख्यमंत्री के लिए विजय रुपाणी वोटरों की पहली पसंद बने हुए हैं, वहीं प्रधानमंत्री के लिए लोकप्रियता के मामले में अपने गृह राज्य में नरेंद्र मोदी को राहुल गांधी पर भारी बढ़त हासिल है. ये निष्कर्ष एक्सिस माई इंडिया की ओर से इंडिया टुडे के लिए पॉलिटिकल स्टॉक एक्सचेंज (PSE) के ताजा सर्वे का है. PSE डेटा से यह भी सामने आया कि देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल के सम्मान में गुजरात के नर्मदा जिले के साधू बेट में बनाई गई विश्व की सबसे ऊंची मूर्ति 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' को अधिकतर वोटर राज्य के लिए गर्व का विषय मानते हैं.

PSE सर्वे में 45% प्रतिभागियों ने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को राज्य के लिए गर्व का विषय बताया. वहीं 37% वोटरों की राय में 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' का निर्माण पर्यटन के विकास के लिए उठाया कदम है. सर्वे में 16% प्रतिभागियों ने मूर्ति के निर्माण को फिजूल खर्च बताया. जबकि 2% प्रतिभागी इस विषय में कोई स्पष्ट राय नहीं जता सके.     

पॉलिटिकल स्टॉक एक्सचेंज (PSE) जनवरी सर्वे में विजय रुपाणी सरकार के कामकाज से 46% वोटरों ने खुद को संतुष्ट बताया. सितंबर-अक्टूबर 2018 में हुए सर्वे में यह आंकड़ा 43% था. सर्वे में राज्य सरकार के कामकाज से 26% वोटरों ने खुद को असंतुष्ट बताया. तीन महीने पहले रुपाणी सरकार के कामकाज से 27% वोटर खुद को असंतुष्ट बता रहे थे.

PM के लिए नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता बढ़ी

जहां तक केंद्र में बीजेपी सरकार के कामकाज का सवाल है तो PSE सर्वे में 56% वोटरों ने खुद को संतुष्ट बताया. तीन महीने पहले हुए PSE सर्वे में यह आंकड़ा 52% था. केंद्र में मोदी सरकार के कामकाज से इस सर्वे में 17% प्रतिभागियों ने खुद को असंतुष्ट बताया. तीन महीने पहले हुए सर्वे में मोदी सरकार के कामकाज से खुद को असंतुष्ट बताने वाले प्रतिभागी 22% थे.

ताजा PSE सर्वे के मुताबिक प्रधानमंत्री के लिए पसंद को लेकर नरेंद्र मोदी को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर भारी बढ़त हासिल है. ताजा सर्वे में 62% प्रतिभागियों ने नरेंद्र मोदी को पीएम के लिए पहली पसंद बताया. सितंबर-अक्टूबर में हुए PSE सर्वे में 61% वोटरों ने मोदी को पीएम के लिए पहली पसंद बताया था.

जनवरी PSE सर्वे में 28%  वोटरों ने राहुल गांधी को पीएम के लिए अपनी पसंद बताया. तीन महीने पहले हुए सर्वे में भी 28% वोटरों ने ही राहुल के पक्ष में राय व्यक्त की थी.

विजय रुपाणी की लोकप्रियता घटी

एक्सिस माई इंडिया की ओर से इंडिया टुडे के लिए इकट्ठा किए गए PSE डेटा के मुताबिक विजय रुपाणी मुख्यमंत्री के लिए 44% वोटरों की पहली पसंद बने हुए हैं. हालांकि बीते तीन महीने में उनकी लोकप्रियता में 4% की गिरावट आई है.

सितंबर-अक्टूबर PSE सर्वे में 48% वोटरों ने रुपाणी को सीएम के लिए पहली पसंद बताया था. सर्वे में पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल को 9% प्रतिभागियों ने मुख्यमंत्री के लिए पहली पसंद बताया. तीन महीने पहले सर्वे में सिर्फ 3% प्रतिभागियों ने ही आनंदीबेन पटेल के हक में राय जताई थी. आनंदीबेन पटेल फिलहाल मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ की राज्यपाल हैं.

कांग्रेस नेता शक्ति सिंह गोहिल को 8% प्रतिभागियों ने मुख्यमंत्री के लिए पहली पसंद बताया. तीन महीने पहले सर्वे में यह आंकड़ा 11% था. ताजा सर्वे में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को भी 6% वोटरों ने राज्य का अगला मुख्यमंत्री देखने की राय व्यक्त की.

लोकसभा चुनाव में अहम मुद्दा

अगले लोकसभा चुनाव में कौन सा मुद्दा सबसे महत्वपूर्ण रहेगा?  PSE सर्वे में इस सवाल के जवाब में 30% प्रतिभागियों ने रोजगार के अवसर को सबसे अहम मुद्दा बताया. 21%  वोटरों की राय में महंगाई और 20%  की राय में भ्रष्टाचार सबसे अहम मुद्दे रहेंगे. 15%  प्रतिभागियों ने किसानों से जुड़ी समस्याओं को महत्वपूर्ण मुद्दा बताया तो 10%  प्रतिभागियों ने पीने के पानी की किल्लत को अहम बताया.

PSE सर्वे में जब किसान प्रतिभागियों से पूछा गया कि क्या पिछले चार सालों में किसानों की स्थिति में सुधार हुआ तो 47% प्रतिभागियों ने 'हां' में जवाब दिया. वहीं 20% का जवाब 'नहीं' रहा. 24% वोटरों प्रतिभागियों की राय में किसानों की स्थिति जैसे पहले थी वैसी ही अब भी है.

51% लोगों को राफेल की जानकारी नहीं

राफेल डील के बारे में पूछे जाने पर 38% प्रतिभागियों ने कहा कि उन्होंने इसके बारे में सुन रखा है. वहीं 51 फीसदी प्रतिभागियों ने कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है. जिन्होंने राफेल डील के बारे में सुन रखा है उनमें से 21% वोटरों की राय में राफेल डील में भ्रष्टाचार हुआ है. वहीं 49% मानते हैं कि डील में भ्रष्टाचार नहीं हुआ. सर्वे में 30% प्रतिभागियों ने कहा कि वो इस बारे में स्पष्ट रूप से कुछ नहीं कह सकते.

एक्सिस माई इंडिया की ओर से PSE सर्वे 10 जनवरी से 16 जनवरी 2019 के बीच किया गया. इस दौरान गुजरात के सभी 26 संसदीय क्षेत्रों में टेलीफोन इंटरव्यू लिए गए. इसमें 3,255 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay