एडवांस्ड सर्च

मोदी है तो महफूज हैं? सवाल पर बोले मंत्री पीयूष गोयल- मैं उर्दू-वुर्दू नहीं जानता, हिंदी में पूछो

पुलवामा हमले का ध्यान दिलाते हुए पीयूष गोयल से सवाल किया गया कि क्या मोदी है तो महफूज हैं? इस सवाल पर पीयूष गोयल ने कहा कि महफूज मुझे नहीं मालूम. मैं उर्दू-वुर्दू नहीं जानता. हिंदी में कोई शब्द है तो बोलें. मुझे उर्दू लैंग्वेज समझने की न तो जरूरत है और न इच्छा है.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: राहुल विश्वकर्मा]नई दिल्ली, 12 March 2019
मोदी है तो महफूज हैं? सवाल पर बोले मंत्री पीयूष गोयल- मैं उर्दू-वुर्दू नहीं जानता, हिंदी में पूछो आज तक के कार्यक्रम सुरक्षा सभा में पीयूष गोयल.

आजतक के विशेष सुरक्षा सभा में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने शिरकत की. इस खास कार्यक्रम में उनसे बीजेपी के नए नारे 'मोदी है तो मुमकिन है', पर सवाल किया गया.

सत्र का संचालन कर रही आज तक की एग्जीक्यूटिव एडिटर अंजना ओम कश्यप ने उनसे सवाल किया कि मोदी है तो मुमकिन है, राष्ट्रवाद है तो मुमकिन है? इस पर गोयल ने कहा कि मोदी है तो राष्ट्रवाद जीवित रहेगा और मोदी है तो इस देश में राष्ट्रवाद सुरक्षित रहेगा.  

इसके बाद पुलवामा हमले का ध्यान दिलाते हुए अगला सवाल किया गया कि क्या मोदी है तो महफूज हैं? इस सवाल पर पीयूष गोयल ने कहा कि महफूज मुझे नहीं मालूम. मैं उर्दू-वुर्दू नहीं जानता. हिंदी में कोई शब्द है तो बोलें. मुझे उर्दू लैंग्वेज समझने की न तो जरूरत है और न इच्छा है.

इस पर उन्हें महफूज का मतलब सुरक्षित बताते हुए दोबारा सवाल किया गया कि मोदी हैं तो सुरक्षित हैं? इस पर गोयल ने कहा कि एकमात्र नेता आज की डेट में मोदी हैं, जिनमें आतंकवाद को खत्म करने का साहस है. आतंकवाद अब किधर से भी पनपेगा, उस पर सीधा निशाना लगाने की उनमें हिम्मत है.

ये बात आज सिर्फ मैं ही नहीं, देश के गिने-चुने लोगों को छोड़कर 130 करोड़ लोग महसूस करते हैं. आज पूरा विश्व महसूस करता है कि इस देश में ऐसा नेता है जो आतंकवाद को मुंहतोड़ जवाब दे सकता है.

इससे पहले केंद्रीय मंत्री ने मुंबई के सीरियल बम ब्लास्ट का जिक्र करते हुए कहा कि उस समय राज्य और केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी. इतनी संख्या में लोगों की जान गई लेकिन तब की सरकार ने कुछ नहीं किया. देश बस यूं ही चलता रहा. लेकिन आज की सरकार इस चुनौती का सामना करने के लिए सक्षम है.

एयर स्ट्राइक के राजनीतिकरण के मुद्दे पर गोयल ने कहा कि देश की सुरक्षा और स्वाभिमान चुनाव का विषय नहीं है. इसे राजनीतिक चश्मे से नहीं देखना चाहिए. लेकिन कांग्रेस पार्टी के जो बयान होते हैं वो पाकिस्तान की मीडिया में हेडलाइन बन रहे हैं.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के बयान पर उन्होंने कहा कि उदारवादी सोच रखने वालों को पता है कि देश में आपातकाल किसने लगाया था. प्रेस पर पाबंदी किसने लगाई थी. सरकार से सवाल पूछने पर गोयल ने कहा कि सरकार से सवाल जरूर पूछे जाने चाहिए, लेकिन अब तो ये लोग आर्मी और वायुसेना से पूछने लगे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay