एडवांस्ड सर्च

नासिक लोकसभा सीट: शिवसेना का राज, क्या वापसी कर पाएगी NCP

नासिक लोकसभा सीट के बारे में कहा जाता है कि इस सीट पर कोई भी पार्टी का लम्बे वक्त तक राज नहीं रहा है. हर चुनाव में यहां नई पार्टी का प्रत्याशी जीतकर संसद पहुंचता है. हालांकि, यहां हुए 17 लोकसभा चुनाव में 9 बार कांग्रेस, 2 बार एनसीपी, 3 बार शिवसेना, एक-एक बार बीजेपी, शेतकरी कामगार पक्ष जीत चुके हैं.  

Advertisement
आदित्य बिड़वईनई दिल्ली, 17 April 2019
नासिक लोकसभा सीट: शिवसेना का राज, क्या वापसी कर पाएगी NCP नासिक लोकसभा सीट.

महाराष्ट्र की नासिक लोकसभा सीट पर इस बार कड़ी टक्कर हो सकती है. यहां 2014 के लोकसभा चुनाव में शिवसेना के हेमंत गोडसे चुनाव जीतकर संसद पहुंचे थे. उन्होंने राष्ट्रवादी कांग्रेस (एनसीपी) के दिग्गज नेता छगन भुजबल को हराया था. इस चुनाव में गोडसे को 4,94,735 वोट हासिल हुए थे. जबकि एनसीपी के छगन भुजबल को 3,07,399 वोट मिले.

नासिक लोकसभा सीट के बारे में कहा जाता है कि इस सीट पर कोई भी पार्टी का लम्बे वक्त तक राज नहीं रहा है. हर चुनाव में यहां नई पार्टी का प्रत्याशी जीतकर संसद पहुंचता है. हालांकि, यहां हुए 17 लोकसभा चुनाव में 9 बार कांग्रेस, 2 बार एनसीपी, 3 बार शिवसेना, एक-एक बार बीजेपी, शेतकरी कामगार पक्ष जीत चुके हैं.   

क्या रहा है नासिक लोकसभा सीट का इतिहास...

नासिक लोकसभा सीट पर सबसे पहले 1952 में कांग्रेस ने जीत हासिल की थी. जी.एच देशपांडे सांसद चुने गए थे. इसके बाद 1957 में भाउराव किशनजी गायकवाड़ शेड्यूल कास्ट फेडरेशन से चुनाव जीते. 1962 में दोबारा जी.एच देशपांडे चुनाव जीतकर सांसद बने. लेकिन उनके निधन के बाद 1963 में यहां दोबारा उपचुनाव हुए. यशवंत राव चव्हाण सांसद चुने गए.

बता दें कि यशवंत राव चव्हाण महाराष्ट्र के पहले मुख्यमंत्री थे. वो उप प्रधानमंत्री भी रहे. इसके बाद हुए चुनाव में 1967 में बी.आर कवाडे सांसद बने. वो 1971 में दोबारा जीते.

कांग्रेस के जीत का सिलसिला 1977 में विट्ठल राव हांडे ने तोड़ा. वो शेतकरी कामगार पक्ष की टिकट से सांसद चुने गए. लेकिन 1980 के चुनाव में कांग्रेस ने वापसी की. प्रताप राव वाघ सांसद बने. उनके बाद 1984 में मुरलीधर माने कांग्रेस से चुनाव जीते.

जब पहली बार जीती बीजेपी...

नासिक लोकसभा सीट पर पहली बार बीजेपी ने 1989 में जीत हासिल की. दौलतराव अहेर सांसद चुने गए. लेकिन एक ही साल में यहां समीकरण बदले और कांग्रेस ने 1991 में हुए चुनाव में वापसी कर ली.

शिवसेना और एनसीपी की एंट्री....

1990 के दशक में कांग्रेस की पकड़ नासिक लोकसभा सीट पर कमजोर पड़ने लगी. जिसका असर 1996 के लोकसभा चुनाव में दिखाई दिया. यहां शिवसेना ने पहली बार जीत हासिल की. राजाराम गोड़से सांसद चुने गए. लेकिन 1998 के चुनाव में कांग्रेस की वापस एंट्री हुई और माधव पाटिल चुनाव जीते.

इसके बाद नासिक लोकसभा सीट पर कांग्रेस का यहां से पूरी तरह सफाया हो गया. 1999 में शिवसेना के उत्तमराव धिकाले चुनाव जीते. फिर 2004 में एनसीपी यहां पहली बार सत्ता में आई. देविदास आनंदराव पिंगले चुनाव जीते.

2009 में एनसीपी दोबारा चुनाव जीतने में कामयाब रही. छगन भुजबल के भतीजे समीर भुजबल सांसद बने. फिर 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद शिवसेना के हेमंत गोडसे यहां जीते.

क्या है विधानसभा सीटों की स्थिति...

नासिक लोकसभा सीट के अंतर्गत सिन्नर और देवलाली में शिवसेना है. जबकि नासिक पूर्व, नासिक मध्य, नासिक पश्चिम में बीजेपी. वहीं इकलौती इगतपुरी विधानसभा सीट पर कांग्रेस का कब्ज़ा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay