एडवांस्ड सर्च

कीर्ति आजादः भाजपा से बागी होकर अब बने कांग्रेस उम्मीदवार

धनबाद लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार कीर्तिवर्धन भागवत झा आजाद का जन्म 2 जनवरी 1959 को बिहार के पूर्णिया में हुआ था. लोग इन्हें कीर्ति आजाद के नाम से जानते हैं. कीर्ति ने राजनीतिक करियर की शुरुआत 1993 में बीजेपी विधायक के रूप में दिल्ली की गोल मार्केट विधानसभा सीट से चुनाव जीतकर की.

Advertisement
aajtak.in[ऋचीक मिश्रा]नई दिल्ली, 08 May 2019
कीर्ति आजादः भाजपा से बागी होकर अब बने कांग्रेस उम्मीदवार धनबाद लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार कीर्ति आजाद.(FILE)

झारखंड की धनबाद लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार कीर्तिवर्धन भागवत झा आजाद का जन्म 2 जनवरी 1959 को बिहार के पूर्णिया में हुआ था. लोग इन्हें कीर्ति आजाद के नाम से जानते हैं. कीर्ति आजाद ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत 1993 में बीजेपी विधायक के रूप में दिल्ली की गोल मार्केट विधानसभा सीट से चुनाव जीतकर की.

1999 में वे लोकसभा चुनाव में निर्वाचित हुए. 2009 में वे लोकसभा चुनावों में दोबारा जीते. 31 अगस्‍त 2009 को उन्‍हें मानव संसाधन विकास समिति और 9 जून 2013 से उन्‍हें गृह समिति का सदस्‍य बनाया गया.

पिता भागवत झा आजाद रह चुके हैं बिहार के सीएम

कीर्ति आजाद ने दिल्‍ली यूनिवर्सिटी से इतिहास में स्‍नातक किया है. कीर्ति आजाद के पिता का नाम भागवत झा आजाद है, जो बिहार के मुख्‍यमंत्री रह चुके हैं. आजाद के परिवार में पत्‍नी पूनम और दो बच्‍चे पुत्र सूर्या और पुत्री सौम्‍या हैं.

1983 के विश्व कप में भारतीय क्रिकेट टीम के सदस्य थे

कीर्ति आजाद क्रिकेट के अंतरराष्‍ट्रीय खिलाड़ी रह चुके हैं. खेल गतिविधियों को प्रोत्‍साहन देने वाली संस्‍थाओं से जुड़े हैं. 1983 में वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय क्रिकेट टीम के सदस्‍य भी थे. 

धनबाद सीट: कोयले की राजधानी, जहां दो बार से कांग्रेस को हरा रही है बीजेपी

कोयले की राजधानी के नाम से प्रसिद्ध धनबाद लोकसभा क्षेत्र, झारखंड के 14 लोकसभा क्षेत्रों में से एक है. यह संसदीय क्षेत्र दो जिलों धनबाद और बोकारो में फैला हुआ और इसके अन्तर्गत 6 विधानसभा सीटें आती हैं. 2009 और 2014 के चुनाव में बीजेपी के पशुपति नाथ सिंह जीते हैं. इस सीट पर कांग्रेस और बीजेपी में कड़ी टक्कर होती है.  

धनबाद संसदीय क्षेत्र भले आर्थिक रूप से पिछड़ा हो, लेकिन यह अपने औद्योगिक क्षेत्रों के लिए जाना जाता है. झारखंड के अधिकांश औद्योगिक प्लांट (जैसे-बोकारो स्टील प्लांट, भारत कूकिंग कोल लिमिटेड, बीईएमएल लिमिटेड, बोकारो पॉवर सप्लाई कॉरपोरेशन प्राइवेट लिमिटेड) यही हैं. यहां मुंबई के बाद देश का दूसरा सबसे बड़ा रेलवे सब डिवीजन है, जो राजस्व का दूसरा बड़ा स्त्रोत है.

राजनीतिक पृष्ठभूमि

धनबाद लोकसभा सीट से 1951 और 1957 का चुनाव कांग्रेस के पीसी बोस ने जीता. 1962 में इस सीट से कांग्रेस पीआर चक्रवर्ती जीतने में कामयाब हुए. 1967 में निर्दलीय प्रत्याशी रानी ललिता राज्य लक्ष्मी जीतीं. 1971 में फिर इस सीट पर कांग्रेस ने वापसी की और उसके टिकट पर राम नारायण शर्मा जीते.

1977 में इस सीट पर कम्यूनिस्ट पार्टी का कब्जा हो गया और उसके टिकट पर एके रॉय जीते. 1980 के चुनाव में भी एके रॉय जीतने में कामयाब हुए. 1984 में कांग्रेस ने फिर वापसी की और उसके टिकट पर शंकर दयाल सिंह जीते. 1989 का चुनाव कम्यूनिस्ट पार्टी के ही एके रॉय जीते और तीसरी बार सांसद बने.

1991 में इस सीट पर पर पहली बार बीजेपी का खाता खुला और उसके टिकट पर रीता वर्मा जीतीं. वह लगातार चार बार (1991, 1996, 1998 और 1999) जीतीं. अटल बिहारी सरकार में कई मंत्रालयों की मंत्री भी रहीं. 2004 में इस सीट से कांग्रेस के चंद्र शेखर दूबे जीते. 2009 में बीजेपी ने फिर वापसी की और उसके टिकट पर पशुपति नाथ सिंह जीते. 2014 में वह अपनी सीट बचाने में कामयाब हुए.

सामाजिक तानाबाना

धनबाद लोकसभा सीट पर शहरी मतदाताओं का दबदबा है. इस सीट पर करीब 62 फीसदी शहरी मतदाता और 38 फीसदी ग्रामीण मतदाता है. इस सीट पर अनुसूचित जाति की तादात 16 फीसदी और अनुसूचित जनजाति की तादात 8 फीसदी है. इसके अलावा सीट पर उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल के लोगों की अच्छी तादात है. इस संसदीय क्षेत्र के तहत 6 विधानसभा सीटें (बोकारो, सिन्दरी, निरसा, धनबाद, झरिया, चन्दनकियारी) आती हैं. इसमें चंदनकियारी सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है.

2014 के विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी ने चार सीटें (बोकारो, सिन्दरी, धनबाद, झरिया), मार्क्सिस्‍ट कोऑर्डिनेशन ने एक सीट (निरसा) और झारखंड विकास मोर्चा ने एक सीट (चन्दनकियारी) पर जीत हासिल की. इस सीट पर वोटरों की संख्या 18.89 लाख है, जिनमें 10.32 लाख पुरुष वोटर और 8.57 लाख महिला वोटर शामिल हैं. 2014 के चुनाव में सीट पर करीब 61 फीसदी मतदान हुआ था.

2014 का जनादेश

मोदी लहर में इस सीट पर बीजेपी के पशुपति नाथ सिंह दोबारा जीते. उन्होंने कांग्रेस के अजय कुमार दूबे को करीब 2.92 लाख वोटों से हराया. पशुपति नाथ सिंह को 5.43 लाख वोट मिले थे, जबकि अजय कुमार दूबे को 2.50 लाख. तीसरे नंबर पर मार्कसिस्ट को-ऑर्डिनेशन के आनंद महतो (1.10 लाख) और चौथे नंबर पर झारखंड विकास मोर्चा के समरेस सिंह (90 हजार) रहे.

चुनाव की हर ख़बर मिलेगी सीधे आपके इनबॉक्स में. आम चुनाव की ताज़ा खबरों से अपडेट रहने के लिए सब्सक्राइब करें आजतक का इलेक्शन स्पेशल न्यूज़ लेटर

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay