एडवांस्ड सर्च

बीजेपी इस बार क्यों नहीं कर रही है गुजरात मॉडल की चर्चा?

गुजरात लंबे समय से भारतीय जनता पार्टी की राजनीति का गढ़ रहा है. भारत का एकमात्र राज्य है जहां बीजेपी दो दशक से ज्यादा समय से लगातार शासन में रही है. 1995 से लेकर अब तक में सिर्फ 18 महीने को छोड़ दिया जाए तो राज्य में बीजेपी लगातार शासन में है.

Advertisement
aajtak.in
आशीष रंजन नई दिल्ली, 23 April 2019
बीजेपी इस बार क्यों नहीं कर रही है गुजरात मॉडल की चर्चा? गुजरात के चुनावी रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह (फाइल फोटो-PTI)

2014 लोकसभा चुनाव के दौरान गुजरात मॉडल की चर्चा पूरे जोरों पर थी, लेकिन इस बार के चुनाव प्रचार में गुजरात मॉडल की चर्चा नदारद है. आखिर क्यों? गुजरात लंबे समय से भारतीय जनता पार्टी की राजनीति का गढ़ रहा है. भारत का एकमात्र राज्य है जहां बीजेपी दो दशक से ज्यादा समय से लगातार शासन में रही है. 1995 से लेकर अब तक में सिर्फ 18 महीने को छोड़ दिया जाए तो राज्य में बीजेपी लगातार शासन में है.

यह इस मायने में भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि न सिर्फ विधानसभा चुनावों में बल्कि लोकसभा चुनाव में भी राज्य में बीजेपी का ही दबदबा रहा है. 1989 के लोकसभा चुनाव से ही कांग्रेस की तुलना में बीजेपी ने ज्यादा सीटें जीती है. 2014 के चुनाव में पहली बार कांग्रेस राज्य में अपना खाता भी नहीं खोल पायी थी और दूसरी तरफ बीजेपी ने सभी 26 सीटों पर भारी जीत दर्ज की थी. जो कि यह दर्शाने के लिए भी पर्याप्त है कि बीजेपी कि जड़ें राज्य में कितनी गहरी और मजबूत है.

1_042319063814.jpg चार्ट 1: बीजेपी और कांग्रेस द्वारा जीती गयी लोकसभा सीट की संख्या, 1989-2014

अगर पिछले कई चुनाव में बीजेपी और कांग्रेस को मिले वोट की तुलना करें, तब भी 1991 से ही कांग्रेस के ऊपर बीजेपी को बढ़त मिलती रही है और वह निरंतर जारी है, अगर 2014 के लोकसभा चुनाव के परिणाम को देखें तो बीजेपी न सिर्फ राज्य की, सभी 26 सीटें जीती थी बल्कि कांग्रेस की तुलना में बीजेपी को तकरीबन 27 प्रतिशत अधिक वोट मिले थे, जो कि वोटों के मामले में उनके बीच की यह सबसे बड़ी अंतराल थी.

2014 के चुनाव परिणाम गुजरात में मोदी के नेतृत्व वाली बीजेपी की मजबूती को दिखाती ही है साथ ही दूर से यह भी संदेश देती है कि राज्य में कांग्रेस पार्टी बीजेपी की तुलना में काफी कमजोर है और इसलिए 2019 के चुनाव में कांग्रेस गुजरात में बीजेपी को कहीं से कोई टक्कर नहीं दे पाएगी. लेकिन ऐसा भी नहीं है?

अगर 2014 से पहले के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी के प्रदर्शन को देखें तो यह एक नजदीकी मामला लगता है. जहां चार्ट 1 यह दर्शाती है कि 2004 और 2009 को छोड़कर सभी लोकसभा चुनाव में बीजेपी द्वारा कांग्रेस की तुलना में काफी ज्यादा सीटें जीती है, लेकिन जब कांग्रेस और बीजेपी के वोट को देखें तो यह साफ झलकता है कि 2014 से पहले कांग्रेस और बीजेपी में एक नजदीकी मुकाबला हमेशा रही है.

2_042319063829.jpgचार्ट 2: 1991 से 2014 लोकसभा चुनाव में बीजेपी और कांग्रेस को मिले मत (नोट: सभी आंकड़े प्रतिशत में और पूर्णांक में स्त्रोत: चुनाव आयोग)

यहां यह सवाल उठता है कि आखिर राज्य में बीजेपी और कांग्रेस के बीच नजदीकी मुकाबला होने के बावजूद हमेशा बीजेपी ही क्यों बाजी मारती है?

कांग्रेस की कमजोरी

इसका एक सीधा सा जबाब यह होता है कि कांग्रेस के पास कोई मजबूत नेता नहीं है. राज्य में जो कि नरेंद्र मोदी कि लोकप्रियता का मुकाबला कर पाए. हालांकि यह बात पूरी कहानी बयान नहीं करती है क्योंकि मोदी के मुख्यमंत्री बनने से पहले भी राज्य में बीजेपी काफी मजबूत रही है.

कांग्रेस के लिए सबसे बड़ी कमजोरी, राज्य में 1980 के दशक की राजनीति है. जब 1985 में राज्य में माधव सिंह सोलंकी नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने ओबीसी आरक्षण लागू की. उसके बाद से राज्य में बड़े पैमाने पर आरक्षण के खिलाफ आंदोलन हुए और राज्य को कई बार कर्फ़्यू का सामना करना पड़ा. राजनीतिक आंदोलनों की वजह से शहरी जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गई, जिसका फायदा बीजेपी ने उठाना शुरू किया, और शहरों में बीजेपी इतनी मजबूत हो गई कि 2017 के विधानसभा चुनाव में पटेल आंदोलनों, ग्रामीण इलाकों में खेती-किसानी की हालत को लेकर आक्रोश होने के बावजूद बीजेपी राज्य में अपनी सत्ता बचाने में सफल रही.

शहरी-ग्रामीण भिन्नता

गुजरात में 2014 में बीजेपी की बेहतरीन सफलता 3 साल बाद हुए 2017 विधानसभा चुनाव में नहीं दिखी. उसकी एक बड़ी वजह ग्रामीण इलाकों में बीजेपी के प्रति आक्रोश था. विधानसभा चुनाव में गुजरात के शहरी और ग्रामीण मतदाता के अलग-अलग रुझान ने विश्लेषकों का ध्यान खींचा था. ग्रामीण इलाका पहले भी और कई अन्य राज्यों में भी बीजेपी के लिए एक कमजोर कड़ी रही है और यही वजह रही थी की 2017 का मुक़ाबला काफी नजदीकी हो गया था. 2017 गुजरात विधानसभा चुनाव का अगर शहरी और ग्रामीण इलाका के अनुसार विश्लेषण करें तो ग्रामीण इलाकों में बीजेपी का प्रदर्शन न सिर्फ शहरों के मुक़ाबले काफी कमजोर थी, बल्कि पार्टी वोट और सीट दोनों मामले में कांग्रेस से पिछड़ गई थी. जहां शहरी सीटों पर बीजेपी को कांग्रेस की तुलना मे 24 प्रतिशत अधिक मत मिले वही अंतर अर्ध-शहरी सीटों पर घाट कर 7 प्रतिशत रह गई, जबकि ग्रामीण सीटों पर कांग्रेस को मिले वोट बीजेपी की तुलना में एक प्रतिशत अधिक थी (नीचे चार्ट 3)

3_042319063847.jpgचार्ट 3: बीजेपी और कांग्रेस के द्वारा जीती गई शहरी-ग्रामीण इलाकों में मिली वोट. (नोट: सभी आंकड़े प्रतिशत में और पूर्णांक में. शहरी-ग्रामीण इलाकों की पहचान लोकनीति डाटा यूनिट के आकलन के आधार पर की गई है. स्त्रोत: भारतीय चुनाव आयोग)

राज्य की 182 विधानसभा सीटों में से 98 सीटें ग्रामीण इलाके से आती है और अगर 2017 विधानसभा चुनाव के परिणाम ही देखें तो आधे से अधिक 60 सीटें कांग्रेस गठबंधन को मिली थी. वहीं बीजेपी 98 में से सिर्फ 36 सीटे ही जीत पाई. जबकि शहरी सीटों पर कांग्रेस कहीं से भी मुक़ाबले में नहीं दिखी. (देखे चार्ट 4)

4_042319063903.jpg चार्ट 4: बीजेपी और कांग्रेस के द्वारा जीती गयी शहरी-ग्रामीण विधानसभा सीट

2019 लोकसभा चुनाव

राज्य में 23 अप्रैल को तीसरे चरण में लोकसभा की सभी सीटों के लिए मतदान होने जा रहा है और सबकी निगाहे इस बात पर लगी हुई है कि क्या प्रधानमंत्री मोदी का अपना राज्य उन्हें फिर से एक बार जोरदार बहुमत देगा या फिर कुछ समय से गुजरात में खेती-किसानी को लेकर जो ग्रामीण मतदाताओं का बीजेपी के प्रति जो नाराजगी विधानसभा चुनाव के दौरान दिखी थी. वह अभी भी जारी है और अगर ऐसा होता है तब हमें 2019 के चुनाव में गुजरात से एक बड़ी सरप्राइज़ देखने को मिल सकती है.

चुनाव की हर ख़बर मिलेगी सीधे आपके इनबॉक्स में. आम चुनाव की ताज़ा खबरों से अपडेट रहने के लिए सब्सक्राइब करें आजतक का इलेक्शन स्पेशल न्यूज़लेटर

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay