एडवांस्ड सर्च

Exit Poll: वो 10 बड़े मुद्दे जिसे जनता ने पसंद किया और मोदी के नाम पर लगाई मुहर

आजतक- एक्सिस माई इंडिया के सर्वे में एनडीए को अधिकतम 365 सीटें दी गई हैं. ऐसे में यह जानना जरूरी है कि वो कौन से मुद्दे रहे जिससे नरेंद्र मोदी और एनडीए के पक्ष में हवा बनती दिख रही है.

Advertisement
aajtak.in
रविकांत सिंह नई दिल्ली, 22 May 2019
Exit Poll: वो 10 बड़े मुद्दे जिसे जनता ने पसंद किया और मोदी के नाम पर लगाई मुहर बीजेपी दफ्तर में पीएम मोदी के साथ अध्यक्ष अमित शाह

देश में लोकसभा चुनाव निपट गए हैं और एग्जिट पोल भी जारी हो चुके हैं. एक साथ कई सर्वे आए हैं जिसमें एनडीए की प्रचंड जीत का आकलन किया गया है. आजतक- एक्सिस माई इंडिया के सर्वे में एनडीए को अधिकतम 365 सीटें दी गई हैं. ऐसे में यह जानना जरूरी है कि वो कौन से मुद्दे रहे जिससे नरेंद्र मोदी और एनडीए के पक्ष में हवा बनती दिख रही है.

1-राष्ट्रवाद

बीजेपी कट्टर राष्ट्रवाद की हिमायती है. विपक्षी दल जिस मुद्दे को 'सॉफ्ट कॉर्नर' अपनाते दिखते हैं, बीजेपी उसे अपना एजेंडा मानती रही है. बीजेपी के नेताओं की बात करें तो नरेंद्र मोदी इस मुद्दे के प्रखर वक्ता माने जाते हैं क्योंकि उनके बयानों और भाषणों में इस बात पर ज्यादा जोर होता है कि पहले राष्ट्र और बाद में पार्टी या परिवार. उन्होंने अपने भाषणों में राष्ट्रवाद को सर्वोच्च रखा.

2-राष्ट्रीय सुरक्षा

राष्ट्र की सुरक्षा आंतरिक खतरे से हो या बाह्य चुनौतियों से, नरेंद्र मोदी कहते रहे हैं कि उनकी सरकार ने दोनों मोर्चों पर हिंदुस्तान को सुरक्षित बनाया है. इस बात को उन्होंने अपने चुनावी भाषणों में भी शामिल किया और जहां जहां रैलियां कीं, वहां इस पर जोर दिया. आंतरिक खतरे के मुद्दे पर उन्होंने नक्सलवाद और उग्रवाद पर लगाम लगाने का दावा किया. उनके मुताबिक 'रेड कॉरिडोर' को उन्होंने ग्रीन कॉरिडोर में बदलने का काम किया है. हिंसा का रास्ता अख्तियार करने वाले असामाजिक तत्वों को मुख्यधारा की राजनीति में लाने की वे बात करते रहे हैं.

3-आतंकवाद

आतंकवाद का नाम आते ही पाकिस्तान का नाम आता है. नरेंद्र मोदी के मुताबिक उन्होंने पाकिस्तान को हर मोर्चे पर अलग थलग कर उसे जता दिया कि वार्ता और आतंकवाद दोनों साथ- साथ नहीं. हालांकि पाकिस्तान इस अपील से प्रभावित नहीं हुआ और उसके आतंकी कारनामे बदस्तूर जारी रहे. जैसा कि प्रधानमंत्री अपने भाषणों में बोलते रहे हैं कि भारत इस मु्द्दे को दुनिया के कई देशों में ले गया, उन्हें जता दिया कि पाकिस्तान न सिर्फ दक्षिण एशिया की शांति के लिए खतरा है बल्कि समग्र दुनिया इसके हिंसक रडार पर है.

4-हिंदुत्व

हिंदुत्व का मुद्दा भी राष्ट्रवाद की तरह है जिसके प्रति अन्य पार्टियां 'सॉफ्ट अप्रोच' अपनाती दिखती हैं लेकिन बीजेपी इस पर मुखर रही है. तभी राम मंदिर और यूनिफॉर्म सिविल कोड की बात होती रही है. हालांकि नरेंद्र मोदी इस मुद्दे पर खुलकर बोलने से बचते रहे हैं लेकिन वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर और हाल में केदारनाथ-बदरीनाथ में विधिवत पूजा पाठ का उनका संस्कार यह दर्शाता है कि जिस मुद्दे को अन्य पार्टियां चुनावी सीजन में अख्तियार करती हैं, उस मुद्दे पर बीजेपी काफी आगे निकल चुकी है.

5-स्वच्छता अभियान

इस चुनाव में अगर कोई मुद्दा सबसे ज्यादा उठाया गया तो वह है स्वच्छता अभियान. प्रधानमंत्री ने हर भाषणों में इसका जिक्र किया और बताया कि उनकी सरकार कैसे बाकी सरकारों से अलग है. उन्होंने बताया कि गंदगी और मैलापन का असर हमारे ऊपर, आस पड़ोस तक ही नहीं पड़ता बल्कि दुनिया में भी इससे छवि धूमिल होती है. इसके लिए उन्होंने खुले में शौच से मुक्त भारत बनाने का वादा किया. इसके लिए शौचालय निर्माण के अभियान चलाए गए और जैसा कि प्रधानमंत्री अपने भाषणों में इस अभियान को शत-प्रतिशत सफल बनाने का दावा करते दिखते हैं, इससे कहा जा सकता है कि ये मुद्दा उनकी जीत में महती योगदान निभा सकता है.

6-आयुष्मान भारत योजना

बीजेपी और नरेंद्र मोदी इस योजना को एक नई क्रांति बताते हैं. उनका मानना है कि यह दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य सुरक्षा योजना है. उनके भाषणों में यह सुना जाता है कि गरीबों के लिए यह ऐसी अदभुत योजना है जिससे देश के करोड़ों परिवार लाभान्वित हो रहे हैं और भविष्य में होंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड की राजधानी रांची में आयुष्मान भारत के तहत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (एबी-पीएमजेएवाई) का शुभारंभ किया था. सरकार का दावा है कि आयुष्मान भारत दुनिया की पहली ऐसी योजना है, जिसके अंतर्गत 50 करोड़ से अधिक लोगों को पांच लाख रुपए तक का बीमा मिलेगा. निम्न मध्यम वर्ग की 40 प्रतिशत आबादी को लाभ देने की बात हो रही है.

7-उज्ज्वला योजना

यह योजना नरेंद्र मोदी सरकार की कई महत्वाकांक्षी योजनाओं में एक है. इसके तहत गरीब परिवारों को मुफ्त एलपीजी कनेक्शन देने का प्रबंध है. पहले खाना बनाने के लिए लकड़ी, गोबर के उपले आदि की व्यवस्था में कड़ी मशक्कत करनी पड़ती थी, जिससे बहुत अधिक समय और मेहनत लगती थी. लकड़ी और उपलों से निकलने वाले धुंआ से पूरे परिवार के स्वास्थ्य में बुरा असर पड़ता था. अब गरीब परिवारों को गैस चूल्हा मिल जाने से बच्चों के मनपसंद का खाना और व्यंजन जल्दी बन जाते हैं. स्वास्थ्य का भी ख्याल हो जाता है. इस तरह की बातें कई महिलाओं ने प्रधानमंत्री के मन की बात कार्यक्रम में उठाई हैं.

8-भ्रष्टाचार

बीजेपी और नरेंद्र मोदी के लिए भ्रष्टाचार सबसे बड़ा मुद्दा रहा. नरेंद्र मोदी हमेशा कहते रहे कि पूर्व की सरकारों से उनकी सरकार भिन्न रही क्योंकि किसी भी मंत्री या नेता पर रत्ती भर अनियमितता का आरोप नहीं लगा. नरेंद्र मोदी अपने भाषणों में कांग्रेस के कई भ्रष्टाचार का जिक्र करते हैं जिसमें बोफोर्स, 2जी से लेकर कॉमनवेल्थ घोटाले तक की बात है. चुनाव प्रचार के अंत में उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को 'भ्रष्टाचारी नंबर-1' तक कह दिया जिस पर काफी हंगामा हुआ. हालांकि कांग्रेस ने बोफोर्स के जवाब में राफेल सौदे का मुद्दा उठाया और अपने प्रचार के मुख्य बिंदु के तौर पर पेश किया. राहुल गांधी ने 'चौकीदार चोर है' का नारा दिया और इसी के इर्द गिर्द वे नरेंद्र मोदी सरकार को 'भ्रष्ट' बताते रहे. राहुल गांधी के 'चौकीदार' को नरेंद्र मोदी ने सुअवसर के तौर पर लिया और इसके जवाब में उन्होंने 'मैं भी हूं चौकीदार' अभियान चलाया. बीजेपी के मुताबिक यह अभियान कामयाब रहा जिसका फायदा वोटों के रूप में उसे मिला.

9-'महामिलावटी नेता'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने भाषणों में 'महामिलावटी नेताओं' का जिक्र करते सुने गए. उन्होंने बताया कि केंद्र से बीजेपी सरकार को हटाने और नरेंद्र मोदी को हराने के लिए विपक्षी नेता एक हो गए हैं. इनके बारे में उन्होंने कहा कि जो नेता एक दूसरे को कोसते रहते थे, वे अब उन्हें हराने के लिए एक हो गए हैं. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जिन नेताओं पर भ्रष्टाचार के आरोप हैं, जो वंशवाद को बढ़ावा देते रहे हैं, जो जमानत पर हैं, जो किसी भी सूरत में सत्ता पाना चाहते हैं, वे सभी नेता उन्हें हराने के लिए एक हो गए हैं. प्रधानमंत्री के मुताबिक, एक तरफ पूरा विपक्ष है तो दूसरी ओर अकेले मोदी.

10-सुशासन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुशासन का नारा दिया. जैसा कि 17 मई को खरगोन में प्रधानमंत्री ने कहा, मुझे प्रसन्नता है कि देश की जनता राष्ट्रभक्ति की प्रेरणा, अंत्योदय के दर्शन और सुशासन के मंत्र को लेकर चल रही और बीजेपी के प्रति अपना विश्वास प्रकट कर रही है. आतंकवाद और नक्सलवाद को खत्म करने की प्रतिबद्धता को जनता का भरपूर समर्थन मिल रहा है. देश की भावना है कि आतंकियों को घर में घुसकर मारा जाए. सुशासन के मुद्दे को प्रधानमंत्री ने अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन से जोड़ा और 25 दिसबंर को सुशासन दिवस मनाने की रवायत शुरू की. हर साल 25 दिसंबर को पूरे भारत में यह दिवस मनाया जाता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay